Sunday, April 14

Tag: वरिष्ठ पत्रकार

पत्रकार परिवार हुआ अनोखे ढंग से ठगी का शिकार,वरिष्ठ पत्रकार ,साहित्यकार कवि सुनील जायसवाल से सुने आपबीती
खास खबर, छत्तीसगढ़ प्रदेश, रायपुर

पत्रकार परिवार हुआ अनोखे ढंग से ठगी का शिकार,वरिष्ठ पत्रकार ,साहित्यकार कवि सुनील जायसवाल से सुने आपबीती

इन चेहरों को पहचान लीजिये, ठगी का नया ट्रेंड ये आपसे रिश्ते बना कर आपके घर मे घुसेंगे और कुछ महीनों में कंगाल कर देंगे।                  रायपुर। 17 मई 2023, राजधानी रायपुर में एक ठग दंपति द्वारा ठगी का बिलकुल नए ट्रेंड से एक परिवार के सभी सदस्यों को झांसे में लेकर करीब 18 लाख रुपये की ठंगी कर लिए जाने का मामला चर्चा में है। पुलिस ब्रीफिंग के अनुसार धारा 420 , 34 के तहत कल 16 मई को रायपुर के खम्हारडीह थाने में एफआईआर दर्ज किया गया। उल्लेखनीय है कि उधार दिए गए रकम को वापस मांगने व पुलिस में रिपोर्ट दर्ज कराने के बाद से पूर्णिमा शर्मा लगातार हरिजन एक्ट में फंसाने व अजाक थाने में रिपोर्ट दर्ज करने धमकी दे रही है। एक मामला रायपुर अजाक थाने में सुनील जायसवाल के खिलाफ दर्ज भी करा दिया है। इसके साथ ही पुलिस कार्यवाही के दौरान पूछताछ से बचने के लिए पूर्णिमा शर्मा के पति आदित्य हुमने ने स...
वरिष्ठ पत्रकार, जवाहर नागदेव की बेबाक कलम सीधे रस्ती की टेढ़ी चाल कांग्रेस का भीड़ जुटाकर लाना नहीं समर्थन का ताना-बाना
खास खबर, देश-विदेश, लेख-आलेख

वरिष्ठ पत्रकार, जवाहर नागदेव की बेबाक कलम सीधे रस्ती की टेढ़ी चाल कांग्रेस का भीड़ जुटाकर लाना नहीं समर्थन का ताना-बाना

जवाहर नागदेव, वरिष्ठ पत्रकार, लेखक, चिन्तक, विश्लेषक उव 9522170700 वन्देमातरम् आरक्षण पर आक्रोशित कांग्रेस बुरी तरह तिलमिला रही है। या कहें कि तिलमिलाने का दिखावा कर रही है ताकि जनता में ये संदेश जाए कि कांग्रेस ही आरक्षित वर्ग की सबसे बड़ी खैरख्वाह है। जब तक ये संदेश नहीं जाएगा वोट केसे पकेगा ? जनअधिकार रैली में लाखों लोगों को आने की तैयारी बताई गयी थी। जिलाध्यक्ष और विधायक को अपने क्षेत्र से दस से बारह हजार लोगों को लाने की जवाबदारी दी गयी थी। इसी तरह हर पार्षद को एक हजार का टॉरगेट दिया गया था। निगम,मण्डल और आयोग के पदाधिकारियों से भी दो हजार से दस हजार की भीड़ अपेक्षित थी। अब ये सब समझते हैं कि जो भीड़ लाएगा टिकट के लिये उसकी आवाज में दम दिखेगा। चाहे पैसे देकर और लंच खिलाकर भीड़ लाई गयी हो। वैसे ये कोई अनजानी बात नहीं है। कांग्रेस ही नहीं हर पार्टी के हर आंदोलन में, सभा में भीड़ दिहाड़ी ...
छत्तीसगढ़ के 22 साल : सफर बाकी है अभी  विशेष आलेख ,संदर्भ: राज्योत्सव  शगुफ्ता शीरीन , वरिष्ठ पत्रकार
खास खबर, छत्तीसगढ़ प्रदेश, रायपुर, लेख-आलेख

छत्तीसगढ़ के 22 साल : सफर बाकी है अभी विशेष आलेख ,संदर्भ: राज्योत्सव शगुफ्ता शीरीन , वरिष्ठ पत्रकार

  शगुफ्ता शीरीन , वरिष्ठ पत्रकार छत्तीसगढ़ राज्य बने 22 साल हो चुके । विकास का लंबा सफर तय हो गया कुछ हासिल हुआ कुछ नही हुआ । हासिल क्या नही हुआ जो हुआ वो दिख रहा जो नही दिख रहा वही हासिल किया जाना है । 22 सालो के दौरान प्रदेशवासियों ने तीन मुख्यमंत्री और उनके कामकाज देखे । प्रदेश को अजीत जोगी के रूप में ऐसा मुख्यमंत्री मिला जिन्हें पता था कि एक नए राज्य में क्या क्या होना चाहिए । उन्होंने जो बुनियाद रखी ,अधोसरंचनाये विकसित करने का सपना देखा वो नए छत्तीसगढ़ का भविष्य संवारने के लिये ही था ।मगर परिस्थितियां साथ नही रही उनके,लेकिन कम समय मे ही विकास का ढांचा तो बनाया ही था उन्होंने । 22 में से 15 सालो तक प्रदेश के मुख्यमंत्री डॉक्टर रमन सिंह रहे उन्होंने स्वास्थ, लोक निर्माण और औद्योगिक विकास में काम कर छत्तीसगढ़ को देश मे एक पहचान दिलाई। अब प्रदेश के मुखिया भूपेश बघेल है जो छत्तीसगढ़ी ...