Tag: 23 मार्च शहादत पर विशेष लेख भगतसिंह और आज की चुनौतियां

23 मार्च शहादत पर विशेष लेख भगतसिंह और आज की चुनौतियां
खास खबर, लेख-आलेख

23 मार्च शहादत पर विशेष लेख भगतसिंह और आज की चुनौतियां

  23 मार्च कल भगत  सिंह, सुखदेव, राजगुरु की शहादत दिवस                                                             आलेख : --संजय पराते    भगत सिंह को 23 मार्च 1931 को फांसी की सजा दी गई थी और अपनी शहादत के बाद वे हमारे देश के उन बेहतरीन स्वाधीनता संग्राम सेनानियों में शामिल हो गये, जिन्होने देश और अवाम को निःस्वार्थ भाव से अपनी सेवाएं दी। उन्होंने अंगेजी साम्राज्यवाद को ललकारा। मात्र 23 साल की उम्र में उन्होनें शहादत पाई, लेकिन शहादत के वक्त भी वे आजादी के आंदोलन की उस धारा का प्रतिनिधित्व कर रहे थे, जो हमारे देश की राजनैतिक आजादी को आर्थिक आजादी में बदलने के लक्ष्य को लेकर लड़ रहे थे, जो चाहते थे कि आजादी के बाद देश के तमाम नागरिको को जाति, भाषा, संप्रदाय के परे एक सुंदर जीवन जीने का और इस हेतु रोजी-रोटी का अधिकार मिले। निश्चित ही यह लक्ष्य अमीर और गरीब के बीच असमानता को खत्म ...