विश्व हिंदू महासंघ के राष्ट्रीय वेबिनार में सबोधित करते हुए यूपी के अध्यक्ष भिखारी प्रजापति ने कहा शरीर की नस नाड़ियों व श्वांस की विकृतियों को हम योग द्वारा ही ठीक कर सकते है,सभी राज्य के प्रमुख हुए शामिल

वेबीनार की अध्यक्षता करते हुए प्रदेश अध्यक्ष भिखारी प्रजापति ने कहा कि माननीय प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी जी के प्रस्ताव पर संयुक्त राष्ट्र संघ ने 21 जून सन 2015 को योग को अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस घोषित किया। यह हमारे लिए गर्व व गौरव का विषय है ।

लखनऊ

क्रिया योग हो या हठयोग दोनों को वैश्विक आयाम देने वाले महायोगी गुरु गोरखनाथ हैं। साधन को ही साध्य समझ लेना भूल है।उक्त बातें विश्व हिंदू महासंघ उत्तर प्रदेश द्वारा आयोजित योग हमारी प्राचीन विरासत है , विषय पर आयोजित संगोष्ठी में बतौर मुख्य अतिथि विश्व हिंदू महासंघ महाराष्ट्र के प्रदेश अध्यक्ष महंत मुकेश नाथ ने कही ।

महंत जी ने आगे कहा कि, महर्षि पतंजलि ने योग को कलमबध्द किया । इससे प्रचार प्रसार का दायरा चारों तरफ बढा़। आज भारत की योग विधा को पूरी दुनिया सराह रही है। आशीर्वचन के रूप में महंत डॉ प्रज्ञा भारती ने कहा कि योग हमारी प्राचीन विरासत है । आदि योगी भगवान शिव ,योग योगेश्वर भगवान श्री कृष्ण की योग विद्या को देश-विदेश में जन जन तक पहुंचाना हमारा दायित्व है ।

मुख्य वक्ता के रूप में योगाचार्य, विश्व हिंदू महासंघ मध्य प्रदेश की अध्यक्ष ,डॉक्टर नीलम मिश्र ने कहा कि योग हमारी ऋषि परंपरा की अमूल्य धरोहर है। आदिनाथ आदियोगी भगवान शिव पार्वती के संवाद से निकली यह विद्या योगी मत्स्येन्द्रनाथ से शिव अवतारी महायोगी गुरु गोरखनाथ के हठ योग पर आकर नाथपंथी योगियों द्वारा सर्वसामान्य तक पहुंचने लगी। कालांतर में कुछ प्रवृत्तियां तांत्रिक हो गईं ,जिससे आमजन दिग्भ्रमित होने लगा ।

गुरु गोरखनाथ के शिष्य स्वात्माराम ने हठयोग प्रदीपिका के माध्यम से आमजन के भ्रम को दूर किया। डॉ मिश्रा ने कहा कि प्राण वायु हमारे जीवन का मूल तत्व है । यह जितना ही शक्तिशाली होगा, हम उतना ही दीर्घायु होंगे। कुत्ता जल्दी-जल्दी सांस लेता है ,हांफता है, उसकी आयु कम होती है। जबकि कछुआ लंबी लंबी सांस लेता है इसीलिए उसकी आयु अधिक होती है । शरीर की नस नाड़ियों व श्वांस की विकृतियों को हम योग द्वारा ही ठीक कर सकते हैं ,इसलिए योग को हमें अपनी दिनचर्या का अंग बनाना चाहिए।

वेबीनार की अध्यक्षता करते हुए प्रदेश अध्यक्ष भिखारी प्रजापति ने कहा कि माननीय प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी जी के प्रस्ताव पर संयुक्त राष्ट्र संघ ने 21 जून सन 2015 को योग को अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस घोषित किया। यह हमारे लिए गर्व व गौरव का विषय है ।

धर्माचार्य प्रकोष्ठ के का. अध्यक्ष महंत डॉ हरिओम पाठक ने अपनी प्रस्तावना में कहा कि आज हम सातवां विश्व योग दिवस मना रहे हैं । हमें योग से सहयोग की ओर चलकर पूरे विश्व को एकजुट कर वसुधैव कुटुंबकम की सनातन विचारधारा को और मजबूत करना होगा । उन्होंने कहा कि ,योग दीर्घायु का महामंत्र भी है ।

संचालन प्रदेश उपाध्यक्ष श्याम बिहारी अवस्थी ने किया । वेबीनार में प्रदेश उपाध्यक्ष जयशंकर केसरी, सोशल मीडिया के प्रदेश अध्यक्ष आनंद जी टंडन प्रदेश मंत्री गण देवेंद्र सिंह तोमर अमर सिंह गंगवार प्रमोद त्यागी विष्णु कांत चौबे कामेश कुमार आर्य ,शरद परमार शिवम नाथ योगी वीरेंद्र सिंह ठाकुर अनिल कुमार गुप्त, रोशनी अग्रवाल आंशी हिंदू पुरुषोत्तम सरावगी पवन जैन शिवाजी अरविंद वर्मा उमेश कुमार ओझा ,अनिल कुमार प्रजापति राम सिंह यादव सोनू वर्मा ऋषभ झा ,रत्नेश कुमार अर्चना तिवारी अतुल शर्मा ,विनय सिंघल प्रमोद कुमार मिश्र डॉ राहुल कुमार ,प्रमोद मुरारका अनुराग राजपूत आनंद सिंह महेश कुमार प्रजापति, कंचन गंभीर अजय कुमार शुक्ला राम प्रसाद यादव आशुतोष त्रिपाठी राकेश सिंह ,राजकुमार, गंगा शर्मा कौशिक राजीव शरण गुरदीप सिंह अजीत कुमार प्रजापति, अवधेश कुमार श्रीवास्तव पूनम पांडे , किरण ,सीमा शुक्ला क्षमा दुबे हरि नारायण प्रजापति अमित सिंह संतोष कुमार सच्चिदानंद राजकुमार जायसवाल , स्कूल टीचर ,अग्रिम, रेडमी, हिंदू, गैलेक्सी ,जूम यूजर्स इत्यादि विभिन्न नामों से भी काफी संख्या में लोग संगोष्ठी में भाग लिए।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *