Tag: Bhagwat Katha

सुरेश्वर महादेवपीठ,भागवत कथा,भगवान श्री राम का अवतार मनुष्य को सुंदर चरित्र सीखने और धर्म की स्थापना के लिए हुआ था,कथा वाचक कामता प्रसाद
खास खबर, छत्तीसगढ़ प्रदेश, रायपुर

सुरेश्वर महादेवपीठ,भागवत कथा,भगवान श्री राम का अवतार मनुष्य को सुंदर चरित्र सीखने और धर्म की स्थापना के लिए हुआ था,कथा वाचक कामता प्रसाद

श्री सुरेश्वर महादेव पीठ में चल रही श्री मद्भागवत भक्ति ज्ञान यज्ञ के चतुर्थ दिवस में व्यास पीठ पर विराजमान भागवत कथा के सरल मृदुभाषी कथा वाचक श्री कामता प्रसाद तिवारी जी महाराज ने आज कथा में भगवान श्री राम के अवतार की कथा सुनाते हुए भक्तो को बताए कि भगवान श्री रामजी ने हम मनुष्यो को सुंदर चरित्र सिखाने के लिए एवम धर्म की स्थापना के लिए अवतार लिए है इसी कड़ी में भगवान श्री कृष्ण अवतार की कथा श्रवण कराते हुए महाराज श्री ने बताया कि जब पृथ्वी पर अत्यचार बढ़ जाता है सन्तो पर अत्यचार होने लगता है और गाय की रक्षा नही होती उस समय भगवान को अवतार लेना पड़ता है भगवान श्री कृष्ण का अवतार भी राक्षसों संहार कर अपने भक्तों की रक्षा करने के लिए हुआ कथा बताते हुए बड़े हर्षोल्लास के साथ भगवान श्री बाल कृष्ण के प्रागट्य उत्सव को भव्य रूप से मनाया गया जिसमे प्रमुख रूप से स्वामी श्री राजेश्वरानंद नन्द जी महाराज ...
सुरेश्वर महादेव पीठ, भागवत  कथा,भारतवर्ष में तीन भरत हुए है कैकई नंदन शकुंतला नंदन ऋषभदेव के पुत्र इनके नाम से ही भारत वर्ष पड़ा
खास खबर, छत्तीसगढ़ प्रदेश, रायपुर

सुरेश्वर महादेव पीठ, भागवत कथा,भारतवर्ष में तीन भरत हुए है कैकई नंदन शकुंतला नंदन ऋषभदेव के पुत्र इनके नाम से ही भारत वर्ष पड़ा

आज श्री सुरेश्वर महादेव पीठ में चल रही श्रीमद्भागवत कथा के चतुर्थ दिवस पर भागवताचार्य कामता प्रसाद तिवारी जी ने बताया कि भारतवर्ष में तीन भरत हुई है कैकई नंदन शकुंतला नंदन ऋषभदेव के पुत्र इनके नाम से ही भारत वर्ष पड़ा एवं भगवान नारायण के नाम की महत्वता प्रतिपादित करते हुए अजामिल जैसा पापी अंतिम में पुत्र के बहाने उच्चारण किया जिसके कारण उसे मोक्ष प्राप्ति हुई एवं प्रह्लाद चरित्र का वर्णन हुआ दैत्य कुल में जन्म लेने के बाद भी भगवान को प्रकट किया भगवान नरसिंह रूप धारण करके हिरण्यकश्यप का वध किया एवं उसके समस्त कुल का उद्धार किया एक भी भक्त यदि अपने कुल में जन्म ले टॉपने कुल का 21 पीढ़ियों का उद्धार हो जाता है जिसमें आज प्रमुख रूप से स्वामी राजेश्वरानंद जी उमाकांत मिश्रा गोपाल शर्मा हरीश भाटिया राजकुमार दाधीच महेश दाधीच राकेश धोत्रे एवं सर्वमंगला ग्रुप से काफी संख्या में महिलाओं की उपस्थिति ...