Saturday, May 18

सशस्त्र बल चिकित्सा सेवा और भारतीय चिकित्सा अनुसंधान परिषद ने सशस्त्र बलों के लिए जैव चिकित्सा अनुसंधान शुरू करने के उद्देश्य से साझेदारी की

New Delhi (IMNB). सशस्त्र बल चिकित्सा सेवा (एएफएमएस) ने सहयोगात्मक अनुसंधान एवं प्रशिक्षण कार्यक्रम के लिए 23 अप्रैल, 2024 को भारतीय चिकित्सा अनुसंधान परिषद (आईसीएमआर) के साथ एक समझौता ज्ञापन (एमओयू) पर हस्ताक्षर किए हैं। आईसीएमआर के स्वास्थ्य अनुसंधान एवं महानिदेशक विभाग के सचिव डॉ. राजीव बहल और सशस्त्र बल चिकित्सा सेवा के महानिदेशक लेफ्टिनेंट जनरल दलजीत सिंह ने इस समझौता ज्ञापन पर हस्ताक्षर किए हैं। इस समझौता ज्ञापन का उद्देश्य जैव चिकित्सा अनुसंधान और शैक्षणिक क्षेत्र में सहकारी एवं सहयोगी गतिविधियां संचालित करना है, जिससे देश तथा सशस्त्र बलों के लिए प्रासंगिक बहु-विषयक वैज्ञानिक, तकनीकी व शैक्षिक समस्याओं के समाधान प्राप्त होंगे।

सशस्त्र बल चिकित्सा सेवा और भारतीय चिकित्सा अनुसंधान परिषद ने अधिकतम ऊंचाई वाले इलाकों, युद्ध संबंधी क्षति/घायल होने के बाद उत्पन्न तनाव विकार, आकाश में चिकित्सा, संक्रामक रोगों तथा सशस्त्र बल कर्मियों के समक्ष आने वाले अन्य स्वास्थ्य मुद्दों का हल ढूंढने के उद्देश्य से स्वास्थ्य अनुसंधान के लिए साझेदारी की है।

इस समझौता ज्ञापन के तहत विभिन्न संयुक्त शैक्षणिक गतिविधियों की भी योजना बनाई गई है, जिसमें सशस्त्र बल चिकित्सा सेवा अधिकारियों के लिए आईसीएमआर-एसीएसआईआर पीएचडी कार्यक्रम के अंतर्गत पीएचडी करने हेतु पंजीकरण कराने का अवसर प्रदान करना भी शामिल है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *