Friday, May 24

स्वास्थ्य समिति की बैठक में डेंगू के लक्षण और बचाव की दी जानकारी

कलेक्टर की अध्यक्षता में जिला स्तरीय स्वास्थ्य समिति की बैठक आयोजित

राजनंदगांव। कलेक्टर श्री संजय अग्रवाल की अध्यक्षता में कलेक्टोरेट सभाकक्ष में जिला स्तरीय स्वास्थ्य समिति की बैठक आयोजित की गई। कलेक्टर ने कहा कि ग्रीष्म ऋतु प्रारंभ होने के साथ ही विभिन्न बीमारियों के फैलने की संभावना बढ़ जाती है। उन्होंने विगत वर्ष के सभी डेंगू प्रकरण की मैंपिंग कर सोर्स रिडक्शन की कार्रवाई करने कहा। कलेक्टर ने डेंगू प्रकरण वाले क्षेत्रों में इंडेक्स एडिस लार्वा शून्य निर्देशित नहीं होने तक लगातार सोर्स रिडक्शन करने के निर्देश दिए। साथ ही सभी डेंगू एवं मलेरिया सकारात्मक प्रकरण का कान्टेक्ट सर्वे, आरएफएस एक्टीविटी, आईईसी, बीसीसी एक्टीविटी एवं फालोअप लेने कहा।

कलेक्टर ने जिले के नागरिकों से डेंगू से बचाव के लिए आवश्यक सावधानी अपनाने की अपील की है। उन्होंने कहा कि डेंगू का मच्छर आम मच्छरों से अलग होता है और यह दिन की रोशनी में काटता है। ऐसे में घर और आसपास मच्छरों को पनपने नहीं दें। कूलर में पानी जमा होने से उसमें डेंगू का लार्वा पनपने का खतरा रहता है। कूलर का उपयोग नहीं होने पर उसका पानी खाली कर दें एवं जो कूलर चालू है, उसे प्रति सप्ताह खाली कर साफ कर भरे, घर की छत पर रखें गमलों या अन्य चीजों में पानी जमा हो तो उसे तुरंत खाली करना चाहिए, क्योंकि इसमें डेंगू लार्वा पैदा हो सकते हैं। घरों के आसपास या गड्ढों में पानी जमा नहीं होने दें एवं जमा पानी के गड्डे में जला हुआ तेल डाल दें, जिससे ऑक्सीजन नहीं मिलने के कारण मच्छर के लार्वा नष्ट हो जाता है, मच्छरों से बचने के लिए मच्छरदानी का उपयोग करें। घर के दरवाजो में जाली लगवाएं, पैरों में मोजे पहने एवं दिन में भी सोते समय मच्छरदानी का उपयोग करें। डेंगू से बचाव ही सावधानी है।

मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी डॉ. नेतराम नवरतन ने बताया कि डेंगू पर नियंत्रण के लिए विकासखंड छुरिया, डोंगरगढ़, घुमका, डोंगरगांव के उपकेन्द्रों में नागरिकों की स्वास्थ्य सुरक्षा का लक्ष्य लेकर लगातार विभिन्न जागरूकता कार्यक्रम चलाए जा रहे हैं। साथ ही मितानिनों के सहयोग से सोर्स रिडक्शन गतिविधियां भी चलाई जा रही हंै। उन्होंने बताया कि एडीज एजिप्टी एक ऐसा मच्छर है, जो डेंगू बुखार, चिकनगुनिया, जीका बुखार, मायरो बुखार के वायरस और अन्य रोग एजेंटों को फैला सकता है। मच्छरों के प्रजनन के परिणामस्वरूप महामारी में वृद्धि हो सकती है। एडीज एजिप्टी मच्छर सबसे ज्यादा सुबह और शाम को और छायादार क्षेत्रों में पाए जाते हैं। यह पूरे साल या अनुकूल स्थिति में किसी भी समय संक्रमण फैला सकते हैं। इससे बचाव के लिए सभी को आवश्यक उपाय अपनाने की आवश्यकता है। डेंगू मच्छर जनित एक वायरल बीमारी है। जिसमें सिर में दर्द, तेज बुखार, मांसपेशियों एवं जोड़ों में दर्द जैसी परेशानियां होती हैं और त्वचा पर चकत्ते भी निकल आते हैं। आँखों के पीछे दर्द होना, जो की आँखों को घुमाने से बढ़ता है, जी मचलाना, उलटी होना, गंभीर मामलों में नाक मुंह मसुड़ों से खून आना, डेंगू फीमेल एडीज मच्छर के काटने से होता है। डेंगू और मलेरिया जैसी गंभीर बीमारियां मच्छरों के काटने से होती हैं, लेकिन मामूली सावधानी अपनाने से मच्छर के काटने से बचा जा सकता है। भारत में विशेषकर यह बारिश के दिनों में होने वाला सामान्य रोग है। डेंगू का लार्वा सामान्यत: जमे हुए साफ पानी में पनपता है और वर्तमान में गर्मी का मौसम है, जिसमे सभी घरों में कूलर चल रहा है। जो डेंगू के मच्छरों के लिए काफी अनुकूल होता है। यही वजह है कि इस समयावधि में सतर्क रहना जरूरी होता है। डेंगू से बचाव के लिए सभी शासकीय अस्पतालों में नि:शुल्क उपचार की व्यवस्था है। इस अवसर पर सिविल सर्जन डॉ. यूके चंद्रवंशी एवं स्वास्थ्य से जुड़े अधिकारी उपस्थित थे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *