Tag: Positive thinking campaign and script from commentary festival to service week

सकारात्मक सोच की मुहिम और टीका उत्सव से लेकर सेवा सप्ताह तक की पटकथा
खास खबर, छत्तीसगढ़ प्रदेश, रायपुर, लेख-आलेख

सकारात्मक सोच की मुहिम और टीका उत्सव से लेकर सेवा सप्ताह तक की पटकथा

- सुशील आनंद शुक्ला कोरोना के दूसरे लहर के भीषण प्रकोप के गलगभग एक पखवाड़े बाद भाजपा और संघ के बौद्धिक रणनीतिकारों ने सोशल मीडिया और समाचार माध्यमो के पटल पर एक मुहिम की शुरुआत की जिसका नाम दिया सकारात्म सोच ।निश्चित तौर पर सकारात्मकता अच्छी चीज है,जीवन मे बेहतर करने के लिए सकारात्मक होना और परिस्थितियों के बारे में आशावादी दृष्टिकोण जरूरी है।देश मे महामारी के वर्तमान संकट के समय सकारात्मक सोच को जिस दृष्टिकोण में प्रस्तुत किया जा रहा उस नीयत पर सवाल खड़ा हो रहा है ।जब किसी के परिजन की कोरोना से दवा और इलाज न मिलने के कारण मौत हुई हो ।जब किसी को अपने माँ बाप भाई बहन पुत्र को ले कर अस्पताल दर अस्पताल बेड के लिए भटकने के बाद भी बेड न मिला हो और आंखों के सामने बिना इलाज के तड़फते हुए परिजन की मौत का मंजर हो तब उससे आशावादी दृष्टिकोण की बात करना न सिर्फ बेमानी है ,अमानवीय भी है। सकारात्मक सो...