Sunday, April 14

सब इंस्पेक्टर तिर्की ने पेश की इंसानियत की शानदार मिसाल

0 बोधघाट पुलिस पहुंची, भूखे बीमार व्यक्ति को बचाया
0 थाना प्रभारी लसजी की रही अहम भूमिका
जगदलपुर।  झाडिय़ों में कराहते, तड़पते पड़े एक घायल और बीमार शख्स को रक्षित आरक्षी केंद्र के सब इंस्पेक्टर मनोज तिर्की और पुलिस स्टॉफ देवयोग से बचाने पहुंच गए। उस शख्स को झाडिय़ों से निकालकर पुलिस के वाहन से अस्पताल पहुंचाया गया। अगर पुलिस समय पर नहीं पहुंचती तो जख्मों के दर्द, ठंड और भूख के चलते शख्स की जान भी जा सकती थी। पुलिस कर्मियों और सब इंस्पेक्टर मनोज तिर्की के इस नेक कदम की जमकर तारीफ हो रही है।


बोधघाट से करकापल जाने वाली सड़क के किनारे झाडिय़ों के बीच फंसा एक व्यक्ति दर्द, ठंड की सिहरन और भूख से बेहाल कराहते पड़ा था। चोरी, लूट हमले की वारदात रोकने तथा आपराधिक तत्वों की धरपकड़ के उद्देश्य से करकापाल मार्ग की ओर पेट्रोलिंग पर निकले रिजर्व पुलिस थाने के उप निरीक्षक श्री तिर्की और अन्य पुलिस कर्मियों को झाडिय़ों से किसी व्यक्ति के कराहने की आवाज सुनाई दी। पुलिस कर्मियों ने अपने मोबाइल फोन की टॉर्च जलाकर कराहने की आवाज आने की दिशा में रौशनी फेंकी, तो वहां हाफ शर्ट और लुंगी पहना हुआ एक शख्स बैठा नजर आया। श्री तिर्की और अन्य पुलिस कर्मियों ने उसे बाहर निकाला। नाम पता पूछने पर उस व्यक्ति ने अपना नाम अब्दुल मजीद बताया, लेकिन अपने निवास का पता वह नहीं बता पाया। उस शख्स ने जानकारी दी कि उसने दो दिन से खाना नहीं खाया है। अपने शरीर पर हुए जख्मों के बारे में अब्दुल मजीद ने जानकारी दी कि गड्ढे में गिरने से वह जख्मी हुआ है। इसके बाद पेट्रोलिंग टीम ने बोधघाट थाने के टीआई लालजी सिन्हा और रक्षित आरक्षी केंद्र के निरीक्षक को मामले की जानकारी दी। टीआई से जरुरी मार्गदर्शन लेकर सब इंस्पेक्टर मनोज तिर्की तथा अन्य पुलिस वालों ने उस व्यक्ति को तुरंत अपने वाहन में बिठाया और बोधघाट ले जाकर उसे कुछ खाद्य सामग्री खाने को दी। इसके बाद उसे अस्पताल पहुंचाया गया, जहां उसका प्राथमिक उपचार किया गया। उसे अभी डॉक्टरों की निगरानी में अस्पताल में ही रखा गया है। अगर पुलिस समय रहते घटना स्थल पर नहीं पहुंची होती, तो भूख, ठंड और जख्मों की वजह से उस शख्स की जान पर बन आती। कुत्ते और जंगली जानवर भी उसके शरीर को नुकसान पहुंचा सकते थे। बोधघाट समेत पूरे अंचल में सब इंस्पेक्टर मनोज तिर्की और अन्य पुलिस कर्मियों के इस मानवीय कदम की खूब तारीफ हो रही है। पुलिस यह पता लगाने में जुटी है कि कथित अब्दुल मजीद नाम का यह शख्स कहां का रहने वाला है तथा घटना स्थल पर वह पहुंचा कैसे?

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *