Monday, June 17

आंकड़े छुपा कर लुका-छुपी का खेल, खेल रही कांग्रेस सरकार : कौशिक

*पूर्व विधानसभा अध्यक्ष कौशिक ने राजधानी रायपुर में 2022 में हुए अपराध के जारी आंकड़े को देखते हुए कांग्रेस सरकार पर लगाया संगीन आरोप।*
पूर्व विधानसभा अध्यक्ष धरमलाल कौशिक ने प्रदेश की कांग्रेस सरकार एवं पुलिस प्रशासन पर आरोप लगाते हुए कहा कि बदनियति और अपनी विफलताओं के बोझ से राजनितिक तौर पर कुंठित नेतृत्व वाली प्रदेश कांग्रेस सरकार की कुनितियों के चलते छत्तीसगढ़ नशे का सौदागरों एवं पेशेवर अपराधियों की शरणस्थली बन गयी है। अपराध प्रतिदिन बढ़ते जा रहे है, जिससे आज अपराधों के आंकड़े आसामान छु रहें है, एन. सी.आर.बी के जारी रिपोर्ट के अनुसार छत्तीसगढ़ दुष्कर्म के मामले में 6 वें स्थान, फिरौती के मामले में 4 नं पर, आत्महत्या के मामले में 2 नं पर, हत्या के मामले में 3 नं तथा डकैती के मामले में 5 वें स्थान पर हैं। उन्होनें कहा कि यदि केवल आत्महत्या कि बात की जाए तो 26000 से अधिक मामले आत्महत्या के हैं, हत्या के मामले 3000 से अधिक मामले हैं। पूर्वविधानसभा अध्यक्ष धरमलाल कौशिक ने कहा कि कांग्रेस सरकार ने शान्ति के टापू छत्तीसगढ़ को अपराध का “नवा छत्तीसगढ़” गढ़ दिया है, महिलाओं के साथ हो रहे अपराध को रोकने में कांग्रेस सरकार पूरी तरह से नाकाम है। उन्होनें कहा कि इतिहास गवाह है, जहां-जहां कांग्रेस राज रहा है, वहां-वहां अपराध व आराजकता चरम सीमा पर रहा है। जिस तरह से अपराधियों का बोलबाला है और पुलिस प्रशासन लचर है उससे स्पष्ट है कि कांग्रेस सरकार अपराध के आंकड़े छुपा रही है, इन सब का मूल कारण प्रदेश की कांग्रेस सरकार की बदनियति, कुनीति व भ्रष्टाचार से संलिप्त है। उन्होनें कहा कि कांग्रेस सरकार के शासनकाल में साल दर साल अपराध में वृद्धि हुई है, जब राजधानी की यह स्थिति है तो प्रदेश की स्थिति का भगवान भगवान मालिक है। पूर्व विधानसभा अध्यक्ष धरमलाल कौशिक ने कहा कि आए दिन महिलाओं व बच्चियों के साथ हो रही घटनाओं को रोक पाने में पुलिस प्रशासन पूर्ण रूप से निष्क्रिय साबित हुई है, साथ ही कांग्रेस सरकार इसे रोकने के लिये कोई ठोस कदम नहीं उठा भी नहीं पा रही। उन्होने कहा कि महिलाओं, बच्चियों व बुजुर्गों के साथ ही छोटे बच्चों के साथ होने वाले अपराधों में रिकार्ड वृद्धि होना बहुत ही चिंता का विषय है। राजधानी में 2021 की तुलना में 2022 में अपराध बढ़े हैं। उन्होनें कहा की राजधानी की ही स्थिति इतनी दयनिय है तो प्रदेश की स्थिति का भगवान मालिक है। फिर भी छत्तीसगढ़ की कांग्रेस सरकार सत्ता के नशे में चूर होकर मस्त होकर कुंभकरणीय निंद्रा में सो रही है. और मुझे अत्यंत खेद के साथ कहना पड़ रही है कि हमारा शांति प्रिय छत्तीसगढ़ प्रदेश की दिशा व दशा से भटकते हुए अब अपराधगढ़ के रूप में पहचान बना लिया है और यही स्थिति रही तो प्रदेश की जनता को प्रदेश की विकराल स्थिति देखने को मिलेगी।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *