Thursday, June 20

*वाहन चालन कौशल में वृद्धि और सुरक्षित यातायात के लिए काफी मददगार साबित हो रहा आईडीटीआर*

 

*एक वर्ष में 12 हजार से अधिक प्रशिक्षु हुए लाभान्वित*

*नवा रायपुर में स्थापित है इंस्टिट्यूट ऑफ ड्राइविंग एंड ट्रैफिक रिसर्च संस्थान

रायपुर, 08 दिसम्बर 2022/छत्तीसगढ़ में वाहन चालन कौशल में वृद्धि और सुरक्षित यातायात के लिए नवा रायपुर में संचालित इंस्टिट्यूट ऑफ ड्राइविंग एंड ट्रैफिक रिसर्च संस्थान काफी मददगार साबित हो रहा है। गौरतलब है कि मुख्यमंत्री श्री भूपेश बघेल द्वारा गत वर्ष 9 दिसम्बर 2021 को परिवहन मंत्री श्री मोहम्मद अकबर की अध्यक्षता में आयोजित कार्यक्रम में इसका शुभारंभ हुआ था। संस्थान में अब तक एक वर्ष की अवधि में 12 हजार से अधिक प्रशिक्षु वाहन चालन तथा सड़क सुरक्षा से जुड़े हुए नियमों का प्रशिक्षण प्राप्त कर चुके हैं।

परिवहन विभाग, छत्तीसगढ़ शासन एवं मारुती सुजुकी इंडिया लिमिटेड के संयुक्त तत्वाधान में संचालित इंस्टिट्यूट ऑफ़ ड्राइविंग एंड ट्रैफिक रिसर्च संस्थान में आधुनिकतम तकनीक का इस्तेमाल करते हुए 20 एकड के क्षेत्रफल में विशेष ड्राइविंग ट्रैन से ड्राइविंग प्रशिक्षण देने की योजना कार्यान्वित हुई। उल्लेखनीय है कि 9 दिसंबर 2022 इंस्टीट्यूट ऑफ ड्राइविंग एंड ट्रैफिक रिसर्च, नवा रायपुर सीजी का पहला स्थापना दिवस है। परिवहन विभाग छत्तीसगढ़ और मारुति सुजुकी इंडिया लिमिटेड का एक संयुक्त उद्यम नवा रायपुर में 19 करोड़ के कुल निवेश के साथ सार्वजनिक निजी भागीदारी मोड के तहत स्थापित किया गया है। अत्याधुनिक, वैज्ञानिक रूप से डिजाइन किया गया ड्राइविंग प्रशिक्षण स्कूल बेहतर रोजगार के लिए सड़क सुरक्षा और कौशल विकास को बढ़ावा देने के लिए यह संस्थान स्थापित है।
इस संबंध में प्राप्त जानकारी के अनुसार वर्ष 2021 में राष्ट्रव्यापी मृत्यु दर में 16.8 प्रतिशत की वृद्धि देखी गई यानी 133201 से 155622 हो गई। छत्तीसगढ़ राज्य में भी मृत्यु दर में वृद्धि देखी गई और वर्ष 2021 में सड़क दुर्घटनाओं में 5375 मौतें हुईं। दुर्घटनाओं की संख्या सड़क दुर्घटनाओं में मृत्यु की तुलना में लगभग 3 गुना थी। सड़क दुर्घटनाओं में वृद्धि को देखते हुए आईडीटीआर छत्तीसगढ़ जैसी मॉडल ड्राइविंग प्रशिक्षण सुविधा की सख्त जरूरत थी और इसकी स्थापना की गई।
विजन जीरो दुर्घटनाओं के साथ, सड़क सुरक्षा शिक्षा के सबसे मजबूत स्तंभों में से एक आईडीटीआर ने अपना संचालन शुरू किया और नौसिखियों और अनुभवी ड्राइवरों दोनों को प्रशिक्षण प्रदान किया। आईडीटीआर ने अपने संचालन के पहले वर्ष में लगभग 12000 ड्राइवरों को प्रशिक्षित किया है। 72 प्रतिशत दुर्घटनाएं अनुभवी ड्राइवरों द्वारा की जाती हैं और इस प्रकार परिवहन विभाग द्वारा भारी वाहन चालक को प्रशिक्षित करने के लिए एक निर्देश जारी किए गए थे, जिनके पास सड़क यात्रा पर अधिकतम जोखिम है।
संस्थान के रिफ्रेशर प्रशिक्षण में भाग लेने वाले 10 हजार से अधिक भारी मोटर वाहन चालकों को रक्षात्मक ड्राइविंग तकनीकों, खतरनाक परिस्थितियों में ड्राइविंग, सड़क संकेत और सिग्नल, प्राथमिक चिकित्सा और सड़क दुर्घटनाओं की स्थितियों को संभालने, एचआईवी एड्स पर जागरूकता और सबसे महत्वपूर्ण रूप से नए मोटर वाहन अधिनियम के प्रावधानों तथा जुर्माना और दंड पर शिक्षित किया गया। स्कूल, कॉलेज जाने वाले बच्चों की सुरक्षा को ध्यान में रखते हुए स्कूल बस ड्राइवरों को प्रशिक्षित करने के लिए स्कूल बस ड्राइवरों को प्रशिक्षित करने के लिए विशेष अभियान चलाया गया। राज्य भर में 01 हजार 151 स्कूल बस चालकों को शिक्षित किया गया।
आईडीटीआर 100 से अधिक नौसिखिए शिक्षार्थियों में वैज्ञानिक रूप से डिजाइन किए गए ट्रैक पर प्रशिक्षित होने के लिए विशेष रुचि दिखाई और आईडीटीआर में ड्राइविंग सबक लिया और ड्राइविंग के पहलुओं को सीखा जैसे मिरर सिग्नल मैनूवर, पोजिशन स्पीड लुक, सुरक्षित दूरी रखने का 3 सेकंड सिद्धांत, रिवर्सिंग और पार्किंग तकनीक। इसी तरह महिला प्रशिक्षुओं ने आईडीटीआर में प्रशिक्षण में विशेष रुचि व्यक्त की और 60 प्रतिशत से अधिक प्रशिक्षु आईडीटीआर में ड्राइविंग प्रशिक्षण लेने वाली महिलाएं थीं। वैज्ञानिक रूप से डिजाइन की गई सिमुलेशन तकनीक स्मार्ट क्लासरूम और दिलचस्प ऑडियो वीडियो प्रस्तुति के माध्यम से ड्राइविंग सुरक्षा सुविधाओं की प्रस्तुतियां समझने में आसान हैं।
सचिव परिवहन श्री एस. प्रकाश, आयुक्त परिवहन श्री दीपांशु काबरा और अध्यक्ष लीड एजेंसी सड़क सुरक्षा श्री संजय शर्मा के कुशल मार्गदर्शन में संस्थान का सुव्यवस्थित संचालन, संयुक्त संचालक श्री अमित गुप्ता एवं टीम द्वारा किया जा रहा है। दिन-प्रतिदिन के यातायात प्रबंधन और दबाव स्थितियों को प्रभावी रूप से संचालित करने के लिए आईडीटीआर में प्रवर्तन अधिकारियों और यातायात पुलिस के लिए विशेष कार्यशालाएं और प्रशिक्षण भी आयोजित किया गया। एमवी अधिनियम, सड़क नियमों और विनियमों पर तकनीकी प्रशिक्षण के अलावा, इन प्रशिक्षुओं ने संचार, बॉडी लैंग्वेज, तनाव प्रबंधन और प्रेरणा जैसे कौशल के निर्माण पर कक्षाएं लीं गई। इस प्रशिक्षण कार्यक्रम में 378 से अधिक ट्रैफिक कांस्टेबल एवं अधिकारियो ने भाग लिया।
आईडीटीआर द्वारा आयोजित कार्यशालाओं में न केवल राज्य के साथ-साथ देश भर के प्रशिक्षु भी भाग ले रहे हैं। इस तारतम्य में देश भर के 55 प्रशिक्षुओं ने ड्राइविंग कौशल और वाहन की तकनीकी जानकारी बढ़ाने के लिए 10 दिवसीय कार्यशाला में भाग लिया। विशेष प्रशिक्षण के अलावा आईडीटीआर छत्तीसगढ़ में खनन प्रशिक्षण शुरू करने जा रहा है और उसे परिवहन सुविधा केंद्र का दर्जा भी सौंपा गया है यानी आईडीटीआर से संपर्क करने वाला एक साथ लर्निंग लाइसेंस और प्रशिक्षण प्राप्त कर सकता है। आईडीटीआर युवाओं को सड़क नियमों और विनियमों के बारे में जागरूक करने के लिए स्कूलों और कॉलेजों में कई सड़क सुरक्षा संवेदीकरण कार्यक्रम आयोजित कर रहा है।
आईडीटीआर प्रमुख उद्देश्य के रूप में अनुसंधान गतिविधियों के संचालन पर केंद्रित है और यातायात उल्लंघन और उनके व्यवहार के प्रति ड्राइवरों के व्यवहार का अध्ययन कर रहा है। सड़क दुर्घटनाओं के प्रति सड़क उपयोगकर्ताओं की प्रतिक्रिया पर अनुसंधान भी प्रगति पर है। आईडीटीआर के माध्यम से सड़क सुरक्षा पर जागरूकता फैलाने, लोगों को सुरक्षित ड्राइविंग के प्रति संवेदनशील बनाने और इस तरह कौशल विकास और रोजगार दोनों को बढ़ाते हुए दुर्घटनाओं को कम करने में काफी मदद मिलेगी।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *