Tag: want to be like this

ऐसा चाहूँ राज मैं …
देश-विदेश, लेख-आलेख

ऐसा चाहूँ राज मैं …

ऐसा चाहूँ राज मैं ..... बेगमपुरा की कल्पना करने वाले रविदास भारत के बड़े चिंतको और दार्शनिको मे होते अगर उनका साहित्य , बोल, भाषण, लेखन हमारे बीच होता। आज उनकी कुछ लाइन, चलती फिरती हमारे बीच सामने आ जाती है लेकिन उनकी बातें दबा दी गयी, खत्म कर दी गयी, और भारत को बेगमपुरा बनाने का सपने को साकार रूप देने के लिए कई सौ साल बाद डॉ आंबेडकर द्वारा निर्मित भारत का खाका सामने आया। बेगमपुरा अर्थात ऐसा देश/ समाज जो बिना गम के हो। रविदास की ये लाइन आज भी लोगो के जेहन मे है कि जात –जात मे जाती है,ज्यो केलन को पात, रविदास मानुष नहीं जुड़ सके , जब तक जाती न जात... एक अर्थ में रविदास की यह कल्पना अदितीय है, जो अंबेडकर के उस भाषण कि याद दिलाता है ज़ो हो न सका लेकिन बाद मे खूब पढ़ा जा रहा है, यानि ‘’जाति का उच्छेद’’। जब तक जाति का विनाश नहीं होगा , रैदास का भारत, बेगमपुरा नहीं बन सकता।जब तक जाति नहीं जाएगी, तब...