Friday, June 14

कलेक्टर ने किया अतिसंवेदनशील क्षेत्र के विकास कार्यों एवं धान खरीदी केन्द्रों का निरीक्षण

उत्तर बस्तर कांकेर 23 दिसम्बर 2022ः-जिले के कलेक्टर डॉ. प्रियंका शुक्ला ने आज कोयलीबेड़ा विकासखंड के धुर नक्सल प्रभावित क्षेत्र में विकास कार्यों का निरीक्षण किया तथा मौके पर उपस्थित ग्रामीणों से बातचीत कर उनकी समस्याओं की जानकारी ली और उनके निराकरण करने के लिए अधिकारियों को निर्देशित किया। उन्होंने अतिसंवेदनशील नक्सल प्रभावित इलाके के ग्राम कटगांव और कामतेड़ा में मेड़की नदी पर ग्राम कामतेड़ा में लगभग 11 करोड़ रुपए एवं ग्राम कटगांव में 19 करोड़ 86 लाख रुपए की लागत से बनाये जा रहे उच्च स्तरीय पुल का निरीक्षण किया। यह एरिया कभी बेहद दुर्गम रहा है, लेकिन अब यहां विकास कार्यों को रफ्तार मिला है, सड़कें और पुल-पुलिया बन रही हैं।  कलेक्टर डॉ. प्रियंका शुक्ला ने आज परतापुर से लेकर कोयलीबेड़ा तक बने पुल पुलियों का निरीक्षण किया तथा कटगांव एवं कामतेड़ा में निर्माणाधीन उच्च स्तरीय पुल को माह मई के पहले पूरा करने के निर्देश दिये, अन्यथा कार्यवाही की चेतावनी दी गई।

माहला के स्कूल भवन का निरीक्षण

ग्राम पंचायत परतापुर के आश्रित ग्राम माहला में जर्जर हो चुके माध्यमिक शाला भवन को पुलिस प्रशासन द्वारा पुनः बनाया जा रहा है। कलेक्टर द्वारा उक्त भवन का निरीक्षण किया गया तथा मौके पर उपस्थित ग्रामीणों से रूबरू चर्चा कर समस्या की जानकारी ली गई। मुख्य सड़क से स्कूल तक पहुंच मार्ग बनाने एवं स्कूल परिसर में शौचालय का निर्माण कराने एवं विद्यालय परिसर में स्थित पेड़ के नीचे चबूतरा बनाने के लिए के लिए जनपद सीईओ को निर्देशित किया गया, साथ ही प्राथमिक एवं माध्यमिक विद्यालय के लिए डाईस कोड दिलाने हेतु कार्यवाही करने हेतु जिला शिक्षा अधिकारी को निर्देशित किया गया। उल्लेखनीय है  कि यह गांव नक्सलियों के भय से खाली हो गया था, बीएसएफ कैम्प की स्थापना के बाद गांव के लोग पुनः अपने गांव वापस लौट रहे हैं। यहां के प्राथमिक विद्यालय में 17 एवं माध्यमिक विद्यालय में 07 बच्चे अध्ययन कर रहे हैं। गांव में स्थित आंगनबाड़ी केन्द्रों में 12 बच्चों को दाखिला दिया गया है। कलेक्टर डॉ. प्रियंका शुक्ला ने आंगनबाड़ी केन्द्र छोटे कापसी का भी आकस्मिक निरीक्षण किया तथा बच्चों को पूरक पोषण आहार एवं स्कूल पूर्व शिक्षा की जानकारी ली।

धान खरीदी केन्द्रों का निरीक्षण

कलेक्टर डॉ. प्रियंका शुक्ला ने कोयलीबेड़ा विकासखण्ड के धान खरीदी केन्द्र उदनपुर, कोयलीबेड़ा, बड़ेकापसी एवं पी.व्ही.-11 के धान खरीदी केन्द्रों का निरीक्षण किया तथा व्यवस्था की जानकारी ली। धान खरीदी केन्द्र उदनपुर में 107 किसानों से 04 हजार 814 क्विंटल धान की खरीदी की गई है। कलेक्टर ने मौके पर उपस्थित ग्रामीणों एवं युवाओं से चर्चा की धान खरीदी की व्यवस्था के संबंध में पूछताछ किया। ग्रामीणों द्वारा धान तौलने के कांटा-बाट को बदलने की मांग की गई, जिस पर इलेक्ट्रॉनिक तौल से धान खरीदी करने के लिए खाद्य अधिकारी को निर्देश दिये गये। ग्राम उदनपुर में सीसी रोड का निर्माण कराने और जर्जर हो चुके प्राथमिक शाला भवन के स्थान पर नवीन कक्ष का निर्माण कराने के लिए आश्वस्त किया। युवाओं को रोजगार से जोड़ने के लिए कौशल उन्नयन का प्रशिक्षण दिलाने पर युवा बेहद प्रभावित हुए और उन्होंने कलेक्टर से निवेदन कर उनके साथ अपनी फोटो भी खिंचवाई।
धान खरीदी केन्द्र कोयलीबेड़ा में 280 किसानों से 12 हजार 690 क्विंटल धान का खरीदी होना बताया गया। इस खरीदी केन्द्र में भी इलेक्ट्रॉनिक तौल से धान की खरीदी करने एवं खरीदे गये धान का शीघ्र उठाव करने के निर्देश दिये गये। बड़ेकापसी धान खरीदी केन्द्र में 490 किसानों से 17095 क्विंटल धान की खरीदी की गई है, जिसका शीघ्र परिवहन करने के निर्देश दिये गये। कलेक्टर ने द्वारिकापुरी के उचित मूल्य दुकान एवं गौठान का निरीक्षण किया तथा महिला स्व-सहायता समूह के सदस्यों से बातचीत कर उनके गतिविधियों की जानकारी ली और उन्हें गौठान में साग-भाजी की खेती के अलावा गांव में जिन चीजों की मांग हो और आपूर्ति कम हो ऐसी गतिविधियां करने की समझाईश दिया। ग्राम छोटे कापसी में बिहान महिला स्व-सहायता समूह के सदस्यों से बातचीत कर उन्हें सामाजिक उत्तरदायित्व निभाने जैसे-गर्भवती माताओं की अनिवार्य रूप से तीन बार जांच कराने, सभी महिलाओं की हिमोग्लोबीन जांच कराने और बच्चों की पढ़ाई पर विशेष ध्यान देने तथा शत-प्रतिशत संस्थागत प्रसव सुनिश्चित करने के लिए प्रोत्साहित किया। सुराजी अभियान की जानकारी देते हुए उन्होंने इसका फायदा उठाने की अपील भी महिलाओं से किया तथा किसी प्रकार की समस्या होने पर प्रत्येक सोमवार को आयोजित ई-जनचौपाल में अपनी समस्या को रखने की समझाईश दी। निरीक्षण के दौरान एसडीएम पखांजूर मनीष साहू, लोक निर्माण संभाग भानुप्रतापपुर के कार्यपालन अभियंता महेन्द्र कश्यप, सेतु संभाग कांकेर के कार्यपालन अभियंता आर.आर. धु्रव, जनपद सीईओ आशीष डे, खाद्य अधिकारी जन्मजय नायक भी मौजूद थे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *