लेख-आलेख

वरिष्ठ पत्रकार चंद्र शेखर शर्मा की बात बेबाक काफी दिनों बाद दोबारा कोरोना आँटी के ईश्क में डूबने पर हाल चाल जानने पहुंची गोबरहीन टुरी फरार सासंद को लेकर पूछने लगी महराज काली त पांडे महराज छट्ठी म आय रहीस संग में पुलिस घलो घुमत रहीस त ये महराज फरार कईसे हुइस समझ नही आवत हे अउ सपना घलो देखे हाव वहू परेशान करत हे सपना देखे हाव कि नेता मन के गिरफ्तारी ले जम्मो प्रदेश के नेता कार्यकर्ता मन कवर्धा पहुँच गे अउ गाँव गाँव धरना प्रदर्शन चक्का जाम होवत है पुलिस लाठीचार्ज करत हावय फेर कर्फ्यू लाग गे हे
खास खबर, छत्तीसगढ़ प्रदेश, लेख-आलेख

वरिष्ठ पत्रकार चंद्र शेखर शर्मा की बात बेबाक काफी दिनों बाद दोबारा कोरोना आँटी के ईश्क में डूबने पर हाल चाल जानने पहुंची गोबरहीन टुरी फरार सासंद को लेकर पूछने लगी महराज काली त पांडे महराज छट्ठी म आय रहीस संग में पुलिस घलो घुमत रहीस त ये महराज फरार कईसे हुइस समझ नही आवत हे अउ सपना घलो देखे हाव वहू परेशान करत हे सपना देखे हाव कि नेता मन के गिरफ्तारी ले जम्मो प्रदेश के नेता कार्यकर्ता मन कवर्धा पहुँच गे अउ गाँव गाँव धरना प्रदर्शन चक्का जाम होवत है पुलिस लाठीचार्ज करत हावय फेर कर्फ्यू लाग गे हे

बात बेबाक चंद्र शेखर शर्मा (पत्रकार )9425522015 काफी दिनों बाद दोबारा कोरोना आँटी के ईश्क में डूबने पर हाल चाल जानने पहुंची गोबरहीन टुरी फरार सासंद को लेकर पूछने लगी महराज काली त पांडे महराज छट्ठी म आय रहीस संग में पुलिस घलो घुमत रहीस त ये महराज फरार कईसे हुइस समझ नही आवत हे अउ सपना घलो देखे हाव वहू परेशान करत हे सपना देखे हाव कि नेता मन के गिरफ्तारी ले जम्मो प्रदेश के नेता कार्यकर्ता मन कवर्धा पहुँच गे अउ गाँव गाँव धरना प्रदर्शन चक्का जाम होवत है पुलिस लाठीचार्ज करत हावय फेर कर्फ्यू लाग गे हे , दुबारा कर्फ्यू ले सब परेशान हन । अइसन सपना ल देख के अचकचा के उठ गेव अऊ तोर करा तोर हाल चाल के बहाना गोठियाय बर आ गेव । उसकी बातों में दम तो है खुलेआम घूमने वाले खद्दरधारी खाकी को काहे नही दिख रहे , कही उसके सपनो के हालात से बचने खाकी ने सर्फ एस्सेल के विज्ञापन की पंच लाईन "कुछ दाग अच्छे होते है ...
गणतंत्र दिवस विशेषांक; व्यक्तितंत्र, पूँजीतन्त्र, लट्ठतंत्र, भीड़तंत्र, धर्मतंत्र और राजतंत्र नहीं बल्कि लोकतंत्र (गणतंत्र) है देश की हर नागरिक और उनके सर्वांगीण विकास के लिए आवश्यक (लेख  एच. पी. जोशी)
खास खबर, देश-विदेश, रायपुर, लेख-आलेख

गणतंत्र दिवस विशेषांक; व्यक्तितंत्र, पूँजीतन्त्र, लट्ठतंत्र, भीड़तंत्र, धर्मतंत्र और राजतंत्र नहीं बल्कि लोकतंत्र (गणतंत्र) है देश की हर नागरिक और उनके सर्वांगीण विकास के लिए आवश्यक (लेख एच. पी. जोशी)

मेरे प्यारे बुद्धजीवी देशवासियों सबसे पहले मैं हुलेश्वर जोशी आपको गणतंत्रता दिवस की हार्दिक शुभकामनाएं और बधाई देता हूँ। मेरे प्यारे देशवासियों आपको ज्ञात होनी चाहिए कि 26 जनवरी 1950 न सिर्फ अंग्रेजों से आज़ादी उपरांत स्वतंत्र भारत के द्वारा लोकतांत्रिक देश की दर्जा प्राप्त करने और अपनी ख़ुद की संविधान बनाकर उसे अंगीकृत और आत्मार्पित करने का दिन है वरन देश से व्यक्तितंत्र, पूँजीतन्त्र, लट्ठतंत्र, भीड़तंत्र, धर्मतंत्र और राजतंत्र को भी समाप्त करने तथा इन अमानवीय तंत्रों की संभावनाओं को भी काल्पनिक प्रमाणित कर देने का दिन है। जैसा कि हमें ज्ञात है 26/01/1950 को स्वतंत्र भारत के अनुभवी और बुद्धजीवी लोगों द्वारा डॉ. भीमराव अंबेडकर के नेतृत्व में प्रत्येक भारतीय नागरिकों के मध्य भाईचारा और समानता की स्थापना के लिए समुचित न्यायिक प्रक्रियाओं और मौलिक अधिकारों का ग्रंथ 'भारतीय संविधान' तैय...
क्या राज्यपाल से मिलना गुनाह है? — आदिवासी कार्यकर्ताओं की गिरफ्तारी पर पूछा माकपा ने
Uncategorized, रायपुर, लेख-आलेख

क्या राज्यपाल से मिलना गुनाह है? — आदिवासी कार्यकर्ताओं की गिरफ्तारी पर पूछा माकपा ने

  रायपुर। मार्क्सवादी कम्युनिस्ट पार्टी ने राज्यपाल से मिलने आ रहे मूलवासी बचाओ मंच से जुड़े आदिवासी कार्यकर्ताओं को कोंडागांव में हिरासत में लिए जाने की कड़ी निंदा की है। आज यहां जारी एक बयान में माकपा राज्य सचिव संजय पराते ने सरकार से सीधा सवाल पूछा है कि क्या किसी आदिवासी प्रतिनिधिमंडल का राज्यपाल से मिलना गुनाह है कि उन्हें रास्ते में ही हिरासत में ले लिया गया है? पार्टी ने कहा है कि इन अवैध गिरफ्तारियों ने बस्तर और आदिवासियों के संबंध में संवेदनशील होने के सरकार के दावे की पोल खोल दी है। माकपा नेता ने इन आदिवासी कार्यकर्ताओं को अज्ञात स्थान में ले जाने और उनकी स्थिति के बारे में सही जानकारी न दिए जाने पर भी पार्टी का विरोध जताया है और मांग की है कि उन्हें तुरंत कोर्ट में पेश किया जाए, जो कि किसी भी हिरासती बंदी का मौलिक अधिकार है। माकपा ने कहा है कि राज्यपाल महोदया ...
खेत में हुई सिंचाई सुविधा तो खेती हुई बेहतर*  धान की 25 क्विंटल हुई ज्यादा पैदावार*  सब्जी-भाजी उत्पादन के साथ मछलीपालन से हो रही अतिरिक्त कमाई*
खास खबर, छत्तीसगढ़ प्रदेश, लेख-आलेख

खेत में हुई सिंचाई सुविधा तो खेती हुई बेहतर* धान की 25 क्विंटल हुई ज्यादा पैदावार* सब्जी-भाजी उत्पादन के साथ मछलीपालन से हो रही अतिरिक्त कमाई*

  रायपुर, 20 जनवरी 2022/छत्तीसगढ़ शासन द्वारा किसानों को विभिन्न योजनाओं का फायदा पहुंचाकर उनकी आमदनी बढ़ाने में सहयोग किया जा रहा है। महात्मा गांधी रोजगार गारंटी योजना जैसी योजनाओं से किसानों के खेतों में कुआं, डबरी खुदवाकर सिंचाई की सुविधा मुहैय्या कराया जा रहा है। जांजगीर-चांपा जिले के दमाऊ पहाड़ की सुरम्यवादियों के बीच बसे हुए गांव बरपालीकला के रहने वाले श्री फुलेशराम अब बेहद खुशहाल जीवन जी रहे है। उनकी खुशी का कारण है, उनके खेतों में बनी हुई निजी डबरी। यह डबरी महात्मा गांधी रोजगार गारंटी योजना से बनी है। जिसमें एकत्र हुई बारिश की बूंदों से उनके जमीन में नमी बनी रहती है और धान की फसल बेहतर होने लगा है। डबरी से मिले फायदे से फुलेशराम इतने उत्साहित हैं कि उन्होंने इसके इर्द-गिर्द ही अपने भविष्य की योजनाओं का ताना-बाना बुन लिया है। वे धान की फसल के साथ ही मछलीपालन और सब्जी-भाजी उत्पादन...
मुख्यमंत्री शहरी स्लम स्वास्थ्य योजनाः 14 माह में 15 लाख से अधिक मरीजों का उपचार     हर माह एक लाख से अधिक मरीजों को स्वस्थ बना रही मोबाइल मेडिकल यूनिट
खास खबर, छत्तीसगढ़ प्रदेश, रायपुर, लेख-आलेख

मुख्यमंत्री शहरी स्लम स्वास्थ्य योजनाः 14 माह में 15 लाख से अधिक मरीजों का उपचार हर माह एक लाख से अधिक मरीजों को स्वस्थ बना रही मोबाइल मेडिकल यूनिट

  रायपुर, 19 जनवरी 2022 / हर गरीब और जरूरतमंद व्यक्ति चाहता है कि जब वह बीमार पड़े तो उसे अपने इलाज के लिए भटकना न पड़े। छोटी-छोटी बीमारी के लिए अपने काम धंधे बंद कर डाक्टरों से अपॉइंटमेंट लेना और कतार में लग कर इलाज कराने से हर कोई बचना चाहता है। लोगों की जरूरतों को ध्यान रख छत्तीसगढ़ में शुरू की गई मुख्यमंत्री शहरी स्लम स्वास्थ्य योजना अब इन्हीं उद्देश्यों और लक्ष्यों को न सिर्फ पूरा कर रही है। बल्कि अपने मुहल्ले में ही कैंप लगने से लोगों को इलाज में बहुत सहूलियत होने लगी है। स्वास्थ्य सुविधाओं में विस्तार के साथ गरीबों का त्वरित इलाज कर उन्हें स्वस्थ बनाने की दिशा में छत्तीसगढ़ सरकार द्वारा उठाए गए कदम का ही परिणाम है। मुख्यमंत्री शहरी स्लम स्वास्थ्य योजना अंतर्गत गरीब परिवारों का दिल जीत रही है। मुख्यमंत्री श्री भूपेश बघेल के दिशा-निर्देशन में 1 नवंबर 2020 को प्रदेश के 14 नगर...
भवन अनुज्ञा सरलीकरण प्रक्रिया का मिलने लगा लाभ
खास खबर, छत्तीसगढ़ प्रदेश, रायपुर, लेख-आलेख

भवन अनुज्ञा सरलीकरण प्रक्रिया का मिलने लगा लाभ

डॉ. ओम प्रकाश डहरिया रायपुर, 18 जनवरी 2022/ अपना खुद का आशियाना बनाना हर व्यक्ति का सपना होता है। कहते है जीवन में घर बनाना और शादी-विवाह करना किसी सपने से कम नहीं होता। इन्हीं सपनों को पूरा करने के लिए लोग जीवन भर भाग-दौड़ करते रहते हैं। मेहनत मशक्कत कर किसी तरह जमीन ले भी लिया, तो घर बनाने के लिए जटिल कार्यालयीन प्रक्रिया से गुजरना काफी मुश्किल भरा होता है। इन्हीं मुश्किल और जटिलता को सरल करने के लिए मुख्यमंत्री श्री भूपेश बघेल की नेतृत्व वाली छत्तीसगढ़ सरकार ने एक क्लिक में 500 वर्गमीटर तक भूमि की भवन अनुज्ञा की अनुमति देने का प्रावधान निश्चित ही सराहनीय कदम है। राज्य सरकार की इस पहल से नगरीय क्षेत्रों में घर बनाने का सपना काफी हद तक सहज हो गया है। शहरी क्षेत्रों में निवास करने वाले लोगों के लिए लगातार नागरिक सुविधाओं में इजाफा किया जा रहा है। इसी कड़ी में शहरों में अपना आशियाना बनाने ...
गौठान योजना से जुड़ने विभिन्न समाज के लोगों ने दिखाई रूचि  मुख्यमंत्री के सलाहकार श्री शर्मा ने गौठान योजना के बारे में दी विस्तृत जानकारी
खास खबर, छत्तीसगढ़ प्रदेश, रायपुर, लेख-आलेख

गौठान योजना से जुड़ने विभिन्न समाज के लोगों ने दिखाई रूचि मुख्यमंत्री के सलाहकार श्री शर्मा ने गौठान योजना के बारे में दी विस्तृत जानकारी

  रायपुर, 13 जनवरी 2022/छत्तीसगढ़ सरकार की महत्वकांक्षी योजना ‘‘गौठान’’ से जुड़ने के लिए विभिन्न समाज के लोगों द्वारा विशेष रूचि दिखाई जा रही है। आज नवा रायपुर अटल नगर स्थित योजना भवन में आयोजित बैठक में मुख्यमंत्री श्री भूपेश बघेल के सलाहकार श्री प्रदीप शर्मा ने गौठान योजना और इससे जुड़े विभिन्न महिल समूहों को हो रहे लाभ के बारे में विस्तार से जानकारी दी। इस अवसर पर सचिव डॉ. कमलप्रीत सिंह तथा सचिव डॉ. एस., भारती दासन भी शामिल थे। इस दौरान गौठान योजना के लाभ के मद्देनजर सभी समाज द्वारा उससे जुड़ने के लिए विशेष रूचि दिखाई गई। बैठक में विशेष रूप से गौ सेवा आयोग के अध्यक्ष राज श्री महंत डॉ. रामसुंदर दास, कृषक कल्याण परिषद के अध्यक्ष सुरेंद्र शर्मा, तेलघानी बोर्ड के अध्यक्ष श्री संदीप साहू, शाकंभरी बोर्ड के अध्यक्ष श्री रामकुमार पटेल, मत्स्य बोर्ड के अध्यक्ष एमआर निषाद, माटी कला बोर्ड क...
वरिष्ठ पत्रकार चंद्र शेखर शर्मा की बात बेबाक  मीठी यादो और करोना आँटी के जानलेवा ईश्क की तीसरी लहर की आशंका के बीच सतर्क रहें सुरक्षित रहे डॉज की दूरी और मास्क है जरूरी के स्लोगन को कोरोना के खिलाफ जंग का हथियार बना उसे हराये इन्ही शुभकामना के साथ नूतन वर्ष 2022 की हार्दिक मंगल कामनाएँ
खास खबर, छत्तीसगढ़ प्रदेश, लेख-आलेख

वरिष्ठ पत्रकार चंद्र शेखर शर्मा की बात बेबाक मीठी यादो और करोना आँटी के जानलेवा ईश्क की तीसरी लहर की आशंका के बीच सतर्क रहें सुरक्षित रहे डॉज की दूरी और मास्क है जरूरी के स्लोगन को कोरोना के खिलाफ जंग का हथियार बना उसे हराये इन्ही शुभकामना के साथ नूतन वर्ष 2022 की हार्दिक मंगल कामनाएँ

बात बेबाक चंद्र शेखर शर्मा (पत्रकार) 9425522015 2021 की खट्टी मीठी यादो और करोना आँटी के जानलेवा ईश्क की तीसरी लहर की आशंका के बीच सतर्क रहें सुरक्षित रहे डॉज की दूरी और मास्क है जरूरी के स्लोगन को कोरोना के खिलाफ जंग का हथियार बना उसे हराये इन्ही शुभकामना के साथ नूतन वर्ष 2022 की हार्दिक मंगल कामनाएँ ---- नया साल आते ही बचपन की यादें भी ताजा हो जाती है । आज भी याद है कि हम कितने उत्सहित और खुश होते थे जब पहली जनवरी को स्कूल पहुँच कर दोस्तों को कहते थे कि "हम तो 1982 में सोए और सीधा एक साल बाद 1983 में जागे" मस्ती वाला बचपन था जो बीत गया फिर भी हम बचपन को फिर से जीने की चाहत में अक्सर बच्चे बन जाते है । खट्टे मीठे जीवन के गुजरते पलों का 20 - 20 मैच की तरह रोमांच उठाते हुए धन्यवाद उन लोगो का जो मुझसे नफरत करते है- क्योंकि उन्होंने मुझे मजबुत बनाया ।। धन्यवाद उन लोगो का जो मुझसे प्यार क...
हरिद्वार से चंपावत से रायपुर तक : बेनकाब होता हिन्दुत्व (आलेख : बादल सरोज)
देश-विदेश, रायपुर, लेख-आलेख

हरिद्वार से चंपावत से रायपुर तक : बेनकाब होता हिन्दुत्व (आलेख : बादल सरोज)

  🔵 हरिद्वार के अधर्म हिन्दुत्वी जमावड़े में जो हुआ और भिन्न तीव्रता के साथ जिसे छत्तीसगढ़ के रायपुर में हुयी ऐसी एक शोर भरी जमावट में दोहराया गया, वह आजाद भारत में अभूतपूर्व और असाधारण बात है। हरिद्वार में "उनकी जनसंख्या को हमें खत्म करना है।", "अगर हम सौ सैनिक बन गए और इनके 20 लाख भी मार दिए जा सकते हैं।" से लेकर "तलवार केवल मंचो पर दिखाने के काम आने वाली नहीं है।" और "म्यांमार की तरह यहां की पुलिस को, यहां के नेताओं को, यहां की फौज को, यहां के हर हिन्दू को हथियार उठाकर के, इस सफाई अभियान को करना पड़ेगा, इसके अलावा कोई दूसरा विकल्प नहीं है।" जैसे आव्हान सीधे-सीधे नरसंहार का ऐलान करने वाले थे। 🔵वहीं रायपुर में गांधी के लिए गाली का इस्तेमाल भी गांधी के मुकाबले गोडसे को आगे लाने के आख्यान का अगला चरण था। इसी बीच दक्षिण दिल्ली के बनारसीदास चांदीवाला ऑडिटोरियम में एक सभा में सुदर...
भाई को भाई का दुश्मन बनाती हरियाणा सरकार
खास खबर, देश-विदेश, लेख-आलेख

भाई को भाई का दुश्मन बनाती हरियाणा सरकार

प्रियंका सौरभ  (ये अंक उन बच्चों को नहीं मिलेंगे जिस घर में पति-पत्नी, भाई, बहन, सास-ससुर या परिवार में कोई भी नौकरी पर हो. क्या ये भाई की नौकरी से दूसरे भाई और बहन से अन्याय नहीं ? क्या ये माँ-बाप के नौकरी पर होने से बच्चों की प्रतिभा से अन्याय नहीं या फिर हरियाणा के मुख्यमंत्री ने अपने भाई का घर बसाने का ठेका ले रखा है और उन्होंने पति-पत्नी के बीच कभी तलाक न होने का फरमान जारी कर दिया है.) जी हाँ, कन्फ्यूज्ड सरकार की कन्फ्यूज्ड  पॉलिसी  ने अभ्यर्थियों को कंफ्यूज कर दिया है. हरियाणा में हर भर्ती के लिए सोसियो इकोनॉमिक के अंक देने का नियम चला है. सोच कर देखिये सौ अंकों के पेपर में अगर बीस अंकों की खैरात बांटी जाये तो किसका चयन होगा?  क्या वहां कोई भी मेहनती बच्चा जिसके पास ये बीस अंक नहीं है वो टिक पायेगा? ये अंक उन बच्चों को नहीं मिलेंगे जिस घर में पति-पत्नी, भाई, बहन, सास-ससुर य...