Wednesday, February 1

Tag: छत्तीसगढ़ की धरती कभी रही थी बुद्ध की भूमि – प्रोफ़ेसर राजेंद्र प्रसाद सिंह

छत्तीसगढ़ की धरती कभी रही थी बुद्ध की भूमि – प्रोफ़ेसर राजेंद्र प्रसाद सिंह
खास खबर, छत्तीसगढ़ प्रदेश, दुर्ग

छत्तीसगढ़ की धरती कभी रही थी बुद्ध की भूमि – प्रोफ़ेसर राजेंद्र प्रसाद सिंह

दुर्ग/ भिलाई, 12 नवम्बर 2022 / मूलनिवासी कला साहित्य और फ़िल्म फेस्टिवल- 2022 का दो दिवसीय आयोजन नेहरू ऑफ़ कल्चर सेक्टर-1 भिलाई में किया जा रहा है. इस अवसर पर बिहार आरा से आए देश के जानेमाने भाषाविद और इतिहासकार प्रोफ़ेसर राजेंद्र प्रसाद सिंह ने प्राचीन भारत के इतिहास और सभ्यता का पुनर्विलोकन विषय को लेकर कहा कि विश्व विद्यालयों में इतिहास और हिंदी साहित्य में बहुत सारी चीजों को उल्टा पढ़ और पढ़ा रहे है, वास्तव कुछ है और उसके बारे में कुछ और बताया जा रहा है. इसको सीधा करना होगा. जो आम आदमी से सीधा नही होगा। हिंदी साहित्य का इतिहास गलत पढ़ा रहे हैं. हिंदी भाषा का विकास अपभ्रंश से हुआ है। अपभ्रंश का मतलब नीचे गिरा हुआ होता है. किसी आचार्य ने संस्कार की भाषा संस्कृत को कह दिया और हिंदी को अपभ्रंश बताया जा रहा है. ये हिंदी को किसी ने गलती से कह दिया. उन्होंने कहा कि संविधान ने लिंग के आधार पर भेद...