Tag: singing traditional rituals and offering prayers to the deity family

चोलनार करसाड़ समापन—-ढोल नगाड़े गाजे बाजे के साथ नाच गाकर पारंपरिक रीति रिवाज से पूजा पाठ कर देवी देवता परिवार को दी गई विदाई
खास खबर, छत्तीसगढ़ प्रदेश, दंतेवाड़ा

चोलनार करसाड़ समापन—-ढोल नगाड़े गाजे बाजे के साथ नाच गाकर पारंपरिक रीति रिवाज से पूजा पाठ कर देवी देवता परिवार को दी गई विदाई

https://youtu.be/ox_6DiVOVC4   । *2 दिन तक चलने वाले मेले में दूरदराज क्षेत्र के सैकड़ों ग्रामीण पैदल पहुंचे थे मंढाई स्थल* *कुटुंब मण्डावी परिवार के न्योते पर देवी देवता के कई परिवार हुए थे मेले में शामिल।* संजीव दास-दंतेवाड़ा जिला मुख्यलय दंतेवाड़ा से 46 किमी दूर स्थित विकासखण्ड कुआकोंडा के ग्राम चोलनार में मंगलवार से चोलनार करसाड़ का आयोजन किया गया जो बुधवार शाम को समापन हुआ।मंढाई में कुटुम्ब मण्डावी परिवार के न्योता पर क्षेत्र के सैकड़ो देवी देवता के परिवार शामिल हुए।बेंगुर से पेन पाल बामन , पुजारी , जयराम , थलापति जयराम अनालपेनो के साथ अनेक ग्राम प्रमुख व देवी देवताओं के परिवार शामिल हुए।2 दिन तक आयोजित मेला में दूरदराज क्षेत्र के सैकड़ों ग्रामीण पैदल चलकर मंढाई स्थल पहुँचे थे।बुधवार ढोल नगाड़े गाजे बाजे के साथ नाच गाकर पारंपरिक रीति रिवाज से पूजा पाठ कर देवी देवता...