आम आदमी पार्टी ने बताया भूपेश सरकार के बजट को निराशाजनक कहा–आम जनता के लिए बजट में कुछ भी नहीं

रायपुर। आम आदमी पार्टी छत्तीसगढ़ के सचिव उत्तम जायसवाल ने भूपेश सरकार के तीसरे बजट को निरशाजनक बताया है। उन्होंने कहा है कि मुख्यमंत्री भूपेश बघेल बजट पेश करने से पहले ट्विटर में बड़ी-बड़ी डींगे हांक रहे थे, कह रहे थे छत्तीसगढ़ को पीछे जाने नहीं देंगे। लेकिन जब उन्होंने अपना बजट भाषण देना शुरू किया तो यह बजट प्रदेश को पीछे ले जाने वाला ही साबित हुआ।

जायसवाल ने कहा कि अब तक हमने बजट को बढ़ते हुए देखा था, लेकिन इस बार बजट घट गया है। मुख्यमंत्री भूपेश बघेल कथन के अनुसार राज्य कोरोना काल के बावजूद हर मोर्चे पर उपलब्धियां हासिल की है, लेकिन इस बजट को देखकर यह बिलकुल नहीं लगता है। मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने अपना पहला बजट पेश करते हुए कहा था कि दो साल किसानों को समर्पित होगा, इसके बाद शासकीय कर्मचारियों को बजट में राहत दी जाएगी, लेकिन इस बजट में ऐसा कुछ देखने को भी नहीं मिला। पुलिस के कर्मचारियों के लिए भी कोई घोषणा देखने को नहीं मिली।

उन्होंने कहा इस बजट में सरकार ने एक बार फिर महिलाओं से छल किया है। शराबबंदी का वादा करके सत्ता में आई कांग्रेस शराबबंदी की ओर बढ़ने के बजाय शराब के व्यापार में 5500 करोड रुपए और अधिक कमाने का लक्ष्य निर्धारित कर रही हैं। उसी तरह परिवहन विभाग से भी नए चेकपोस्ट की स्थापना कर राजस्व की अपेक्षा कर रही है जो काफी निराशाजनक है।

पिछले वर्षों में महिलाओं के खिलाफ लगातार अनाचार, अपहरण, और हिंसा की घटनाएं बढ़ी है। परंतु सरकार ने इस पर कोई बात नहीं की है। “गढ़बो नवा छत्तीसगढ़” के नारे लगाने वाली सरकार के क्रियाकलाप से छत्तीसगढ़ अपराध के नए कीर्तिमान की ओर बढ़ रहा है। एक तरफ कांग्रेस सरकार पुलिस कर्मियों को पदक देने की बात कर रही है दूसरी तरफ कांग्रेस के कार्यकर्ता थानों में घुसकर पुलिसकर्मियों को पीट रहे हैं । कांग्रेस के जन घोषणा पत्र में किए वादे के महिला स्व सहायता समूह को कर्जा माफ करने के बाद करने के बजाए बजट में जो व्यवस्थाएं रखी गई है वह उठ के मुंह में जीरा साबित होगा।

प्रदेश सरकार ने बजट में राशि का जैसा प्रावधान किया है, उससे प्रदेश सरकार की नीयत और नीति को लेकर यह सवाल उठना लाजिमी है कि प्रदेश सरकार क्या वास्तव में कोई ठोस कार्य करने का इरादा रखती है या फिर बस बजट पेश करने की रस्म अदायगी करके अपनी जिम्मेदारी पूरी कर रही है? उन्होंने कहा कि प्रदेश सरकार का यह बजट कोई नई आशा नहीं जगा रहा है। आम जनजीवन की सुविधाओं से जुड़ीं कई मदों में तो सरकार ने राशि का पर्याप्त प्रावधान तक नहीं किया है, जिसके चलते प्रदेश सरकार की योजनाएँ आखिरकार दम तोड़ने विवश हो जाएंगीं। यह पूरा बजट प्रदेश सरकार का वह सब्जबाग है, जहाँ आम आदमी अपना सब कुछ लुटाने के के विवश होगा।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *