दसवी बारहवी के कमार बच्चे बनना चाहते हैं कलेक्टर, डॉक्टर,शिक्षक, कलेक्टर डोमन सिंह एसपी प्रफुल्ल ठाकुर ने बढ़ाया हौसला घुमाया अपने बंगले में भोज और खेल से जगाया अपना पन

कलेक्टर, एसपी एवं सीईओ ने कमार बच्चों का बढ़ाया हौसला
 

महासमुंद 13 फरवरी 2021/ कलेक्टर श्री डोमन सिंह उनकी धर्मपत्नी एवं उनकी पुत्री ने आज जिले के विभिन्न स्कूलों में शैक्षणिक सत्र 2020-21 में अध्ययनरत् कक्षा दसवीं एवं बारहवीं के कमार जनजाति के छात्र-छत्राओं से अपने सरकारी निवास  पर आत्मीयता के साथ मुलाकात की। सभी बच्चों को गुलाब का फुल देकर उनका स्वागत किया गया और बच्चों के साथ सामूहिक फोटो खिंचवाएं। कमार जनजाति जिसे राष्ट्रपति के दत्तक पुत्र भी कहा जाता है। ये सभी विद्यार्थी स्कूल शिक्षा विभाग के समन्वय से जिले के विभिन्न स्कूलों से आए थे । इन सभी  26 कमार जनजाति के बच्चों को कलेक्टर श्री डोमन सिंह उनकी धर्मपत्नी एवं उनकी पुत्री ने आत्मीय स्वागत किया।
इसके उपरांत कलेक्टर श्री डोमन सिंह ने सभी बच्चों को अपने निवास का भ्रमण कराया। विद्यार्थियांे ने कलेक्टर निवास के सभी स्थलों को बड़े ध्यान से देखा। छात्र-छात्राओं ने पहली बार कलेक्टर के परिवार के सदस्यों से मिलकर काफी अभिभूत हुए। विद्यार्थियों को कलेक्टर एवं उनकी धर्मपत्नी ने बड़े ही परिवारिक माहौल के साथ उनका हालचाल जाना। इस दौरान बच्चें भी उनसे काफी घुल मिल गए। विद्यार्थी बेझिझक होकर अपनी पढ़ाई लिखाई सहित अन्य विषयों पर बातचीत की ।
कलेक्टर के निवास पर पारिवारिक माहौल में कैसे चार-पाँच घण्टें बीते बच्चों को पता भी नहीं चला। क्योंकि वहां बच्चों के लिए कुर्सी दौड़, अंताक्षरी, गीत सहित अन्य तरह के खेल प्रतियोगिताओं एवं प्रीति भोज का आयोजन किया गया। जहां बच्चों ने विभिन्न प्रकार के स्वादिष्ट व्यंजनों एवं भोजन का लुत्फ उठाया। इस अवसर पर बच्चों ने कमार गीत, देशभक्ति एवं छत्तीगढ़ी गीत, कविता का गायन किया। कलेक्टर ने बच्चों की प्रतिभा को देखकर उनका मनोबल बढ़ाया और प्रतियोगिता के विजेताओं को पुरस्कृत किया गया। इसके उपरांत बच्चों को काॅपी, किताब सहित सामान्य ज्ञान की किताबें भी उपलब्ध कराया गया। इस अवसर पर अपर कलेक्टर श्री जोगेन्द्र कुमार नायक, एसडीएम श्री सुनील कुमार चन्द्रवंशी, डिप्टी कलेक्टर सुश्री पूजा बंसल, जिला शिक्षा अधिकारी श्री राॅबर्ट मिंज, सहायक संचालक श्री हिमांशु भारतीय, श्री एम.जे. सतीश नायर, विकासखण्ड शिक्षा अधिकारी श्रीमती एस. चन्द्रसेन सहित शिक्षा विभाग के अधिकारी एवं शिक्षकगण उपस्थित थे।
इस दौरान कलेक्टर श्री डोमन सिंह ने विद्यार्थियों को संबोधित करते हुए कहा कि अभी आप सभी जो कक्षा दसवीं एवं बारहवीं की बोर्ड कक्षा में अध्ययनरत् है। वे बेझिझक होकर परीक्षा दें और बेहतर परिणाम लाने की कोशिश करें। जो विद्यार्थी कुछ बड़ा करने की सपनें देखते हैं, वे लगातार लगन के साथ मेहनत करें तो अवश्य उन्हें सफलता मिलेगी। विद्यार्थी अपने उद्देश्य को प्राप्त करने के लिए कभी भी तनाव न लें। हमें अपने आस-पास की चीजों से अच्छी चीजें ग्रहण करना चाहिए। छोटी-छोटी चीजों से ही एक दिन बड़ी सफलता अवश्य प्राप्त होती है। उन्होंने कहा कि राज्य शासन द्वारा सभी वर्गों के कल्याण के लिए विभिन्न प्रकार की योजनाएं संचालित की जा रही है।
इस अवसर पर पुलिस अधीक्षक श्री प्रफुल्ल कुमार ठाकुर ने कहा कि यह एक तरह का नवाचार है। उन्होंने कहा कि हम लोग भी छोटे गांव से आए हैं। हमारी पढ़ाई-लिखाई भी गांवों में हुई है। विद्यार्थियों को हमेशा लक्ष्य निर्धारित कर पढ़ना चाहिए। मेहनत से कभी भी घबराना नहीं चाहिए। लगातार मेहनत करने से सफलताएं आपकी कदम चुमेगी। आगे बढ़ने के लिए हमें हमेशा दृढ़ ईच्छा शक्ति रखनी चाहिए। उन्होंने विद्यार्थियों को आगामी समय में पुलिस अधीक्षक कार्यालय की कार्यशैली, पुलिस लाईन में किए जा रहें कार्यों की गतिविधियों का अवलोकन कराने के लिए आश्वस्त किया। इसके अलावा जिला पंचायत के मुख्य कार्यपालन अधिकारी डाॅ रवि मित्तल  ने विद्यार्थियों को कार्ययोजना बनाकर एकाग्र मन से सतत् पढ़ाई करने को कहा। जिससे लक्ष्य की प्राप्ति हासिल की जा सकें। हमें अपनी कमजोरी और अच्छाई को पहचान कर आत्मविश्वास के साथ ही कार्य करने से सफलता मिलती है। विद्यार्थियों को हमेशा आलोचनाओं एवं नकारात्मक चीजों से दूर रहकर पढ़ाई करनी चाहिए। जिससे लक्ष्य प्राप्ति करने में आसानी होती है।
विद्यार्थियांे ने कलेक्टर, पुलिस अधीक्षक, मुख्य कार्यपालन अधिकारी, अपर कलेक्टर, एसडीएम, डिप्टी कलेक्टर सहित अन्य अधिकारियों को देखकर उनके जैसे बनने की इच्छा जताई। ग्राम अचानकपुर के कक्षा 10 वीं में अध्ययनरत् छात्र अमित कमार ने बताया कि वे सिर्फ शिक्षक, पटवारी, पुलिस की नौकरी के बारें में जानते थे। आज अपने सामने साक्षात् कलेक्टर, पुलिस अधीक्षक सहित अन्य अधिकारी को पाकर मुझे भी उनके जैसे बनने की इच्छा हो रही है। इसके लिए मैं आज से कड़ी मेहनत करूंगा। ग्राम खोलपदर के श्री नरेश कुमार कमार ने बताया कि वे कक्षा 12 वीं में अध्ययनरत् है। कक्षा 10 वीं में उन्हें 74 प्रतिशत् अंक प्राप्त हुआ था। अभी वे गणित विषय लेकर पढ़ाई कर रहे है। वे आगे इंजीनियर बनना चाहते है। ग्राम कमरौद के कक्षा 10 वीं में अध्ययनरत् छात्र मुकेश कुमार कमार ने बताया कि वे तीन भाई बहन में वे सबसे छोटें हैं। आज यहां आने पर मेरे मन में भी कलेक्टर बनने की इच्छा हो रही है। इसी तरह ग्राम भीथिडीह की कक्षा 12 वीं में अध्ययनरत् कुमारी दुर्गा पहाड़िया ने बताया कि वे कला संकाय लेकर पढ़ाई कर रहें है। वे आगामी समय में प्रतियोगी परीक्षा की तैयारी करेंगे। ग्राम तुरेंगा की कक्षा 10 वीं में अध्ययनरत् गणेशी कमार ने शिक्षक बनने की इच्छा जाहिर की। ग्राम भिथिडीह की ममता पहाड़िया चिकित्सक बनने की सपना संजोएं हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *