अस्पतालों में मनाया गया विश्व मरीज सुरक्षा दिवस

 

ब्यूरो चीफ योगेश द्विवेदी कालपी जालौन

स्वास्थ्य कर्मियों ने मरीजों की बेहतर सुरक्षा की ली शपथ

  1. कालपी (जालौन)-विश्व मरीज सुरक्षा दिवस (ग्लोबल पेशेंट सेफ्टी डे) का आयोजन गुरुवार को जिला अस्पताल, जिला महिला अस्पताल, टीबी अस्पताल के साथ सभी सीएचसी और पीएचसी पर में किया गया। इस दौरान मरीजों की बेहतर देखभाल और सुरक्षा की शपथ ली गई। साथ ही कुछ स्टाफ को सम्मानित भी किया गया।
    जिला महिला अस्पताल में आयोजित कार्यक्रम में जनपदीय कायाकल्प परामर्शदाता डा. अरुण कुमार राजपूत ने बताया कि जिस तरह मेडिकल स्टाफ को अधिकार मिले है, उसी तरह मरीज के अधिकार भी है। Uमरीज की सुरक्षा का दायित्व डाक्टर और अस्पताल स्टाफ का है।              उन्होंने कहा कि अस्पताल स्टाफ की जिम्मेदारी है कि अस्पताल में आते ही मरीज की सुरक्षा और सुविधा का पूरा ध्यान रखें। मरीज को जो भी दवाए उपचार दिया जा रहा है, वह पठनीय भाषा में हो। मरीज की समस्या को ध्यानपूर्वक सुनेंगे। मरीज को जो भी उपचार दिया जा रहा है। वह सही प्रकार से दिया जाए। हास्पिटल मैनेजर डाक्टर गौरव सक्सेना ने कहा कि अब प्रिस्क्रिप्शन आडिट किया जाएगा। मरीजों से फीडबैक भी लिया जाएगा। लिहाजा अस्पताल की जिम्मेदारी है, उन्हें जो अधिकार मिले है, उनका पूरा ख्याल रखा जाए। सभी अस्पताल में प्रभारी चिकित्सा अधिकारियों और अस्पताल प्रमुख ने शपथ दिलाई।

संक्रमण से खुद बचें और दूसरों को बचाएं
जिला महिला अस्पताल के प्रभारी सीएमएस डा. एसके पाल ने कहा कि इस समय कोरोना का दौर चल रहा है। ऐसे में हमें इस बात का ख्याल रखना है कि हम खुद सुरक्षित रहें और दूसरों को भी सुरक्षित रखें। इस बात का ख्याल रखें कि संक्रमण को घर तक न ले जाएं। बचाव के जो प्रोटोकाल है, उनका पूरा पालन करें।

कीमती कटियार को किया गया सम्मानित
इस अवसर पर जिला महिला अस्पताल में तैनात स्टाफ नर्स कीमती कटियार को उनके सेवा कार्यों के लिए सम्मानित किया गया है। कीमती बताती हैं कि उनकी तैनाती वर्ष 2015 में इस अस्पताल में हुई थी। उनके पति पुलिस विभाग में झांसी में तैनात है। दो बेटी और एक बेटा है। वह नर्स हास्टल में रहती है। मरीजों की सुविधा और सुरक्षा का ख्याल रखती है। वह परिवार और नौकरी दोनों के बीच सामंजस्य बनाए हुए है। ड्यूटी आफ होने के बाद भी यदि जरूरत पड़ती है और अस्पताल से बुलावा आ जाता है तो वह आकर मामला संभाल लेती है। कई बार ऐसा कर चुकी है। प्रभारी सीएमएस डाक्टर एसके पाल का कहना है कि वैसे तो सभी स्टाफ अपने काम में पूरी ईमानदारी से लगा रहता है लेकिन कीमती कटियार कई मौके पर आकर मदद करती है। उनकी सेवा भावना सराहनीय है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *