Tag: कमरछठ ” व्रत” महिला स्वास्थ्य सुरक्षा व पोषण का पर्व

कमरछठ ” व्रत” महिला स्वास्थ्य सुरक्षा व पोषण का पर्व
खास खबर, छत्तीसगढ़ प्रदेश, रायपुर

कमरछठ ” व्रत” महिला स्वास्थ्य सुरक्षा व पोषण का पर्व

रायपुर, 8 अगस्त 2020। छत्तीसगढ़ में महिलाओं द्वारा वर्षा ऋतु में रखा जाने वाला व्रत कमरछठ यानी हल षष्ठी व्रत को संतान के स्वास्थ्य और दीर्घ आयु से जोड़कर देखा गया है लेकिन इस पर्व का वैज्ञानिक आधार भी है| इस दिन महिलाएं दिन भर निर्जला उपवास रखती हैं और दिन भर में केवल महुआ की लकड़ी और महुआ की खरी का ही इस्तेमाल करती हैं । उपवास की सामग्री में महुआ के पत्ते की थाली (पतरी), महुआ की लकड़ी का चम्मच, महुआ का तेल (टोरी तेल) उपयोग में लाया जाता है तथा लाई, धान, महुआ के सुखे फुल, बटर, गेहूँ, चना का भी विशेष महत्व बताया गया। पूजा के लिए कुंड खोदकर पूजा अर्चना करती हैं। गाय की पूजा करते हैं अतः इस दिन भैंस के दूध एवं घी,दही का सेवन करते हैं। बिना हल चलाए उपजे धान का चावल यानी पसहर चावल और 6 प्रकार की भाजी पकाते हैं । ऐसी 6 प्रकार की भांजियां जो बिना हल चलाए उगने वाली होती है इनमें मुनगा, जरी...