Sunday, April 14

Tag: वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के माध्यम से 108वीं भारतीय विज्ञान कांग्रेस (आईएससी) में प्रधानमंत्री के संबोधन का मूल पाठ

वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के माध्यम से छत्तीसगढ़ में महतारी वंदन योजना के शुभारंभ पर प्रधानमंत्री के संबोधन का मूल पाठ
खास खबर, छत्तीसगढ़ प्रदेश, देश-विदेश, रायपुर

वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के माध्यम से छत्तीसगढ़ में महतारी वंदन योजना के शुभारंभ पर प्रधानमंत्री के संबोधन का मूल पाठ

New Delhi (IMNB). नमस्कार जी, छत्तीसगढ़ के मुख्यमंत्री श्रीमान विष्णु देव साय जी, राज्य सरकार के सभी मंत्रीगण, विधायक गण, अन्य उपस्थित महानुभाव जय-जोहार। मैं मां दंतेश्वरी, मां बम्लेश्वरी और मां महामाया को आदरपूर्वक प्रणाम करता हूं। छत्तीसगढ़ की माताओं-बहनों को भी मेरा प्रणाम। दो हफ्ते पहले मैंने छत्तीसगढ़ में 35 हजार करोड़ रुपए की परियोजनाओं का शिलान्यास और लोकार्पण किया था। और आज मुझे नारीशक्ति को सशक्त बनाने वाली महतारी वंदन योजना को समर्पित करने का सौभाग्य मिला है। महतारी वंदन योजना के तहत छत्तीसगढ़ की 70 लाख से ज्यादा माताओं-बहनों को हर महीने 1 हजार रुपए देने का वायदा किया गया था। बीजेपी सरकार ने अपना वादा पूरा किया है। आज महतारी वंदन योजना के तहत छह सौ पचपन करोड़ रुपए की पहली किश्त जारी की गई है। और मैं स्क्रिन पर देख रहा हूं, लाखों-लाखों बहनों के दर्शन हो रहे हैं, अलग-अलग स्थ...
वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के माध्यम से रोज़गार मेले के तहत विभिन्न सरकारी विभागों और संगठनों में नवनियुक्त भर्तियों को लगभग 70000 नियुक्ति पत्र वितरित करने के अवसर पर प्रधानमंत्री के भाषण का मूल पाठ
खास खबर, छत्तीसगढ़ प्रदेश, देश-विदेश

वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के माध्यम से रोज़गार मेले के तहत विभिन्न सरकारी विभागों और संगठनों में नवनियुक्त भर्तियों को लगभग 70000 नियुक्ति पत्र वितरित करने के अवसर पर प्रधानमंत्री के भाषण का मूल पाठ

New Delhi (IMNB). नमस्कार। आज जिन युवा साथियों को नियुक्ति पत्र मिल रहे हैं, उनके लिए भी यह एक यादगार दिन है, लेकिन साथ-साथ देश के लिए भी ये बहुत ऐतिहासिक दिवस है। 1947 में आज के ही दिन, यानि 22 जुलाई को तिरंगे को संविधान सभा द्वारा वर्तमान स्वरूप में स्वीकार किया गया था। इस महत्वपूर्ण दिन, आप सभी को सरकारी सेवा के लिए ज्वाइनिंग लेटर मिलना, ये अपने आप में बहुत बड़ी प्रेरणा है। सरकारी सेवा में रहते हुए आपको हमेशा तिरंगे की आन-बान-शान बढ़ाने के लिए काम करना है, देश का नाम रोशन करके दिखाना है। आजादी के अमृत महोत्सव में, जब देश विकसित होने के लक्ष्य पर काम कर रहा है, आपका सरकारी नौकरी में आना, ये बहुत बड़ा अवसर है। ये आपके परिश्रम का परिणाम है। मैं नियुक्ति पत्र पाने वाले सभी युवाओं को और आपके परिवारजनों को भी बहुत-बहुत बधाई देता हूं, बहुत-बहुत शुभकामनाएं देता हूं। साथियों, आजादी...
वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के माध्यम से वीर सावरकर अंतर्राष्ट्रीय हवाई अड्डे, पोर्ट ब्लेयर के नए एकीकृत टर्मिनल भवन के उद्घाटन के अवसर पर प्रधानमंत्री के भाषण का मूल पाठ
खास खबर, छत्तीसगढ़ प्रदेश, देश-विदेश

वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के माध्यम से वीर सावरकर अंतर्राष्ट्रीय हवाई अड्डे, पोर्ट ब्लेयर के नए एकीकृत टर्मिनल भवन के उद्घाटन के अवसर पर प्रधानमंत्री के भाषण का मूल पाठ

New Delhi (IMNB). नमस्कार! अंडमान-निकोबार द्वीप के उपराज्यपाल श्रीमान डी के जोशी जी, केंद्रीय मंत्रिमंडल के मेरे सहयोगी भाई ज्योतिरादित्य सिंधिया जी, वी के सिंह जी, संसद में मेरे साथी, सांसद श्री, अन्य सभी महानुभाव, और अंडमान-निकोबार द्वीप समूह के मेरे भाइयों और बहनों! आज का ये कार्यक्रम भले ही पोर्ट ब्लेयर में हो रहा है, लेकिन इस पर पूरे देश की नज़रें हैं। लंबे समय से अंडमान-निकोबार के लोगों की मांग थी कि वीर सावरकर एयरपोर्ट की कैपेसिटी बढ़ाई जाए। और पिछले जो हमारे सांसद थे, वो तो हर हफ्ते मेरी चैंबर में आ करके इसी काम के लिए लगे रहते थे। तो आज वो बहुत खुश नजर आ रहे हैं और में भी टीवी पर सब मेरे पुराने साथियों को देख रहा हूं। अच्‍छा होता मैं आज आपके बीच आ करके इस उत्सव में शरीक होता। लेकिन समय अभाव से नहीं आ पाया, लेकिन आप सबके चेहरे की खुशी देख रहा हूं। आनंद से भरा हुआ माहौल मैं अन...
वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के माध्यम से 108वीं भारतीय विज्ञान कांग्रेस (आईएससी) में प्रधानमंत्री के संबोधन का मूल पाठ
खास खबर, देश-विदेश

वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के माध्यम से 108वीं भारतीय विज्ञान कांग्रेस (आईएससी) में प्रधानमंत्री के संबोधन का मूल पाठ

नई दिल्ली (IMNB). नमस्कार! आप सभी को 'इंडियन साइन्स काँग्रेस' के आयोजन के लिए बहुत-बहुत बधाई। अगले 25 वर्षों में भारत जिस ऊंचाई पर होगा, उसमें भारत की वैज्ञानिक शक्ति की भूमिका बहुत महत्वपूर्ण होगी। साइंस में Passion के साथ जब देश की सेवा का संकल्प जुड़ जाता है, तो नतीजे भी अभूतपूर्व आते हैं। मुझे विश्वास है, भारत की साइंटिफिक कम्यूनिटी, भारत को 21वीं सदी में वो मुकाम हासिल कराएगी, जिसका वो हमेशा हकदार रहा है। मैं इस विश्वास की वजह भी आपको बताना चाहता हूं। आप भी जानते हैं कि Observation साइंस का मूल आधार है। Observation के जरिए आप साइंटिस्ट्स, patterns फॉलो करते हैं, फिर उन patterns को analyse करने के बाद किसी नतीजे पर पहुंचते हैं। इस दौरान एक साइंटिस्ट के लिए हर कदम पर डेटा जुटाना और उसे analyse करना बहुत महत्वपूर्ण होता है। 21वीं सदी के आज के भारत में हमारे पास दो चीजें बहुताय...