लॉक डाउन मंदिरों के पट बंद, पुजारियों की हालत चिंताजनक केंद्र और राज्यसरकार ध्यान दे

छत्तीसगढ़ सरकार_का_ध्यान आकर्षित करना चाहूंगा की आचार्य कर्मकान्डीब्राह्मण पुजारियों पर भी हो एक नजर डाले
वर्तमान समय में कर्मकांडी ब्राह्मणों की बहुत बुरी दशा हो रही है अपने परिवार का पेट पालने में भी बहुत कठिनाई हो रही है

लॉक डाउन के चलते क्षेत्र के सारे मंदिर बंद हो गए हैं उनके बारे मैं भी कुछ सोचिए मंदिर बंद होने की वजह से उन ब्राह्मणों की स्थिति बड़ी दयनीय व भयावह हो गई है पूजा पाठ कर्मकांड बंद हो गया है लगभग पैंतीस छत्तीस दिन हो चुके हैं सरकार और सामाजिक संगठनों द्वारा गरीब परिवारों के लिए मदद का अभियान चलाया जा रहा है *किंतु समाज में एक ऐसा वर्ग भी है जो मंदिरों मैं पूजा करके ही अथवा पूजा पाठ करके अपनी जीविका चलाता है*
लॉक डाउन में सारे मंदिर बंद है एवं ब्राह्मणों द्वारा यजमान के यहां पूजा पाठ यज्ञ हवन के कार्यक्रम भी नहीं हो पा रहे हैं
अतः पंडितों का एक बहुत बड़ा वर्ग आर्थिक कठिनाइयों के दौर से गुजर रहा है न तो वह मजदूरों की श्रेणी में आता है और नहीं निर्धनों की श्रेणी में आता है *यह वर्ग समाज का एक सम्मानित और प्रणम्य वर्ग होता है जिस पर न तो सामाजिक संगठनों का न ही शासन प्रशासन का ध्यान जा रहा है* इसलिए यह वर्ग प्रतिष्ठा तथा सम्मान का मारा हुआ होने के कारण किसी के सामने हाथ भी नहीं फैला सकता इसलिए इस वर्ग की चिंता पूरी गंभीरता के साथ करना चाहिए तथा *इनके सम्मान को बनाए रखते हुए इन्हें मदद की सख्त से सख्त आवश्यकता है जिम्मेदार इस और ध्यान देवें विशेषकर जनप्रतिनिधि और जिला कलेक्टर* को इस विषय में जल्दी से जल्दी सोचना चाहिए स्वामी राजेश्वरानंद महाराज sant महासभा प्रदेश अध्यक्ष छत्तीसगढ़ ने कहा कि
मेरी समाज के सभी जिम्मेदार व सभ्य वर्गों से निवेदन है कि पौरोहितों का भला हो सके ऐसा कोई कदम उठाया ज

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *