Tag: but with kalams and kalamkars

बस्तर की पहचान बंदूक से नहीं, बल्कि कलम और कलमकारों से होगी, मुख्यमंत्री भूपेश बघेल
खास खबर, छत्तीसगढ़ प्रदेश

बस्तर की पहचान बंदूक से नहीं, बल्कि कलम और कलमकारों से होगी, मुख्यमंत्री भूपेश बघेल

रायपुर, 25 जनवरी 2021/ मुख्यमंत्री श्री भूपेश बघेल ने कहा कि बस्तर की पचान अब बंदूक से नहीं बल्कि कलम से होगी। उन्होंने यह उद्गार आज जगदलपुर में लाला जगदलपुरी जिला संग्रहालय के लोकार्पण के अवसर पर व्यक्त किया। इसके साथ ही उन्होंने लाला जगदलपुरी के जन्म शताब्दी पर आयोजित साहित्य सम्मेलन का समापन भी किया। मुख्यमंत्री ने इस अवसर पर लाला जगदलपुरी के नाम पर पुरस्कार प्रदान करने के साथ ही प्रतिवर्ष साहित्य सम्मेलन के आयोजन की घोषणा की। उन्होंने यहां की धरोहरों को संरक्षित करने का कार्य किए जाने की बात भी कही। मुख्यमंत्री ने इस अवसर पर कहा कि बस्तर को पहले दशहरा, घोटुल, मुर्गा लड़ाई और यहां की प्राकृतिक सुंदरता के तौर पर जाना जाता था। उसके बाद लाल आतंक के कारण बस्तर के साथ-साथ पूरे प्रदेश की पहचान नक्सलगढ़ के रुप में होने लगी। मगर अब बस्तर की पहचान बदल रही है और इस क्षेत्र की पहचान बंदूक से नहीं...