स्वास्थ-ज्योतिष

खास खबर, छत्तीसगढ़ प्रदेश, रायपुर, स्वास्थ-ज्योतिष

बारिश में डेंगू व मलेरिया के मच्छरों से रहें सावधान घर के आसपास न होने दें पानी का जमाव

  रायपुर. 6 जुलाई 2022. बरसात का मौसम शुरू होते ही मच्छरजनित रोगों जैसे डेंगू और मलेरिया की समस्या बढ़ जाती है। मौसम में हुए बदलाव डेंगू व मलेरिया के मच्छरों के लार्वा को पनपने के लिए अनुकूल वातावरण देते हैं। इसके चलते बारिश में डेंगू-मलेरिया के लार्वा में तेजी से बढ़ोतरी होती है। मच्छरों से बचाव के व्यापक उपाय नहीं बरतने से डेंगू और मलेरिया जैसे रोग घातक साबित हो सकते हैं। संचालक, महामारी नियंत्रण डॉ. सुभाष मिश्रा ने बताया कि डेंगू संक्रमित मादा एडीस म़च्छर के काटने से स्वस्थ्य व्यक्ति के शरीर में वायरस प्रवेश कर रोग संक्रमण उत्पन्न करता है। मादा एडीस मच्छर इस वायरस का वाहक है जो स्थिर पानी जैसे कूलर, टंकी या घर में खुले रखे बर्तन जिसमें कई दिनों से पानी बदला न गया हो, वहाँ डेंगू के मच्छर पनपते हैं। यह मच्छर दिन में ही काटता हैं। डेंगू के मरीज़ को दिन में भी मच्छरदानी लगाकर सोना च...
टीबी हारेगा छत्तीसगढ़ जीतेगा के नारे से गूंजा विद्यालय
खास खबर, छत्तीसगढ़ प्रदेश, रायपुर, स्वास्थ-ज्योतिष

टीबी हारेगा छत्तीसगढ़ जीतेगा के नारे से गूंजा विद्यालय

टीबी के प्रति जागरूकता के लिये विद्यालयों में किए जा रहे है जागरूकता कार्यक्रम *रायपुर /तिल्दा 5 जुलाई 2022,* टीबी के संक्रमण के प्रति विद्यार्थियों में जागरूकता लाने के उद्देश्य से विद्यालयों में जाकर छात्र छात्राओं को टीबी के संक्रमण के प्रति जागरूकता लाने के लिए टीबी चैंपियन द्वारा जागरूकता कार्यक्रम आयोजित किये जा रहे हैं। इन कार्यक्रमों का मूल उद्देश्य टीबी के लक्षण को पहचान कर संभावित रोगी को शीघ्र से शीघ्र निशुल्क चिकित्सीय सुविधा उपलब्ध कराना है । साथ ही लोगों को बचाव के तरीके से भी अवगत कराना है । टीबी चैंपियन चमेली देवांगन ने बताया: ’’ विकासखंड में टीबी चैंपियन द्वारा विद्यालयों में और डोर टू डोर सर्वेक्षण में जा कर लोगों को टीबी रोग के बारे में जानकारी दी जाती है । और विशेष रुप से टीबी चैंपियन द्वारा लोगों को यह बताया जाता है, कि दो सप्ताह या उससे अधिक समय तक खांसी का होना या...
जेनेरिक औषधि उतनी ही असरकारक होती है जितनी की ब्रांडेड दवाइयां – पद्मश्री डॉ दाबके
खास खबर, छत्तीसगढ़ प्रदेश, रायपुर, स्वास्थ-ज्योतिष

जेनेरिक औषधि उतनी ही असरकारक होती है जितनी की ब्रांडेड दवाइयां – पद्मश्री डॉ दाबके

    रोटरी क्लब जलविहार कालोनी रायपुर एवं इनरव्हील क्लब रायपुर के संयुक्त तत्वाधान मे डॉक्टर्स डे व चार्टर्ड अकाउंटेंट डे का आयोजन किया गया जिसमें नगर के सुप्रसिद्ध डॉ पी एस देशपांडे व डॉ सांवर अग्रवाल सहित सी ए पारसमल बम व सी ए किशोर देशपांडे का सम्मान मुख्य अतिथि देश के विख्यात चिकित्सक पद्मश्री डॉ ए टी दाबके के कर कमलों द्वारा किया गया । प्रेसिडेंट ईलेक्टेड रोटे प्रदीप गोविंद शितूत ने अपनी विज्ञप्ति मे जानकारी दी कि कार्यक्रम की अध्यक्षता क्लब के अध्यक्ष रोटे भरत डागा व संचालन सचिव रोटे नवीन आहूजा ने किया । पद्मश्री डॉ ए के दाबके ने अपने उदबोधन मे कहा कि दवा कंपनियों की ब्रांडेड महंगी दवाइयां भी बीमारी पर वही असर करती हैं जो जेनरिक दवाइयां करती है। कई मरीज ऐसे होते हैं जो आर्थिक रूप से महंगी दवाइयां खरीदने में सक्षम नहीं होते उन्हें जेनरिक दवा की जानकारी भी नहीं होती है...
“हमर लैब ” राजस्थान, कर्नाटक के डॉक्टरों और अफसरों ने  किया अध्ययन भ्रमण, इन लैबों द्वारा दी जा रही डायग्नोस्टिक सेवाओं की सराहना
खास खबर, छत्तीसगढ़ प्रदेश, देश-विदेश, रायपुर, स्वास्थ-ज्योतिष

“हमर लैब ” राजस्थान, कर्नाटक के डॉक्टरों और अफसरों ने किया अध्ययन भ्रमण, इन लैबों द्वारा दी जा रही डायग्नोस्टिक सेवाओं की सराहना

  रायपुर. 2 जुलाई 2022. छत्तीसगढ़ के जिला अस्पतालों और सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्रों में स्थापित किए जा रहे 'हमर लैब' पूरे देश के लिए नजीर बन रहे हैं। दूसरे राज्यों के अधिकारी और डॉक्टर अपने राज्यों में इस तरह का लैब स्थापित करने यहां के 'हमर लैब' के अध्ययन भ्रमण में आ रहे हैं। हाल ही में राजस्थान और कर्नाटक के डॉक्टरों एवं अधिकारियों के दल ने राज्य के 'हमर लैब' का दौरा कर इनकी अधोसंरचना तथा कार्य प्रणाली की जानकारी ली। एनएचएसआरसी (National Health System Resource Centre) नई दिल्ली तथा असम के डॉक्टरों और अधिकारियों की टीम भी इसके अध्ययन दौरे पर आने वाली है। राज्य शासन के स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण विभाग द्वारा स्वास्थ्य सेवाओं के सुदृढ़ीकरण के लिए शासकीय अस्पतालों को ज्यादा साधन संपन्न बनाने के साथ ही मौजूदा सुविधाओं को मजबूत किया जा रहा है। जिला अस्पतालों और सामुदायिक स्वास्थ्य...
खास खबर, छत्तीसगढ़ प्रदेश, रायपुर, स्वास्थ-ज्योतिष

मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने श्री नारायणा हॉस्पिटल में मेगा निःशुल्क आर्थोपेडिक एवं स्पाइन सर्जरी का किया शुभारंभ

https://youtu.be/XPxejbbiDag   रायपुर, 01 जुलाई 2022/ मुख्यमंत्री श्री भूपेश बघेल ने आज राजधानी रायपुर के देवेन्द्र नगर स्थित श्री नारायणा हॉस्पिटल में आयोजित निःशुल्क मेगा आर्थोपेडिक एवं स्पाइन सर्जरी तथा तीन दिवसीय स्पाइन एवं आर्थोपेडिक कांफ्रेंस का शुभारंभ किया। मुख्यमंत्री श्री बघेल ने उपस्थित डॉक्टर्स को डॉक्टर्स डे की बधाई और शुभकामनाएं दी साथ ही श्री नारायणा हॉस्पिटल के 11 वर्ष पूर्ण होने पर हॉस्पिटल से जुड़े सभी लोगों को बधाई और शुभकामनाएं दी। उन्होंने चिकित्सा के क्षेत्र में श्री नारायणा हॉस्पिटल की राष्ट्रीय व अंतर्राष्ट्रीय उपलब्धियों की सराहना की। मुख्यमंत्री ने इस मौके पर मुम्बई, बैंगलोर सहित अन्य प्रतिष्ठित चिकित्सा संस्थानों से आए विशेषज्ञ चिकित्सों को स्मृति चिन्ह प्रदान कर सम्मानित किया। उन्होंने निःशुल्क शिविर का लाभ लेने आए लोगों के शीघ्र स्वस्थ लाभ की कामना...
  टीबी रोग का खतरा कम हो जाता है, जब सुलगता है खास चूल्हा ० टीबी चैंपियन का कमालः देसी जुगाड़ से निर्मित मिट्टी का चूल्हा टीबी रोग पर नियंत्रण के लिए है काफी मददगार
खास खबर, छत्तीसगढ़ प्रदेश, दुर्ग, स्वास्थ-ज्योतिष

  टीबी रोग का खतरा कम हो जाता है, जब सुलगता है खास चूल्हा ० टीबी चैंपियन का कमालः देसी जुगाड़ से निर्मित मिट्टी का चूल्हा टीबी रोग पर नियंत्रण के लिए है काफी मददगार

दुर्ग। टीबी रोग की चपेट में कोई न आए, यह उद्देश्य लेकर जिले के धमधा विकासखंड में अनूठा प्रयोग किया जा रहा है। यहां देसी जुगाड़ से मिट्टी का ऐसा चूल्हा बनाया गया है जिससे घर के अंदर धुआं नहीं फैलता। वहीं पूरा खाना एक साथ तैयार किया जा सकता है जिससे लकड़ी की खपत भी काफी कम होती है। यही इस चूल्हे की सबसे बड़ी विशेषता है। धुआंरहित चूल्हा होने की वजह से ही टीबी जैसी गंभीर बीमारी को पनपने से काफी हद तक रोका जा सकता है। इस अनूठे चूल्हे को घर-घर पहुंचाने के लिए टीबी चैंपियंस के माध्यम से दुर्ग जिले में जोर-शोर से प्रयास किए जा रहे हैं जिसमें मितानिन भी अहम भूमिका निभा रही हैं। यह चूल्हा कई मायनों में सबसे अलग और विशेष है, जिसे धुएं अथवा टीबी रोग से बचाव हेतु एहतियाती सुरक्षा के लिए कोई भी अपने घर लगवा सकता है, वह भी निःशुल्क। धुआंरहित अनूठे चूल्हे का जिक्र करते हुए जामुल निवासी तथा धमधा विकासखंड क्...
कवर्धा स्वस्थ विभाग में लेनदेन का मामला विभागी व्हाट्सएप ग्रुप में ,स्क्रीन शॉट हुआ वायरल आला अफसरों सहित मंत्री बंगले पहुंचा
कवर्धा, खास खबर, छत्तीसगढ़ प्रदेश, सरगुजा-अंबिकापुर, स्वास्थ-ज्योतिष

कवर्धा स्वस्थ विभाग में लेनदेन का मामला विभागी व्हाट्सएप ग्रुप में ,स्क्रीन शॉट हुआ वायरल आला अफसरों सहित मंत्री बंगले पहुंचा

कवर्धा - घपले घोटालो लेनदेन को लेकर सदा चर्चा में रहने वाले स्वास्थ्य विभाग में दबंग अधिकारी की पदस्थापना के बाद बाद भी लेनदेन के मामलो की चर्चा है कि थमने  का नाम नहीं ले रही । स्वास्थ्य विभाग के कर्मचारियों के एक वाट्सअप ग्रुप @सक्रीय RHO संघ कबीरधाम के प्राप्त स्क्रीनशॉट में विभाग में चल रहे वसूली के खेल की पोल खोल रहे है ।                                        प्राप्त स्क्रीन शॉट में सदस्य लिख रहे है कि " मेरा लगातार दो महीने का वेतन रोका गया है जिसकी जानकारी मैंने प्रांताध्यक्ष को व्यक्तिगत रूप से कराया  परन्तु उन्होंने आज तक कोई रिप्लाई नही की ...." "और साथ ही साथ 5000 कलेक्शन भी दिया हुँ "हांलाकि ग्रुप के एक अन्य सदस्य ऐसा लिखने वाले से पूछते है कि पिपरिया का आदेश संघ के दबाव में आया है कि धन के दबाव में । बहरहाल स्वास्थ्य विभाग के कर्मचारियों के वाट्सअप ग्रुप की चैटिंग के सार्...
खास खबर, छत्तीसगढ़ प्रदेश, रायपुर, स्वास्थ-ज्योतिष

बारिश के साथ मुसीबत दूषित जल के संपर्क में आने से हो सकती है दाद, खाज, खुजली की समस्या* *बरसात में त्वचा संबंधी बीमारियों से रहें सचेत*

  रायपुर. 22 जून 2022. बरसात का मौसम शुरू होते ही लोगों में त्वचा संबंधी बीमारियों की शिकायतें बढ़ जाती है। एक ओर जहाँ बरसात का मौसम तरोताजगी देने वाला होता है, वहीं दूसरी ओर देखरेख के अभाव में कई त्वचा संबंधी विकार भी सामने आ सकते हैं। बरसात में होने वाले रोगों में त्वचा का लाल हो जाना, सफेद व काला हो जाना, त्वचा का मोटा हो जाना, पपड़ी बनना, त्वचा में दाने हो जाना, खुजली होना इत्यादि प्रमुख हैं। लेकिन लोग इसे एलर्जी मानकर घरेलू उपचार जैसे कि हल्दी लगा लेना, चूना लगा लेना, टूथपेस्ट लगा लेना, लहसुन रगड़ना जैसे उपचार करते हैं, जिससे कि गंभीर इंफेक्शन का खतरा रहता है। किसी भी तरह के चर्म रोग होने पर कुशल चर्म रोग विशेषज्ञ से सलाह लेकर ही उपचार कराना चाहिए। शासकीय आयुर्वेदिक कालेज, रायपुर के सह-प्राध्यापक डॉ. संजय शुक्ला ने बताया कि बरसात के समय चर्म रोग की समस्या बढ़ जाती है। वैसे तो य...
खास खबर, छत्तीसगढ़ प्रदेश, रायपुर, स्वास्थ-ज्योतिष

गठिया और मधुमेह के इलाज में उपयोगी मेथी* *इसके नियमित सेवन से खून में शर्करा की मात्रा नियंत्रित रहती है

  रायपुर. 10 जून 2022. घर की रसोई में आमतौर पर उपयोग होने वाली मेथी तड़का लगाने के साथ ही कई रोगों के इलाज में भी बहुत उपयोगी है। इसमें कई ऐसे स्वास्थ्यवर्धक गुण पाए जाते हैं, जिससे इसका प्रयोग मसालों के साथ-साथ औषधि के रूप में भी किया जाता है। मेथी के दाने में खूब सारे विटामिन, मिनरल्स और न्यूट्रिएंट्स पाए जाते हैं। मेथी और मेथी के तेल में गांठ को बनने से रोकने के गुण होते हैं। यह गठिया की बीमारी में भी लाभप्रद है। दरअसल गठिया (अर्थराइटिस) वात दोष के कारण होता है। मेथी में वात को संतुलित करने के गुण पाए जाते हैं। यह गठिया के दर्द को कम करने में मदद करता है। शासकीय आयुर्वेदिक कॉलेज, रायपुर के सह-प्राध्यापक डॉ. संजय शुक्ला ने बताया कि मेथी के दानों में प्रोटीन, फाइबर, आयरन, पोटेशियम, नियासिन, विटामिन सी के साथ ही कई और पौष्टिक तत्व पाए जाते हैं जो हमारे लिए फायदेमंद होते हैं। इसके...
छत्तीसगढ़ प्रदेश, रायपुर, लेख-आलेख, स्वास्थ-ज्योतिष

इम्युनिटी बढ़ाने में मददगार है आंवला ;त्वचा और बालों के साथ ही सेहत के लिए भी लाभप्रद है आंवला का उपयोग

  रायपुर. 7 जून 2022. आयुर्वेद में आंवला को धात्री यानि धाय मां के समान पोषण प्रदान करने वाला कहा गया है। यह एक ऐसा फल है जिसके अनगिनत लाभ हैं। यह रोग प्रतिरोधक क्षमता बढ़ाता है एवं अनेक रोगों के बचाव और उपचार में कारगर है। आंवला का उपयोग फल, मुरब्बा, अचार, शरबत, जूस और औषधि के रूप में किया जाता है। यह रसोई से लेकर उपचार के लिए बहु-उपयोगी है। शासकीय आयुर्वेदिक कालेज, रायपुर के सह-प्राध्यापक डॉ. संजय शुक्ला ने बताया कि आयुर्वेद पद्धति में आंवले का अवलेह और चूर्ण के रूप में औषधीय उपयोग है। यह स्वस्थ और दीर्घायु जीवन के लिए रसायन के तौर पर बुखार, सर्दी- खांसी और कुष्ठ रोग के उपचार में प्रयुक्त होता है। सुश्रुत संहिता में आंवला के औषधीय गुणों के बारे में बताया गया है। इसे अधोभागहर संशमन औषधि बताया गया है, यानि ऐसी औषधि जो शरीर के दोष को मल के द्वारा बाहर निकालने में मदद करता है। पेट...