कोरिया

घर वाले बीमार वृद्धा को मुक्तिधाम में फेंक गए सोशल मीडिया में फोटो वायरल होते ही महिला आयोग हुई सक्रिय पीड़िता से मिलने पहुँचे अफसर
कोरिया, खास खबर, छत्तीसगढ़ प्रदेश

घर वाले बीमार वृद्धा को मुक्तिधाम में फेंक गए सोशल मीडिया में फोटो वायरल होते ही महिला आयोग हुई सक्रिय पीड़िता से मिलने पहुँचे अफसर

रायपुर/ सोशल मीडिया में एक महिला के मुक्तिधाम में गुजर बसर करने के मामले में राज्य महिला आयोग ने संज्ञान लिया है। रायपुर एवं कोरिया जिला के कांग्रेस के सदस्यों द्वारा उक्त मामले से राज्य महिला आयोग अध्यक्ष डाॅ. किरणमयी नायक को अवगत कराया था। कांग्रेस सदस्यों द्वारा मामले से अवगत कराने के बाद महिला आयोग अध्यक्ष डाॅ. किरणमयी नायक द्वारा मामले को तत्काल संज्ञान में लेकर कलेक्टर कोरिया को अवगत कराया गया जिसके बाद मनेन्द्रगढ़ एसडीएम प्रशासनिक अमले के साथ मुक्तिधाम पहुंची वहां महिला से मुलाकात कर उसकी बीमारी की जानकारी ली जिसके बाद उसे मनेंद्रगढ़ से सामुदायिक सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र में उपचार के लिए भर्ती कराया गया। जहां डॉक्टरों की देखरेख में उनका उपचार चल रहा है वही प्रशासनिक अधिकारियों का कहना है कि यदि डॉक्टर ,महिला को इलाज के लिए बाहर रेफर करते हैं तो वहां भी महिला आयोग एवं प्रशासनिक अ...
शराब दुकान खोलने पर माकपा ने पूछा — भूपेश सरकार की प्राथमिकता क्या है : कोरोना या मोरोना
कवर्धा, कांकेर, कोंडागांव, कोरबा, कोरिया, खास खबर, गरियाबंद, छत्तीसगढ़ प्रदेश, जगदलपुर, जशपुर, जांजगीर – चाम्पा, दंतेवाड़ा, दुर्ग, धमतरी, नारायणपुर, बलरामपुर, बलोदा बाज़ार, बालोद, बिलासपुर, बेमेतरा, महासमुंद, मुंगेली, राजनांदगांव, रायगढ़, रायपुर, सरगुजा-अंबिकापुर

शराब दुकान खोलने पर माकपा ने पूछा — भूपेश सरकार की प्राथमिकता क्या है : कोरोना या मोरोना

  *मार्क्सवादी कम्युनिस्ट पार्टी* ने कोरोना महामारी के मद्देनजर लॉक डाऊन के दौरान शराब दुकानें खोले जाने के राज्य सरकार के फैसले की तीखी निंदा की है और पूछा है कि सरकार को स्पष्ट करना चाहिए कि उसकी प्राथमिकता क्या है : कोरोना या मोरोना? पार्टी ने कहा है कि आम जनता की जिंदगी की कीमत पर मुनाफा कमाने की सरकार को इजाजत नहीं दी जा सकती। आज यहां जारी एक बयान में माकपा राज्य सचिव मंडल ने कहा है कि लॉक डाऊन के दौरान प्रदेश की 80% आबादी के सामने आजीविका बर्बाद होने के कारण रोजी-रोटी की समस्या आ खड़ी हुई है। अभी तक सरकार ने दो माह के मुफ्त अनाज की घोषणा के अलावा आम जनता को राहत देने के कोई भी कदम नहीं उठाए हैं। मुफ्त राशन वितरण में भी आदिवासी अंचलों में भारी गड़बड़ियां होने की शिकायतें सामने आ रही है। लॉक डाऊन के दौरान सामाजिक और आर्थिक रूप से कमजोर तबकों और बेसहारा लोगों के लिए भोजन की व...