Tag: Special article on Hindi day

हिंदी दिवस पर विशेष लेख, भाषा की उपेक्षा संस्कृति के विकास में बाधक
छत्तीसगढ़ प्रदेश, लेख-आलेख

हिंदी दिवस पर विशेष लेख, भाषा की उपेक्षा संस्कृति के विकास में बाधक

किशोर कर "वरिष्ठ पत्रकार" भाषा भावों की अभिव्यक्ति है, विचारों का परिधान है, अव्यक्त भाषा से ही प्राणवान होकर व्यक्त होता है । धर्म , संस्कृति, इतिहास, साहित्य सभी भाषा से ही आकार लेते हैं। प्रत्येक की अपनी भिंन्न भाषा होती है जिससे उपयोगिता के आधार पर इसका विकास होता है । भाषा रूपी इस सांस्कृतिक विरासत को नजर अंदाज करने से यह निरंतर ह्रास होती जा रही है । भाषा संस्कृत शब्दावली की "भाष" धातु से बनी है जिसका अर्थ बोलना या कहना है। इस संबंध में महान दार्शनिक प्लेटो का कहना है कि विचारों की आत्मा का मुख्य अध्यापक संकेत यही जब तक होकर शब्दों द्वारा प्रकट होता है तो इसे भाषा की संज्ञा दी जाती है भाषा पर संकेत का एक माध्यम है भाषा की उत्पत्ति का सिद्धांत 20वीं सदी में बर्नार्ड जोहंसवर्ग और हमफ्री जैसे विद्वानों द्वारा प्रतिपादित किया गया है महाद्वीप, देश, धर्म, काल आकृति, परिवार के प्रभाव...