सुनील जाखड़, अंबिका सोनी या फिर सिंगला, पंजाब का अगला ‘कैप्टन’ कौन? आज लगेगी नाम पर मुहर

नई दिल्ली (IMNB). पंजाब कांग्रेस प्रमुख सुनील जाखड़, या पूर्व केंद्रीय मंत्री अंबिका सोनी या फिर राज्य के मंत्री विजय इंदर सिंगला। यह तीन नाम ऐसे हैं जो पंजाब के अगले ‘कैप्टन’ यानी राज्य के अगले मुख्यमंत्री की रेस में सबसे ऊपर बताए जा रहे हैं। कैप्टन अमरिंदर सिंह के इस्तीफे के बाद राज्य का अगला सीएम कौन होगा? इसे लेकर पार्टी आलाकमान के बीच मंथन जारी है और इन तीनों नामों की चर्चा सबसे ज्यादा है। बताया जा रहा है कि कुर्सी के अगले दावेदार के नाम पर रविवार की सुबह तक मुहर लग जाएगी। नाम तय होने तक ऑल इंडिया कांग्रेस कमेटी के ऑबजर्वर चंडीगढ़ में ही मौजूद रहेंगे। खबर है कि नए मुख्यमंत्री के नाम को लेकर नई दिल्ली में राहुल गांधी के आवास पर एक महत्वपूर्ण बैठक भी हुई है।
इससे पहले आज कांग्रेस विधायकों की एक बैठक हुई थी और इसमें यह फैसला लिया गया कि सोनिया गांधी ही नए मुख्यमंत्री के नाम पर मुहर लगाएंगी। सूत्रों के हवाले से खबर है कि राज्य कांग्रेस प्रमुख सुनील जाखड़ सीएम बनने की रेस में सबसे आगे चल रहे हैं। उनके अलावा जिन दो नामों की चर्चा सबसे ज्यादा है उनमें अंबिका सोनी और पंजाब के मंत्री विजय इंदर सिंगला शामिल हैं। पंजाब में अगले साल विधानसभा चुनाव होने हैं। कयास यह भी लगाए जा रहे हैं कि पंजाब में नए मुख्यमंत्री के अलावा दो डिप्टी चीफ मिनिस्टर भी बनाए जा सकते हैं।
इससे पहले पंजाब के मुख्यमंत्री अमरिंदर सिंह ने शनिवार को कांग्रेस विधायक दल की बैठक से पहले अपने पद से इस्तीफा दे दिया और कहा कि कुछ महीनों के भीतर तीन बार विधायकों की बैठक बुलाने के बाद उन्होंने खुद को अपमानित महसूस किया, जिसके बाद पद छोड़ने का फैसला किया।इस्तीफा देने के बाद राजभवन के बाहर संवाददाताओं से बातचीत में उन्होंने यह भी कहा कि वह अपने साथियों और समर्थकों के साथ बातचीत करने के बाद भविष्य के कदम एवं विकल्प पर फैसला करेंगे।
हालांकि, उन्होंने यह स्पष्ट किया कि फिलहाल वह कांग्रेस में हैं। अमरिंदर सिंह ने कहा कि कांग्रेस अलाकमान जिसे चाहे, उसे मुख्यमंत्री बना सकता है। इससे पहले, सिंह ने राज्यपाल बनवारीलाल पुरोहित से मुलाकात कर अपना और अपने मंत्रिपरिषद का इस्तीफा सौंपा। राजभवन के बाहर उन्होंने संवाददाताओं से कहा, ”मेरा फैसला आज सुबह हो गया था। मैंने कांग्रेस अध्यक्ष से बात की थी और उनसे कह दिया था कि इस्तीफा दे रहा हूं।”
सिंह के अनुसार, ”यह तीसरी बार हो रहा है। पहले विधायकों को बुलाया, दूसरी बार बुलाया और तीसरी बार बैठक कर रहे हैं। मैं अपमानित महसूस करता हूं। मेरे ऊपर अगर संदेह है तो ऐसे में मैंने फैसला किया कि मुख्यमंत्री पद छोड़ दिया जाए। उन्होंने कहा कि कांग्रेस आलाकमान को जिस पर भरोसा हो, उसे मुख्यमंत्री बना सकता है। यह पूछे जाने पर कि उनकी भविष्य की रणनीति क्या होगी तो अमरिंदर सिंह ने कहा, ”मेरी 52 साल की राजनीति में जिन लोगों ने मेरा साथ दिया, उनके साथ बातचीत करने के बाद इस बारे में फैसला करूंगा। इस सवाल पर कि क्या वह नए मुख्यमंत्री का फैसला करेंगे तो उन्होंने कहा कि अपने साथियों से चर्चा के बाद ही कोई निर्णय लेंगे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *