जगदलपुर

चित्रकोट जलप्रपात के विहंगम दृश्य को देखकर मुग्ध हुईं राज्यपाल
खास खबर, जगदलपुर

चित्रकोट जलप्रपात के विहंगम दृश्य को देखकर मुग्ध हुईं राज्यपाल

जगदलपुर (IMNB). भारत का नियाग्रा कहे जाने वाले चित्रकोट जलप्रपात के विहंगम दृश्य को देखकर राज्यपाल सुश्री अनुसूईया उइके मुग्ध हो गईं। उन्होंने इस जलप्रपात के सौन्दर्य को निहारा और जमकर प्रशंसा करते हुए इसे पूरे राज्य का गौरव बताया। उन्होंने जल प्रपात के कारण उत्पन्न कलरव के बीच जल प्रपात के अद्भूत सौंदर्य को काफी देर तक निहारा। उल्लेखनीय है कि 75 भारत का नियाग्रा कहे जाने वाले चित्रकोट जलप्रपात के विहंगम दृश्य को देखकर राज्यपाल सुश्री अनुसूईया उइके मुग्ध हो गईं। उन्होंने इस जलप्रपात के सौन्दर्य को निहारा और जमकर प्रशंसा करते हुए इसे पूरे राज्य का गौरव बताया। उन्होंने जल प्रपात के कारण उत्पन्न कलरव के बीच जल प्रपात के अद्भूत सौंदर्य को काफी देर तक निहारा। उल्लेखनीय है कि 75 दिनों तक चलने वाले विश्व प्रसिद्ध बस्तर दशहरा में शामिल होने के लिए राज्यपाल सुश्री उइके अपने तीन दिवसीय बस्तर प्रवास...
कुम्हड़ाकोट में नवाखाई पर्व में शामिल हुई राज्यपाल सुश्री उइके
जगदलपुर

कुम्हड़ाकोट में नवाखाई पर्व में शामिल हुई राज्यपाल सुश्री उइके

जगदलपुर (IMNB). राज्यपाल सुश्री अनुसुईया उइके अपने बस्तर प्रवास के दौरान आज विश्व प्रसिद्ध बस्तर दशहरा पर्व के बाहर रैनी रस्म के अंतर्गत कुम्हड़ाकोट में आयोजित नवाखाई पर्व में शामिल हुईं। उन्होंने कुम्हडाकोट जगदलपुर में बस्तर के माटी पुजारी कमलचंद भंजदेव एवं उनके परिजनों के साथ देवी-देवताओं की विधि-विधान के साथ पूजा-अर्चना के बाद सिंगार लाड़ी में बैठकर दोना में नये चावल से बने अन्न खा कर नवाखाई रस्म में सहभागिता निभाई। इस दौरान राजमाता कृष्णा कुमारी देवी एवम उनके परिजनों के अलावा बस्तर सांसद एवं बस्तर दशहरा समिति के अध्यक्ष श्री दीपक बैज, संसदीय सचिव श्री रेखचंद जैन, दन्तेवाड़ा विधायक श्रीमती देवती कर्मा, संभाग आयुक्त श्री जीआर चुरेन्द्र, आईजी श्री सुंदरराज पी., मुख्य वन संरक्षक श्री मोहम्मद शाहिद, कलेक्टर श्री रजत बंसल, पुलिस अधीक्षक श्री जितेंद्र मीणा सहित जनप्रतिनिधियों एवम दशहरा समिति से ...
बदलता बस्तर : नई तस्वीर : नरवा योजना से औसत भू जलस्तर में हुई 8.4 प्रतिशत वृद्धि
जगदलपुर

बदलता बस्तर : नई तस्वीर : नरवा योजना से औसत भू जलस्तर में हुई 8.4 प्रतिशत वृद्धि

झोड़ी जतन प्रतियोगिता में 66 नरवा का चयन कर 5423 कार्यों की दी स्वीकृति जगदलपुर (IMNB). धरती में जीवों के लिए जल की उपलब्धता सर्वाधिक अनिवार्य संसाधनों में से एक है। पर्यावरण सहित हमारे कृषि, व्यापार, वाणिज्य, उद्योग संस्कृति इसी पर निर्भर है। राज्य शासन द्वारा प्रारंभ किये नरवा योजना से न केवल लघु नालो को पुनर्जीवन मिला है बल्कि कहीं कहीं तो ये नाले बारहमासी में तब्दील हो चले है। इस तरह जंगल में सूखते पेड़ो को बचाने और मिट्टी कटाव को रोकने के साथ -साथ भू जल स्तर में वृद्धि में भी नरवा योजना संजीवनी साबित हुई है। फ्लैगशिप सुराजी योजना के घटक में नरवा, गरवा, घुरवा, बाड़ी के तहत् नरवा योजना के जिले में जल संचय और जल स्रोतो के संरक्षण के तहत जिले के सातों विकासखण्ड के 40 नरवा का चयन किया गया है जिसकी कुल लम्बाई 624.65 कि.मी. है। इन नरवा के विकास से लगभग 11674 हेक्टेयर में सिंचाई सुविधा का विका...
क्वांटीफायबल डाटा आयोग 13 से 15 सितंबर तक बस्तर संभाग के दौरे पर   अन्य पिछड़ा वर्ग तथा आर्थिक रूप से कमजोर वर्गों के संगठनों एवं प्रतिनिधियों से करेंगे मुलाकात
खास खबर, छत्तीसगढ़ प्रदेश, जगदलपुर

क्वांटीफायबल डाटा आयोग 13 से 15 सितंबर तक बस्तर संभाग के दौरे पर अन्य पिछड़ा वर्ग तथा आर्थिक रूप से कमजोर वर्गों के संगठनों एवं प्रतिनिधियों से करेंगे मुलाकात

  जगदलपुर 12 सितंबर 2021/ राज्य की जनसंख्या में अन्य पिछड़ा वर्ग एवं आर्थिक रूप से कमजोर वर्गों का सर्वेक्षण कर क्वांटीफायबल डाटा एकत्रित करने के लिए गठित क्वांटीफायबल डाटा आयोग 13 सितंबर से 15 सितंबर तक बस्तर संभाग के दौरे पर रहेगा। आयोग के सचिव से प्राप्त जानकारी के अनुसार क्वांटीफायबल आयोग के अध्यक्ष और सचिव 13 सितंबर को सवेरे 10 बजे रायपुर से रवाना होकर 01 बजे कांकेर पहुंचेंगे और वहां 0 1बजे रेस्ट हाउस में अन्य पिछड़ा वर्ग तथा आर्थिक रूप से कमजोर वर्गों के संगठनों एवं प्रतिनिधियों से मुलाकात करेंगे। आयोग के अध्यक्ष और सचिव अपरान्ह 3 बजे कांकेर से रवाना होकर शाम 6 बजे जगदलपुर पहुंचेंगे और वहां रात्रि विश्राम करेंगे। अगले दिन 14 सितम्बर को आयोग के अध्यक्ष और सचिव पूर्वान्ह 11 बजे जगदलपुर में अन्य पिछड़ा वर्ग तथा आर्थिक रूप से कमजोर वर्गों के संगठनों एवं प्रतिनिधियों से मुलाकात करेंगे। आ...
आदिवासी संस्कृति के संरक्षण एवं सांस्कृतिक विधाओं का अभिलेखीकरण कार्य की प्रगति की समीक्षा
जगदलपुर

आदिवासी संस्कृति के संरक्षण एवं सांस्कृतिक विधाओं का अभिलेखीकरण कार्य की प्रगति की समीक्षा

जगदलपुर (IMNB). कलेक्टर श्री रजत बंसल ने सभी समाज प्रमुखों से कहा कि समाज की परंपरागत नृत्य, भाषा, किताबीकरण के लिए जानकर व्यक्तियों की जानकारी प्रशासन से साझा करें जिससे इनके अभिलेखीकरण में सहायता मिल सके। कलेक्टर श्री बंसल आज समाज प्रमुखों से जनजाति संस्कृति के संरक्षण एवं सांस्कृतिक विधाओं के अभिलेखीकरण और बादल (बस्तर आर्ट,डांस एंड लेंग्वेज अकादमी) के सम्बंध में जिला कार्यालय के प्रेरणा हाल में चर्चा कर रहे थे। बैठक में सीईओ जिला पंचायत ऋचा प्रकाश चौधरी, अपर कलेक्टर श्री अरविंद एक्का, एसडीएम श्री जी आर मरकाम, आदिवासी विकास विभाग के उपायुक्त श्री विवेक दलेला सहित सभी समाजों के प्रमुख उपस्थित रहे। आदिवासी विकास उपायुक्त श्री दलेला ने बताया कि जनजाति संस्कृति के संरक्षण एवं सांस्कृतिक विधाओं के अभिलेखीकरण हेतु जिला स्तर पाँच समितियाँ गठित की गई है। जो कि बस्तर में निवासरत जनजाति ताना-बाना...
बस्तर जिले के सेमरा का ट्राईफूड पार्क पूरे देश में आदर्श फूड पार्क के रूप में स्थापित होगा: केन्द्रीय जनजातीय मंत्री अर्जुन मुण्डा
Uncategorized, खास खबर, छत्तीसगढ़ प्रदेश, जगदलपुर, देश-विदेश

बस्तर जिले के सेमरा का ट्राईफूड पार्क पूरे देश में आदर्श फूड पार्क के रूप में स्थापित होगा: केन्द्रीय जनजातीय मंत्री अर्जुन मुण्डा

*वनधन विकास केंद्रों को मिला पुरस्कार* *प्रयास आवासीय विद्यालय और बालक क्रीड़ा परिसर के प्रतिभावान छात्र हुए सम्मानित* रायपुर, 27 अगस्त 2021/ केन्द्रीय जनजातीय मंत्री श्री अर्जुन मुण्डा ने कहा कि बस्तर जिले के बाबू सेमरा का ट्राईफूड पार्क पूरे देश में एक आदर्श फूड पार्क के रूप में स्थापित होगा। जो अपने उच्च गुणवत्ता के उत्पादों के कारण बस्तर के नाम को पूरे देश और दुनिया को परचित करने के अलावा स्वरोजगार प्रदान कराने वाला महत्वपूर्ण केन्द्र बनेगा। इस आशय के विचार केन्द्रीय मंत्री श्री मुण्डा आज सेमरा स्थित फूड पार्क में आयोजित ट्राईफेड के वनधन सम्मेलन 2021 कार्यक्रम में व्यक्त किए। मंत्री श्री मुण्डा ने कहा कि ट्राईफूड प्रदेश में एक मात्र लघु वनोपज उत्पाद केन्द्र के रूप में इसके संकल्पना को साकार करने जा रहा है। यह उत्पादन केन्द्र राज्य का मुख्य केन्द्र बनेगा। इसके माध्यम से बड़ी ...
बदलता बस्तर : नई तस्वीर : दिल्ली में नक्सली दहशत की नहीं बल्कि पपीते के मिठास की हो रही चर्चा
जगदलपुर, रायपुर

बदलता बस्तर : नई तस्वीर : दिल्ली में नक्सली दहशत की नहीं बल्कि पपीते के मिठास की हो रही चर्चा

दरभा में प्रशासन की पहल और महिलाओं की मेहनत ला रही रंग जनवरी में रोपे गए पौधों में जुलाई से शुरु हुई फलों की तुड़ाई अब तक सात-आठ बार हो चुकी तुड़ाई में दस टन से अधिक फलों की हो चुकी है बिक्री पपीते के अच्छे उत्पादन से महिलाओं का बढ़ा उत्साह जगदलपुर (IMNB). राष्ट्रीय स्तर पर आमतौर पर बस्तर की चर्चा नक्सली घटनाओं के कारण ही होती है, मगर देश की राजधानी में चर्चा का विषय नक्सली दहशत नहीं बल्कि यहां के पपीते की मिठास थी। पिछले दिनों दिल्ली में आयोजित फ्रेश इंडिया शो में हाईटेक तरीके से की जा रही इस खेती की जमकर सराहना हुई। पपीते की हाईटेक खेती उस इलाके में हो रही है, जहां के किसान पारंपरिक पेंदा खेती के सहारे ही अपने परिवार का भरण पोषण करते थे। पेंदा खेती के कारण यहां बड़े पैमाने पर जंगलों को भी नुकसान पहुंचा और यहां के ग्रामीणों को भी किसी प्रकार की आय नहीं बढ़ी। ऐसी स्थिति में प्रशासन द्वारा इ...
छापरभानपुरी में भी धुमधाम से मनाया गया विश्व आदिवासी दिवस,
खास खबर, छत्तीसगढ़ प्रदेश, जगदलपुर

छापरभानपुरी में भी धुमधाम से मनाया गया विश्व आदिवासी दिवस,

, अनिल सेठिया तोकापाल ब्लॉक के छापरभानपुरी में भी धुमधाम से मनाया गया विश्व आदिवासी दिवस, सेमरेया आया, व जलनी आया, के गुड़ी से सेवा अर्जी करने के पश्चात एक तीर एक कमान, सर्व आदिवासी एक समान, के नारे से गुंजने लगा पुरा छापरभानपुरी के आसपास के पुरे गाँव, कुल मिलाकर 8 पंचायत के पुरे गाँव के लोग मिलकर बड़ी धुमधाम से मनाया गया, गाँव के माटी पुजारी की उपस्थिति में गाँव गोसिन आया (माता) माटी की सेवा अर्जी की गई, तत्पश्चात कार्यक्रम का शुभारंभ हुआ, इस अवसर पर शिक्षा, स्वास्थ्य, रोजगार, पर विस्तृत जानकारी समाज के बुधिजिवीयों के द्वारा दिया गया, लोकसभा न विधानसभा, सबसे बड़ा है, ग्राम सभा,, के तहत संविधान की जानकारी भी दिया गया, पेसा कानून, रूढ़ीप्रथा,व संस्कृति की गंभीरता पूर्वक बुध्दिजीवीयों के द्वारा विस्तृत जानकारी दिया गया, इस अवसर पर नन्हें बच्चों व स्कूली छात्र छात्राओं के द्वारा सांस्कृ...
भगत सिंह हायर सेकेण्डरी स्कूल में आयोजित शाला प्रवेशोत्सव में बच्चों का तिलक, पुष्पहार, मिठाई और पाठ्य पुस्तम देकर किया गया स्वागत
जगदलपुर

भगत सिंह हायर सेकेण्डरी स्कूल में आयोजित शाला प्रवेशोत्सव में बच्चों का तिलक, पुष्पहार, मिठाई और पाठ्य पुस्तम देकर किया गया स्वागत

छात्राओं को निःशुल्क सायकल का किया गया वितरण भगत सिंह हायर सेकेण्डरी स्कूल में शाला प्रवेशोत्सव नवनिर्मित मंच का किया लोकार्पण जगदलपुर (IMNB). लगभग 16 माह के बाद स्कूलों के पुनः संचालन से शिक्षकों और विद्यार्थियों मंे खुशी देखी जा रही है। आज जगदलपुर स्थित शहीद भगत सिंह हायर सेकेण्डरी स्कूल में शाला प्रवेशोत्सव का आयोजन किया गया, जिसमें संसदीय सचिव श्री रेखचंद जैन, महापौर श्रीमती सफीरा साहू, नगर निगम अध्यक्ष श्रीमती कविता साहू सहित जनप्रतिनिधियों और शिक्षा विभाग के अधिकारियों ने विद्यार्थियों का स्वागत तिलक लगाकर पुष्पहार और मिठाई खिलाकर किया। इस अवसर पर विद्यार्थियों को पाठ्यपुस्तक और छात्राओं को सरस्वती सायकल योजना के तहत निःशुल्क सायकल भी प्रदान किया गया। इसके साथ ही प्रतिभावान विद्यार्थियों का सम्मान भी किया गया। इस अवसर पर नवनिर्मित मंच का भी लोकार्पण किया गया। इस अवसर पर संसदीय सच...
छत्तीसगढ़ राज्य महिला आयोग ने दिया ऐतिहासिक निर्णय,61 बेटियों के लिए नगरनार इस्पात संयंत्र में नौकरी का 12 वर्ष पुराना इंतजार खत्म
खास खबर, छत्तीसगढ़ प्रदेश, जगदलपुर

छत्तीसगढ़ राज्य महिला आयोग ने दिया ऐतिहासिक निर्णय,61 बेटियों के लिए नगरनार इस्पात संयंत्र में नौकरी का 12 वर्ष पुराना इंतजार खत्म

  जगदलपुर, 13 जुलाई 2021/ मां दंतेश्वरी की पावन बस्तर भूमि में आज बेटियों के पक्ष में ऐतिहासिक दिन आया है। जगदलपुर में आज छत्तीसगढ़ राज्य महिला आयोग द्वारा सुनवाई के बाद संपत्ति में समानता के अधिकार के आधार पर 61 बेटियों के एनएमडीसी के नगरनार स्थित इस्पात संयंत्र में नौकरी के लिए पात्र पाया गया है। छत्तीसगढ़ राज्य महिला आयोग की अध्यक्ष डॉ किरणमयी नायक की उपस्थिति में आज जगदलपुर में बस्तर जिले से संबंधित 98 प्रकरणों की सुनवाई कलेक्टोरेट स्थित प्रेरणा कक्ष में की गई। इस सुनवाई के दौरान नगरनार इस्पात संयंत्र में समानता के अधिकार के आधार पर नौकरी की मांग करने वाली 71 महिलाओं के प्रकरण भी शामिल थे। प्रकरण की सुनवाई के दौरान आयोग के द्वारा नामित सदस्यों की लिखित रिपोर्ट की प्रति आयोग को प्रस्तुत किया गया। 25 दिसंबर 2006 को कट ऑफ डेट के आधार पर तैयार इस रिपोर्ट के अनुसार मात्र 18 बेटियों...