Friday, June 21

आज वाइट गिफ्ट संडे, दान से की जाएगी जरूरतमंदों की मदद

– महिलाओं ने तैयारी, करेंगी ड्रामा, बांटेंगी वस्त्र
रायपुर। राजधानी में बड़े दिन से पहले रविवार को आगमन का तीसरा इतवार मनाया जाएगा। इस अवसर पर वाइट गिफ्ट संडे श्वेत दान की आराधाना होगी। सेंट पॉल्स कैथेड्रल में महिला सभा अध्यक्ष मंजूल लिविंग्सटन और सचिव ज्ञानमणि पॉल के नेतृत्व में महिलाओं ने आज कैरोल व नाटक का पूर्वाभ्यास किया। वे आराधना का संचालन भी करेंगी।
कैथेड्रल में रविवार को जो भी दान एकत्र होगा, उससे क्रिसमस के लिए जरूरतमंदों के लिए उपहार खरीदेकर बांटे जाएंगे। बाइबिल की सीख के आधार पर यह परंपरा बरसों से चली आ रही है। इस मौके पर पास्ट्रेट कमेटी, संडे स्कूल, क्वायर व युवा सभा के सदस्य भी शामिल होंगे।
[12/10, 8:43 PM] Bharat Yogi: *छत्तीसगढ़ रीजनल साईंस सेन्टर में आगन्तुकों की उमड़ी भीड़*

रायपुर, 10 दिसम्बर 2022/ छत्तीसगढ़ रीजनल साईंस सेन्टर रायपुर में 10 दिसंबर को हजारों लोगों की भीड़ उमड़ी। इस दिन के सुहावने मौसम में कवर्धा जैसे दूर-दराज स्थानों में से छात्र-छात्राओं द्वारा सेन्टर का भ्रमण किया गया। एक ही दिन का आगंतुक आंकड़ा 1000 से अधिक हो गया। दिसम्बर माह के 10 दिनों में 23 विद्यालयों से 2000 से अधिक छात्रों सहित प्रयास और एकलव्य विद्यालयों से विभिन्न जनजातियों के विद्यार्थियों के साथ विशेष पिछड़ी जनजाति पहाड़ी कोरवा के छात्रों द्वारा भी रायपुर के छत्तीसगढ़ रीजनल साइंस सेन्टर का भ्रमण किया गया।

छत्तीसगढ़ रीजनल साईंस सेन्टर में कई आकर्षक गतिविधियाँ जैसे 3-डी शो, तारामण्डल लगातार आगंतुकों को आकर्षित करता है। साथ ही 3 डी शो में दिखाई जाने वाली नासा पर आधारित 3 डी फिल्म एवं तारामण्डल में दिखाया जाने वाला रात्रिकालीन आकाश के साथ विज्ञान के प्रदर्शों से सुसज्जित विशालकाय हरा-भरा साईंस पार्क भी आगंतुकों की भीड़ को परिसर में आने के लिए आकर्षित करता है। साथ ही साईंस सेन्टर में प्रत्येक शनिवार को विभिन्न दीर्घाओं पर आधारित साईंस क्विज भी आज विभिन्न विद्यालयों से आए विद्यार्थियों के लिए बहुत ही आकर्षण का केन्द्र रहा है।

10 दिसम्बर अंतर्राष्ट्रीय मानव दिवस होने के उपलक्ष्य पर वैज्ञानिक एवं इंजीनियर डॉ. शिरिष कुमार सिंह, वैज्ञानिक श्री अमित कुमार मेश्राम द्वारा विभिन्न स्कूलों से आए विद्यार्थियों को एक जागरूकता व्याख्यान दिया गया। व्याख्यान में मानव अधिकार एवं विज्ञान के बीच संबंध केन्द्रित करने और उन तरीकों का विश्लेषण करने जिसमें विज्ञान के क्षेत्र में किए जाने वाले अनुसंधान में आम जनमानस के अधिकार जैसा कि- International Covenant on Economic and Cultural Rights (ICESCR) द्वारा व्यक्त किया गया है कि वैज्ञानिक प्रयास के लिए महत्वपूर्ण निहितार्थ है कि इसमें शिक्षा, वित्त पोषण और सहकर्मी समीक्षा शामिल हो। साथ ही साथ वैज्ञानिक जानकारी तथा उत्पादों का आम जनमानस तक पहुँच हो। व्याख्यान के दौरान श्रीमती प्रज्ञा कदम, वैज्ञानिक अधिकारी, श्री वरूण कुमार मिश्रा, सुश्री तारिणी वर्मा, सुश्री श्रेया मिश्रा, सहित अन्य अधिकारी भी मौजूद रहे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *