देश-विदेश

छत्तीसगढ़ के गोधन न्याय और मितान योजना को मिली प्रशंसा0‘डिजिटल इंडिया सप्ताह अंतर्गत छत्तीसगढ़ का प्रस्तुतिकरण’
खास खबर, छत्तीसगढ़ प्रदेश, देश-विदेश, रायपुर

छत्तीसगढ़ के गोधन न्याय और मितान योजना को मिली प्रशंसा0‘डिजिटल इंडिया सप्ताह अंतर्गत छत्तीसगढ़ का प्रस्तुतिकरण’

  रायपुर, 06 जुलाई 2022/छत्तीसगढ़ के महत्वाकांक्षी गोधन न्याय योजना और मितान योजना को गुजरात के अहमदाबाद स्थित गांधीनगर महात्मा मंदिर में 4 से 9 जुलाई 2022 तक आयोजित डिजिटल इंडिया सप्ताह में सराहना मिली है। छत्तीसगढ़ की ओर से आज तीसरे दिन आयोजित कांफ्रेंस में भाग लेते हुए इलेक्ट्रॉनिक्स एवं सूचना प्रौद्योगिकी विभाग के विशेष सचिव एवं छत्तीसगढ़ इन्फोटेक प्रमोशन सोसायटी के मुख्य कार्यपालन अधिकारी श्री समीर विश्नोई ने राज्य की महत्वाकांक्षी मितान योजना की विस्तृत जानकारी प्रदान की। श्री विश्नोई ने बताया कि राज्य शासन द्वारा प्रारंभ की गई मितान योजना का मुख्य उद्देश्य शासकीय सेवा वितरण प्रणाली में सुधार लाते हुए नागरिकों को घर पहुंच सेवा का लाभ प्रदान करना है। इसके अलावा गोधन न्याय योजना की भी जानकारी प्रदान की गई। मंच संचालन कर रहे भारत शासन सूचना प्रौद्योगिकी मंत्रालय के सचिव श्री राज...
कमाई की होड़ में शिक्षण संस्थान, शिक्षा का बाजार या बाजार की शिक्षा(लेख प्रियंका सौरभ)
खास खबर, देश-विदेश, लेख-आलेख

कमाई की होड़ में शिक्षण संस्थान, शिक्षा का बाजार या बाजार की शिक्षा(लेख प्रियंका सौरभ)

  शिक्षा के व्यावसायीकरण के कारण शिक्षण एक जुनून के बजाय एक शुद्ध पेशा बन गया है और शिक्षण संस्थानों ने मूल्यों को विकसित करना बंद कर दिया है। स्कूल चार दीवारों वाली एक इमारत है जिसके अंदर एक उज्जवल कल है। यदि विद्यालय मूल्यों को विकसित करने में विफल रहते हैं तो आने वाली पीढ़ी सामाजिक बुराइयों से प्रभावित हो सकती है। असहिष्णुता, कट्टरता, लैंगिक भेदभाव और अपराध में वृद्धि देखी जा सकती है। -प्रियंका 'सौरभ' "शिक्षा का उद्देश्य तथ्य नहीं बल्कि मूल्यों का ज्ञान है।" युवा मन में इन मूल्यों को विकसित करने में स्कूल और कॉलेज एक प्रमुख भूमिका निभाते हैं। अनुशासन, जवाबदेही, अखंडता, टीम वर्क, करुणा, विश्वास और ईमानदारी सबसे महत्वपूर्ण मूल्य हैं जो स्कूलों में पेश किए जाते हैं। शिक्षक को छात्रों में उपरोक्त मूल्यों को विकसित करने के लिए एक रोल मॉडल के रूप में कार्य करना चाहिए। हालाँकि, शिक्ष...
उद्धव ठाकरे को लग सकता है और बड़ा झटका, एकनाथ शिंदे के साथ खड़े हो सकते हैं 18 में से 11 सांसद
देश-विदेश

उद्धव ठाकरे को लग सकता है और बड़ा झटका, एकनाथ शिंदे के साथ खड़े हो सकते हैं 18 में से 11 सांसद

मुंबई (IMNB)। शिवसेना और उद्धव ठाकरे के लिए मुश्किलें कम होने का नाम नहीं ले रही हैं। महाराष्ट्र में पार्टी में बगावत के बाद उद्धव ठाकरे के हाथ से सत्ता पहले ही जा चुकी है। अब पार्टी को बचाने की पूरी तरह से कवायद की जा रही है। इन सब के बीच एक ऐसी खबर आ रही है जो कि शिवसेना के लिए आगे की मुश्किलों को और बढ़ा सकती हैं। खबर के मुताबिक शिवसेना में एकनाथ शिंदे गुट का दावा मजबूत होता दिखाई दे रहा है। सूत्रों का दावा तो यह भी है कि शिवसेना के 18 में से 11 सांसद एकनाथ शिंदे के साथ खड़े हो सकते हैं। कहीं ना कहीं यह शिवसेना के लिए किसी बड़े झटके से कम नहीं होगा। हालांकि एकनाथ शिंदे गुट का दावा है कि असली शिवसेना वही है। आपको बता दें कि शिवसेना के 40 से ज्यादा विधायक फिलहाल एकनाथ शिंदे के साथ खड़े दिखाई दे रहे हैं। जो सांसद एकनाथ शिंदे के साथ खड़े दिखाई दे रहे हैं उनमें कल्याण से सांसद और एकनाथ शिंद...
ब्रिटेन के वित्त मंत्री ऋषि सुनक और स्वास्थ्य सचिव ने दिया इस्तीफा, बोले- बोरिस जॉनसन पर भरोसा नहीं रहा
देश-विदेश

ब्रिटेन के वित्त मंत्री ऋषि सुनक और स्वास्थ्य सचिव ने दिया इस्तीफा, बोले- बोरिस जॉनसन पर भरोसा नहीं रहा

लंदन (IMNB)। ब्रिटेन के वित्त मंत्री ऋषि सुनक और स्वास्थ्य सचिव साजिद जाविद ने मंगलवार को अपने पद से इस्तीफा दे दिया। दोनों कैबिनेट मंत्रियों ने यह कहते हुए इस्तीफा दे दिया कि उन्हें पीएम बोरिस जॉनसन पर भरोसा नहीं रहा है। इसी के साथ प्रधानमंत्री बोरिस जॉनसन की सरकार पर संकट के बादल मंडराने लगे हैं। जाविद ने कहा कि उन्होंने एक के बाद एक घोटालों के बाद जॉनसन की राष्ट्रीय हित में शासन करने की क्षमता पर विश्वास खो दिया है। उन्होंने कहा कि कई सांसदों और जनता ने जॉनसन की राष्ट्रीय हित में शासन करने की क्षमता पर विश्वास खो दिया है। जॉनसन को लिखे इस्तीफे में, स्वास्थ्य सचिव जाविद ने कहा, "मेरे लिए यह स्पष्ट है कि अब स्थिति आपके नेतृत्व में बदलेगी नहीं - और इसलिए आप पर मेरा आत्मविश्वास भी खो गया है।" वहीं प्रधानमंत्री को अपना इस्तीफा देते हुए ब्रिटेन के वित्त मंत्री ऋषि सुनक ने ट्विटर पर लिखा, "ज...
नूपुर शर्मा केस में सुप्रीम कोर्ट के जजों को ट्रोल कर रही BJP, रणदीप सुरजेवाला का ट्वीट
देश-विदेश

नूपुर शर्मा केस में सुप्रीम कोर्ट के जजों को ट्रोल कर रही BJP, रणदीप सुरजेवाला का ट्वीट

नई दिल्ली (IMNB)। नूपुर शर्मा केस में सुप्रीम कोर्ट द्वारा सुनवाई के दौरान की गई टिप्पणी के बाद मामला लगातार बढ़ता जा रहा है। अब मामले में कांग्रेस भी कूद गई है। पार्टी के राष्ट्रीय प्रवक्ता रणदीप सुरजेवाला ने ट्वीट किया कि नूपुर शर्मा केस में भाजपा सुप्रीम कोर्ट के जजों को ट्रोल कर रही है। सुरजेवाला लिखते हैं कि यह न्यायपालिका की स्वतंत्रता के लिए अग्निपरीक्षा है। इसलिए अब मामले में सीजेआई और सुप्रीम कोर्ट को ऐक्शन लेना चाहिए। दरअसल, नूपुर शर्मा केस में नया घटनाक्रम तब सामने आया, जब खुद नूपुर की ओर से सुप्रीम कोर्ट में याचिका दायर की गई थी कि उनके केस देश के अलग-अलग हिस्सों में दर्ज हैं, कृपया सभी केस दिल्ली ट्रांसफर किए जाएं क्योंकि, उनकी जान को खतरा है। जिसके बाद सुप्रीम कोर्ट ने तल्ख टिप्पणी की और कहा कि उनके एक बयान के कारण देश हिंसा झेल रहा है। उदयपुर में हुई घटना उनके बयान के कारण ...
लालू यादव के स्वास्थ्य को लेकर पीएम मोदी चिंतित, तेजस्वी को फोन कर जाना हाल-चाल
खास खबर, देश-विदेश

लालू यादव के स्वास्थ्य को लेकर पीएम मोदी चिंतित, तेजस्वी को फोन कर जाना हाल-चाल

नई दिल्ली (IMNB)। राजद सुप्रीमो और बिहार के पूर्व मुख्यमंत्री लालू यादव की तबीयत ठीक नहीं चल रही है। वह काफी दिनों से बीमार हैं। इन सब के बीच 3 जुलाई को यह खबर आ गई कि लालू प्रसाद यादव सीढ़ियों से गिर गए हैं जिसकी वजह से उनके कंधे और हाथ में गंभीर चोट आई है। सूत्रों के मुताबिक लालू यादव के कंधे की हड्डी में फ्रैक्चर हो गया है और उन्हें 2 महीने के लिए बेड रेस्ट के लिए कहा गया है। फिलहाल लालू यादव अस्पताल में भर्ती हैं और डॉक्टर लगातार उनके स्वास्थ्य की निगरानी कर रहे हैं। इन सबके बीच खबर यह भी है कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने तेजस्वी यादव को फोन कर लालू प्रसाद यादव के हालचाल जाना है। चौहत्तर वर्षीय लालू प्रसाद अस्पताल के आईसीयू में भर्ती हैं। जानकारी के मुताबिक प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने मंगलवार शाम तेजस्वी यादव को फोन किया और लालू यादव के स्वास्थ्य ...
जरूरत पड़ने पर तमिलनाडु का विभाजन होगा, अब भाजपा नेता ने दिया विवादित बयान
देश-विदेश

जरूरत पड़ने पर तमिलनाडु का विभाजन होगा, अब भाजपा नेता ने दिया विवादित बयान

चेन्नई (IMNB)। तमिलनाडु में भाजपा के सदन के नेता नैनार नागेंद्रन ने मंगलवार को एक विवादास्पद बयान देते हुए कहा कि अगर जरूरत पड़ी तो राज्य का विभाजन किया जाएगा। उनका यह बयान डीएमके सांसद ए राजा के एक विवादित बयान के बाद आया है। दरअसल सत्ताधारी द्रविड़ मुनेत्र कड़गम (डीएमके) के नेता ए राजा ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह से तमिलनाडु को स्वायत्तता प्रदान करने का आग्रह करते हुए कहा कि, उन्हें एक स्वतंत्र देश की मांग करने के लिए बाध्य नहीं किया जाए। अब भाजपा नेता नागेंद्रन ने कहा है कि भाजपा और प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी तमिलनाडु का विभाजन कर सकते हैं क्योंकि उनके पास वे अधिकार हैं। उन्होंने मंगलवार को पूरे तमिलनाडु में भाजपा द्वारा आयोजित एक दिवसीय उपवास में ये विवादास्पद टिप्पणी की। भाजपा ने सत्तारूढ़ द्रमुक द्वारा 2021 के विधानसभा चुनावों से पहले किए गए अपने चुना...
महंगाई उच्चतम सीमा पर , आवश्यक वस्तुओं के मूल्यों को रोकने नए प्रभावी नियंत्रक कानून की आवश्यकताl (लेख संजीव ठाकुर)
देश-विदेश, लेख-आलेख

महंगाई उच्चतम सीमा पर , आवश्यक वस्तुओं के मूल्यों को रोकने नए प्रभावी नियंत्रक कानून की आवश्यकताl (लेख संजीव ठाकुर)

भारत में पिछले दो वर्षों में महंगाई चरम पर पहुंच गई हैl भारत की जनसंख्या के मद्देनजर लगभग 135 करोड़ लोगों के लिए आवश्यक वस्तुओं के दाम पहुंच से बाहर होते जा रहे हैं। आपको यह बता दें कि आवश्यक वस्तुओं में चावल, दाल, गेहूं, केरोसिन, गैस, पेट्रोल, डीजल और अन्य रोजमर्रा की चीजें समाहित है ।आवश्यक वस्तुओं के मूल्य केरोसिन,गैस और पेट्रोल ,डीजल को छोड़कर अन्य चीजों कीमतों पर प्रभावी नियंत्रण के लिए कोई भी अत्यंत प्रभावी नियंत्रक कानून प्रचलन में नहीं है और जो वर्तमान में प्रचलित धाराएं हैं वह बढ़ती कीमतों पर प्रभावी नियंत्रण के लिए पर्याप्त ना होकर काफी लचीली है। आवश्यक वस्तु अधिनियम को भी परिमार्जित करने की आवश्यकता प्रतीत होती है। यदि वर्तमान जैसा परिदृश्य लगातार चलता रहा तो महंगाई बेलगाम हो जाएगी और तमाम आवश्यक वस्तुओं की कीमतें आम आदमी की पहुंच से बाहर होकर अनियंत्रित हो जाएगीl इसी लिए के...
अत्यधिक ऑनलाइन गेमिंग बच्चों की शिक्षा और सोच पर डाल रही हानिकारक प्रभाव (लेख सत्यवान सौरभ)
खास खबर, देश-विदेश, लेख-आलेख

अत्यधिक ऑनलाइन गेमिंग बच्चों की शिक्षा और सोच पर डाल रही हानिकारक प्रभाव (लेख सत्यवान सौरभ)

अत्यधिक ऑनलाइन गेमिंग बच्चों की शिक्षा और सोच पर डाल रही हानिकारक प्रभाव। सरकार बच्चों के लिए ऑनलाइन गेमिंग घंटे को विनियमित कर सकती है। उदाहरण के लिए, हाल ही में, चीन ने 18 साल से कम उम्र के गेमर्स को प्रति सप्ताह केवल तीन घंटे ऑनलाइन गेम तक सीमित कर दिया। -सत्यवान 'सौरभ'   हाल ही में सरकार ने ऑनलाइन गेमिंग को विनियमित करने और उसकी देखरेख के लिए एक मंत्रालय की पहचान करने के लिए एक समिति के गठन की घोषणा की है। बदलते तकनीकी दौर में आज अधिक से अधिक राज्य ऑनलाइन गेमिंग क्षेत्र में कुछ आदेश लाने के लिए कानून ला रहे हैं। हाल ही में, राजस्थान सरकार ने ऑनलाइन गेम, विशेष रूप से फंतासी खेलों को विनियमित करने के लिए एक मसौदा विधेयक लाया। इससे पहले, तमिलनाडु, तेलंगाना, आंध्र प्रदेश और कर्नाटक जैसे राज्यों ने भी ऑनलाइन गेम पर प्रतिबंध लगाने वाले कानून पारित किए थे। हालांकि, उन्हें राज...
महाराष्ट्र में ढीली हो गई उद्धव ठाकरे की पकड़! बचे विधायकों में आधे मुंबई से, यूं बदली राजनीति
देश-विदेश

महाराष्ट्र में ढीली हो गई उद्धव ठाकरे की पकड़! बचे विधायकों में आधे मुंबई से, यूं बदली राजनीति

मुंबई (IMNB)। महाराष्ट्र में बहुत कम समय में हुए सियासी उथल-पुथल ने राज्य में राजनीति की पूरी तस्वीर ही बदलकर रख दी। हालांकि कहा जा रहा है कि इस बदलाव की भूमिका लंबे समय से तैयार हो रही थी। एक महीने पहले की बात करें तो आराम से उद्धव ठाकरे की सरकार चल रही थी। सरकार के पास 153 विधायकों का समर्थन था। इसके बाद अचानक मानो बगावत का तूफान आ गया। कुछ ही दिनों ने एकनाथ शिंदे के गुट ने उद्धव ठाकरे को घुटने पर ला दिया। उद्धव को हुआ दोहरा नुकसान इस बगावत से न केवल उद्धव ठाकरे की मुख्यंत्री की कुर्सी चली गई बल्कि दो तिहाई विधायक भी विरोधी खेमे में चले गए। रविवार को जब विधानसभा अध्यक्ष का चुनाव हुआ तो सही नंबर भी सामने आ गया। उद्धव ठाकरे और एकनाथ शिंदे दोनों ही गुटों ने सभी 55 शिवसेना के विधायकों के लिए व्हिप जारी की थी। भाजपा के राहुल नार्वेकर के पक्ष में 164 वोट पड़े वहीं ठाकरे के राजन साल्वी के पक्...