Tag: The talk of senior journalist Chandra Shekhar Sharma is unequivocal

वरिष्ठ पत्रकार चंद्र शेखर शर्मा की बात बेबाक,,,मैं कवर्धा बोल रहा हु
कवर्धा, लेख-आलेख

वरिष्ठ पत्रकार चंद्र शेखर शर्मा की बात बेबाक,,,मैं कवर्धा बोल रहा हु

बात बेबाक चन्द्र शेखर शर्मा (एडिटर IMNB)9425522015 छत्तीसगढ़ गठन के बाद जिले की राजनीति की तस्वीर और तासीर दोनो बदलने लगी । धर्मनगरी के नाम से विख्यात कबीरधाम जिले की राजनीति इन दिनों भगवा , झन्डा - डंडा ,आडियो - वीडियो सीडी और जातिवाद के इर्दगिर्द घूमने लगी है । जातिवाद का दम्भ भरने वाले तेली कुर्मी और पटेलों के गढ़ में अकबर सेंध लगाकर सत्ता के उच्च शिखर पर (कहने भर को मुख्यमंत्री नही ) है । समयानुसार बदलती जिले के राजनीतिक आबो हवा के चलते जातिवाद के सहारे अपनी राजनीतिक महत्वाकांक्षा को पूरा करने वालो को जनता जनार्दन ने एक बार पटखनी दे जरूर उनको आसमान से धरातल पर ला कर पटका है । जिनमे प्रमुखतः आजादी के बाद के राजा योगिराज , डॉ सियाराम साहू , मोतीराम चन्द्रवंशी , अशोक साहू, लालजी चन्द्रवंशी के साथ साथ प्रदेश में सरकार की 15 बरस लगाम थामने वाले डॉक्टर रमन सिंह का नाम लिया जा सकता है । रा...
वरिष्ठ पत्रकार चंद्र शेखर शर्मा की बात बेबाक,, 12 जून विश्व बाल श्रम निषेध दिवस पर विशेष,,, “ऐ छोटू जरा दो चाय लाना , साथ मे पानी भी ले आ ” “छोटू टेबल तो साफ कर साहब लोग आएला”
खास खबर, देश-विदेश, लेख-आलेख

वरिष्ठ पत्रकार चंद्र शेखर शर्मा की बात बेबाक,, 12 जून विश्व बाल श्रम निषेध दिवस पर विशेष,,, “ऐ छोटू जरा दो चाय लाना , साथ मे पानी भी ले आ ” “छोटू टेबल तो साफ कर साहब लोग आएला”

     बात बेबाक चंद्र शेखर शर्मा (पत्रकार)9425522015 "ऐ छोटू जरा दो चाय लाना , साथ मे पानी भी ले आ " "छोटू टेबल तो साफ कर साहब लोग आएला" ये बोल अक्सर होटलो ढाबो में सुनाई पड़ते है । हम मस्त चाय पे चर्चा करके अपनी मोबाईल , सोशल मीडिया में लाइक्स बटोरू सेल्फी विद चाय जैसी दुनियादारी में मस्त रहते है अचानक याद आता है अरे बेटा आज तो 12 जून विश्व बाल श्रम निषेध दिवस है । बाल श्रम रोकने कुछ तो करना होगा बच्चो का शोषण हो रहा है । हम देश के भविष्य की चिंता नही करेंगे तो फिर कौन करेगा और हमारे अंदर का तथाकथित सेल्फी प्रेमी छपासरोगी समाजसेवी नामक जीव अचानक भयानक जाग जाता है । विश्व बाल श्रम निषेध दिवस पर गर्मी में एसी कूलर की हवा खा रहे अफसर , बाल संरक्षण आयोग के सदस्य , महिला बाल विकास विभाग के अफसर भी लोगों को जागरूक करने और बाल श्रम रोकने निकल पड़ते है । फाईलो का पेट भरने और बड़े साहब को दिखाने ...
वरिष्ठ पत्रकार चंद्र शेखर शर्मा की बात बेबाक, कभी कांग्रेस राज की महंगाई जो डायन हुआ करती थी भाजपा राज में डार्लिंग बन बैठी है
खास खबर, छत्तीसगढ़ प्रदेश, रायपुर

वरिष्ठ पत्रकार चंद्र शेखर शर्मा की बात बेबाक, कभी कांग्रेस राज की महंगाई जो डायन हुआ करती थी भाजपा राज में डार्लिंग बन बैठी है

      चंद्र शेखर शर्मा  mo 9425522015 रुकता नही तमाशा, रहता है खेल जारी । उस पे कमाल ये , दिखता नही मदारी ।। बुद्धुबख्शे में बेमतलब की बहस और राजनीति में आता घटियापन से सुन्न पड़े दिमाग मे कुछ सूझ नही रहा सो कल दिमाग मे गोबर भर कर सो गया शायद कका की गोबर खाद वाला आइडिया काम आए तो दिमाग मे सुबह कुछ उपजाऊ नेस आ जाये । कोरोना आँटी के इश्किया मकड़जाल में उलझी जनता जनार्दन त्रस्त है सत्ता मदमस्त है तो विपक्ष एलईडी के जमाने मे भी ट्यूबलाइट के भरोसे जी रही है । अब ट्यूबलाइट कौन है मत पूछना हम बताएंगे भी नही। कभी कांग्रेस राज की महंगाई जो डायन हुआ करती थी भाजपा राज में डार्लिंग बन बैठी है । पेट्रोल शतक लगा चुका तो खाद्य तेल भी कहाँ पीछे रहने वाला वह पेट्रोल से दुगनी रफ्तार से दोहरे शतक की ओर लगातार अग्रसर है । कोरोना काल मे रोजगार से हाथ धो बैठे निठल्ले बिचारे निठल्ला चिन्तन भी नही कर पा रहे । ल...
वरिष्ठ पत्रकार चंद्र शेखर शर्मा की बात बेबाक, तलवे चाटकर नहीं चमके, मेहनत वाली बात है ,
कवर्धा, खास खबर, छत्तीसगढ़ प्रदेश, लेख-आलेख

वरिष्ठ पत्रकार चंद्र शेखर शर्मा की बात बेबाक, तलवे चाटकर नहीं चमके, मेहनत वाली बात है ,

बात बेबाक चंद्र शेखर शर्मा (पत्रकार) 9425522015 तलवे चाटकर नहीं चमके, मेहनत वाली बात है जलने वाले जलते रहें, चाहने वाले साथ हैं । विधायकी के ख्वाब के पीछे भागती भावना इन दिनों राजनैतिक गलियारों में चर्चा का विषय बनी हुई है । उनकी तैयारियों से पंडरिया विधायक व विधायकी के दावेदारों में हड़कंप मचा हुआ है । जिले की राजनीति में अपनी स्वतंत्र पहचान बनाने की कवायद में अपने धनबल व मैनेजमेंट के जरिये राजनैतिक जमीन पक्की करने में जुटी भाजपा नेत्री भावना बोहरा ने अपने जिला पंचायत क्षेत्र की जनता को कोरोना काल मे निशुल्क एम्बुलेंस की सेवा के बाद अपने क्षेत्र की बच्चियों की उच्च शिक्षा में बाधा बन रही आवागमन की दिक्कतों के लिए निशुल्क बस सेवा प्रारंभ कर दिखावे की जन सेवा कर बड़ा प्रचार कर राजनीति की दुकानदारी चमकाने वाले नेताओं को आइना दिखाया है । हांलाकि भावना ट्रस्ट के नाम पर निजी कार्यक्रम के बहान...