Sunday, April 21

सीआरपीएफ की वीरांगनाओं का यशस्विनी महिला बाइक अभियान नारी शक्ति की क्षमता और ताकत का प्रतीक है: उपराज्यपाल मनोज सिन्हा

जम्मू-कश्मीर के उपराज्यपाल ने श्रीनगर के प्रतिष्ठित लालचौक से सीआरपीएफ महिला बाइक अभियान ‘यशस्विनी’ को हरी झंडी दिखाई

महिला शक्ति का उत्सव मनाने के लिए इस रैली का आयोजन सीआरपीएफ के द्वारा महिला एवं बाल विकास मंत्रालय के सहयोग से किया गया है

15 राज्यों और 2 केंद्र शासित प्रदेशों से होकर गुजरने वाली इस 10,000 किलोमीटर की  क्रॉस-कंट्री रैली के लिए 150 महिला सीआरपीएफ अधिकारी रवाना हुईं

New Delhi (IMNB). महिला एवं बाल विकास मंत्रालय के सहयोग से सीआरपीएफ ने आज सीआरपीएफ महिला बाइकर्स के एक समूह “यशस्विनी” के साथ एक क्रॉस-कंट्री बाइक अभियान शुरू किया। देश की महिला शक्ति या नारी शक्ति का उत्सव मनाने के लिए सीआरपीएफ महिला अधिकारियों का समूह आज सुबह श्रीनगर से  देशव्यापी रैली के लिए रवाना हुआ। जम्मू-कश्मीर के उपराज्यपाल श्री मनोज सिन्हा ने लालचौक, श्रीनगर से रैली को हरी झंडी दिखाई। श्रीनगर से शुरू होने वाली बाइकर्स टीम 40 जिलों को पार करते हुए 2134 किलोमीटर से अधिक की दूरी तय करके 31 अक्टूबर को भारत के लौह पुरुष सरदार वल्लभभाई पटेल की जयंती पर एकता नगर, गुजरात पहुंचेगी।

 

जम्मू-कश्मीर के उपराज्यपाल श्री मनोज सिन्हा ने अपने संबोधन में सीआरपीएफ की वीरांगनाओं के द्वारा कठिन परिस्थितियों में देश की अखंडता और संप्रभुता की रक्षा करते हुए कई बार दिखाई गई अद्वितीय बहादुरी, दृढ़ संकल्प और साहस को नमन किया।

श्री सिन्हा ने कहा कि सीआरपीएफ की वीरांगनाओं द्वारा यशस्विनी, महिला बाइक अभियान, नारी शक्ति की क्षमता और ताकत का प्रतीक है। यह नारी शक्ति के त्याग, उनके आत्मविश्वास का भी प्रतिनिधित्व करता है और आज वे धैर्य, दृढ़ संकल्प और समर्पण के साथ विभिन्न क्षेत्रों में कई महत्वपूर्ण उपलब्धियां हासिल कर रही हैं।

उपराज्यपाल ने बाइक अभियान में भाग लेने वाली सभी वीरांगनाओं को शुभकामनाएं दीं। इस अवसर पर वैली क्यूएटी की वीरांगनाओं और सीआरपीएफ के पाइप बैंड ने मंत्रमुग्ध कर देने वाली प्रस्तुति दी।

तीन टीमों में विभाजित कुल 150 महिला सीआरपीएफ अधिकारियों ने आज एक क्रॉस-कंट्री रैली की शुरुआत की। 75 रॉयल एनफील्ड (350cc) बाइक पर सवार होकर, इन टीमों ने श्रीनगर, शिलांग और कन्याकुमारी से अपनी यात्रा शुरू की। लगभग 10,000 किमी की दूरी तय करने के बाद, सभी बाइक सवार 31 अक्टूबर, 2023 को स्टैच्यू ऑफ यूनिटी, केवड़िया गुजरात में एकत्रित होंगे।

बाइक सवारों की श्रीनगर टीम 7 अक्टूबर 2023 तक जम्मू पहुंच जाएगी। सीआरपीएफ और महिला एवं बाल विकास मंत्रालय के इस सहयोगी प्रयास की पूरी यात्रा के दौरान श्रीनगर, शिलांग और कन्याकुमारी की तीनों टीमें विभिन्न जिलों में “बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ” (बीबीबीपी) के लक्षित समूहों जैसे स्कूली बच्चों और कॉलेज की लड़कियों, महिला स्वयं सहायता समूह, एनसीसी के कैडेट, सीसीआई के बच्चे, एनवाईकेएस सदस्य, किशोर लड़कियों और लड़कों, आंगनवाड़ी कार्यकर्ता आदि के साथ बातचीत करेंगी। इसका उद्देश्य महिला एवं बाल विकास मंत्रालय के “बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ” कार्यक्रम को आगे और बढ़ावा देना है।

बल के संदेश “देश के हम हैं रक्षक” को बढ़ावा देने के अलावा, महिला बाइक सवारों ने “बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ” के सामाजिक संदेश को भी अपने अभियान में शामिल किया है। वे गर्व के साथ अपनी वर्दी और बैनरों पर बीबीबीपी लोगो प्रदर्शित करेंगे, जिससे पूरे देश में इस आंदोलन को बढ़ावा मिलेगा।

उपराज्यपाल के सलाहकार श्री राजीव राय भटनागर; स्पेशल डीजी क्राइम, श्री ए.के. चौधरी; एडीजी सीआरपीएफ जम्मू-कश्मीर जोन, श्री नलिन प्रभात; आईजी सीआरपीएफ, श्री अजय कुमार यादव; डिवीजनल कमिश्नर कश्मीर, श्री विजय बिधूड़ी; सीआरपीएफ, नागरिक और पुलिस प्रशासन के वरिष्ठ अधिकारी और बड़ी संख्या में लोग उपस्थित थे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *