Tuesday, March 5

सागर परिक्रमा: मछुआरों की समस्याओं को जमीनी स्तर पर सुलझाने की सफल यात्रा

केंद्रीय मंत्री श्री परशोत्तम रुपाला ने कुलाचल मछली पकड़ने वाले बंदरगाह से चलने वाली मछली पकड़ने वाली नाव में लापता मछुआरों के बचाव में तेजी लाने के लिए तत्काल आदेश जारी किया है

भारतीय नौसेना और भारतीय तटरक्षक बल के गहन खोज और बचाव अभियान द्वारा एक शव आज बरामद किया गया

दूसरे मछुआरे के शव का पता लगाने के लिए तलाशी अभियान जारी है

New Delhi (IMNB). केंद्रीय मत्स्य पालन, पशुपालन और डेयरी मंत्री श्री परशोत्तम रुपाला के नेतृत्व में मछुआरों और मछली किसानों से मिलने की एक परियोजना सागर परिक्रमा यात्रा, मार्च 2022 से गुजरात से पश्चिम बंगाल तक एक पूर्व-निर्धारित समुद्री मार्ग के माध्यम से शुरू किया गया है, जो भारत की लगभग 8000 किलोमीटर की तटरेखा को कवर करता है। सागर परिक्रमा यात्रा का उद्देश्य मछुआरों से उनके घर पर मुलाकात कर उनकी चुनौतियों और शिकायतों को समझना, स्थायी मत्स्य पालन को बढ़ावा देना, सरकार की योजनाओं और कार्यक्रमों का प्रचार करना है और यह अब तक काफी महत्वपूर्ण रहा है। सागर परिक्रमा के दौरान, मछुआरों को व्यक्तिगत रूप से केंद्रीय मंत्री श्री रूपाला और मत्स्य पालन विभाग, भारत सरकार, राज्य सरकार के प्रमुख अधिकारियों और मछली पालन व्यवसाय के अन्य हितधारकों के साथ बातचीत करने का अवसर मिलता है।

श्री परशोत्तम रुपाला को एक स्थानीय मछुआरे से डूबी हुई नाव के बारे में एक टेक्स्ट संदेश मिला, जो उनसे सागर परिक्रमा के पिछले चरण के दौरान कोलाचल में मिला था। केंद्रीय मंत्री ने कोलाचल फिशिंग हार्बर से चलने वाली मछली पकड़ने वाली नाव पर सवार लापता मछुआरों को बचाने के लिए तुरंत संबंधित एजेंसियों को निर्देश जारी किए।

 

इस बीच लापता मछुआरों के परिवारों ने कराईकल में श्री परशोत्तम रुपाला से मुलाकात कर उन्हें इस मुद्दे से अवगत कराया और यह सुनकर हैरान रह गए कि उन्होंने न केवल मामले को गंभीरता से लिया बल्कि इसकी बारीकी से निगरानी भी कर रहे हैं।

 

भारतीय नौसेना के दो जहाजों और भारतीय तटरक्षक बल के एक जहाज द्वारा गहन खोज और बचाव अभियान के दौरान गोताखोरों ने आज एक मछुआरे का शव बरामद किया।

दूसरे मछुआरे के शव का पता लगाने के लिए तलाशी अभियान अभी भी जारी है। लापता मछुआरों के शव बरामद होने पर मछुआरों के परिजनों ने केंद्रीय मंत्री और पूरी रेस्क्यू टीम को धन्यवाद दिया है।

सागर परिक्रमा अपने कार्यों और प्रयासों से खुली बातचीत और फीडबैक प्राप्त करने के अपने लक्ष्य को प्राप्त करने के साथ-साथ मछुआरा समुदाय के बीच विश्वास का निर्माण और मछुआरों के मुद्दों को हल करने में भी उपयोगी साबित होगा।

*******

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *