Tuesday, May 21

धमतरी : बरसात के पूर्व वृक्षारोपण के लिए स्थल चिन्हांकित करने अधिकारियों को दिए निर्देश

कलेक्टर ने ली साप्ताहिक समय सीमा की बैठक

बंद हेण्डपम्पों को शुरू करने, कुओं और टंकियों की साफ-सफाई सुनिश्चित करें

धमतरी 7 मई 2024/ कलेक्टर सुश्री नम्रता गांधी ने आज कलेक्टोरेट सभाकक्ष में समय सीमा की बैठक लेकर समय सीमा के लंबित प्रकरणों की विभागवार बारी-बारी से समीक्षा की। उन्होंने कहा कि गर्मी के मौसम के चलते भू-जल स्तर में गिरावट आ रही है। ग्रामीण इलाकों में पेयजल की कोई दिक्कत ना हो, इसके लिए गांवों में स्थित ऐसे हेण्डपम्प जो खराब है, उनकी आवश्यक मरम्मत की जाये। इसके साथ ही कुओं और टंकियों की साफ-सफाई सुनिश्चित् करने के निर्देश दिए। कलेक्टर ने कहा कि बरसात के पूर्व वाटर रिचार्ज हेतु ऐसे शासकीय भवनों को चिन्हांकित किया जाये, जिनके समीप हैण्डपम्प हों, ताकि बरसाती पानी को रिस्टोर किया जा सके, जिससे भू-जलस्तर बढ़ाया जा सके। उन्होंने ऐसे सभी शासकीय भवनों, हेण्डपम्प और बोर का जियो टैग अनिवार्य रूप से करने कहा, ताकि इनका डाटा संकलित किया जा सके। कलेक्टर ने कहा कि सभी शहरी क्षेत्र में जल उपयोगिता समूह का गठन कराएं। इसमें महिला स्व सहायता समूह, एनआरएलएम, मितानिन इत्यादि को भी जोड़ें।
बैठक में कलेक्टर सुश्री गांधी ने कहा कि सभी विभाग प्रमुख बारिश के पूर्व वृक्षारोपण के लिए स्थल चिन्हांकन और आवश्यक पौधों की जानकारी एक सप्ताह के भीतर प्रस्तुत करें। साथ ही पौधरोपण के लिए आवश्यकता अनुसार हॉस्टलवार पौधों की मांग संबंधी प्रस्ताव भी प्रस्तुत करने के निर्देश कलेक्टर ने दिए। बैठक में सीईओ जिला पंचायत सुश्री रोमा श्रीवास्तव, अपर कलेक्टर श्री जी.आर.मरकाम, संयुक्त कलेक्टर श्री रामकुमार कृपाल, श्री विनय पोयाम सहित जिला स्तरीय अन्य अधिकारी उपस्थित थे।
स्कूल शिक्षा विभाग की समीक्षा के दौरान कलेक्टर ने स्कूलों में कैरियार मार्गदर्शन के लिए कैरियर गाइडेंस संबंधी जानकारी देने के निर्देश डीईओ को दिए। उन्होंने कहा कि कैरियर काउंसिंलिंग/मेडिटेशन के लिए प्रत्येक हाई एवं हायर सेकेण्डरी स्कूल के शिक्षकों की जिम्मेदारी तय की जाये। मेधावी एवं कमजोर विद्यार्थियों को उनकी क्षमता अनुसार तैयार कर आगे बढ़ाने कहा। व्यायाम शिक्षकों को गावों में खेल खिलाने के लिए निर्देशित करने कलेक्टर ने डीईओ से कहा। उन्होंने कहा कि बच्चों को कम्प्यूटर शिक्षा देने के लिए प्रत्येक स्कूल में कम्प्यूटर सेट की उपलब्धता की जानकारी शीघ्र प्रस्तुत करने कहा। बैठक में कलेक्टर ने बताया कि नीट परीक्षा के लिए जिले में ’स्वाध्याय एप’ शुरू किया गया है, इससे अधिक से अधिक बच्चों को जोड़ने के निर्देश दिए। उन्होंने प्रत्येक 2 माह में पालक-शिक्षक संवाद आयोजित कर अधिक से अधिक विद्यार्थियों और पालकों को जीवन में आगे बढ़ने के लिए प्रेरित करते रहने कहा है। समय सीमा की बैठक में कलेक्टर ने जल संसाधन, लोक निर्माण, ग्रामीण यांत्रिकी सेवा संभाग, आदिवासी विकास विभाग, खाद्य, खनिज, महिला एवं बाल विकास, पंचायत और ग्रामीण विकास, कृषि, उद्यानिकी, मछलीपालन सहित विभिन्न विभागों की समीक्षा की।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *