Tag: Chhattisgarh not even behind

गिरती अर्थव्यवस्था, बढ़ती किसान आत्महत्याएं : मध्यप्रदेश आगे, तो छत्तीसगढ़ भी पीछे नहीं
खास खबर, छत्तीसगढ़ प्रदेश, मध्यप्रदेश, रायपुर

गिरती अर्थव्यवस्था, बढ़ती किसान आत्महत्याएं : मध्यप्रदेश आगे, तो छत्तीसगढ़ भी पीछे नहीं

* (आलेख : संजय पराते) किसी भी देश में आत्महत्या की दर उसके सामाजिक स्वास्थ्य का संकेतक होती है। हमारे देश में राष्ट्रीय अपराध रिकॉर्ड ब्यूरो (एनसीआरबी) इसके विश्वसनीय आंकड़ें उजागर करता है। लेकिन किसान आत्महत्याओं की बढ़ती खबरों के बीच मोदी के नेतृत्व वाली केंद्र सरकार के दबाव में तीन साल बाद एनसीआरबी ने ये आंकड़े सार्वजनिक किए हैं और इसने समूचे देश को झकझोरते हुए मोदी सरकार के विकास के दावों और उसकी नीतियों की पोल खोलकर रख दी है। एक सवाल स्पष्ट रूप से पूछा जा सकता है कि यदि देश विकास कर रहा है, तो लोग आत्महत्या करने पर मजबूर क्यों हो रहे हैं? क्या गिरती जीडीपी का बढ़ती आत्महत्याओं से कोई संबंध नहीं है? एनसीआरबी के अनुसार पिछले वर्ष 2019 में 1.39 लाख से ज्यादा लोगों ने आत्महत्या की है और वर्ष 2018 की तुलना में इसमें 3.42% की वृद्धि हुई है। वर्ष 2017 में जहां प्रति लाख आबादी में 9.9 ...