Monday, June 17

प्रधानमंत्री ने एनएमएमएल सोसायटी की वार्षिक आम बैठक की अध्यक्षता की

प्रधानमंत्री ने भारत के अतीत के बारे में लोगों में बेहतर जागरूकता पैदा करने के लिए आधुनिक भारतीय इतिहास पर शोध के दायरे को व्यापक बनाने की आवश्यकता पर बल दिया

प्रधानमंत्री ने देश भर के कॉलेजों और विश्वविद्यालयों में इसकी विषय-सामग्री के बारे में प्रतियोगिताओं का आयोजन करके प्रधानमंत्री संग्रहालय को युवाओं में लोकप्रिय बनाने की आवश्यकता पर बल दिया

स्वामी दयानंद सरस्वती की आगामी 200वीं जयंती के अवसर पर प्रधानमंत्री ने शैक्षणिक और सांस्कृतिक संस्थानों से उनके योगदानों के बारे में शोध करने का आह्वान किया

नई दिल्ली (IMNB).

प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी ने आज 7 लोक कल्याण मार्ग पर एनएमएमएल सोसाइटी के अध्यक्ष के रूप में एनएमएमएल सोसाइटी की वार्षिक आम बैठक की अध्यक्षता की।

अपने संबोधन में, प्रधानमंत्री ने व्यक्तियों, संस्थानों और विषयों दोनों के संदर्भ में आधुनिक भारतीय इतिहास पर शोध के दायरे को व्यापक बनाने की आवश्यकता पर जोर दिया, ताकि भारत के अतीत के बारे में लोगों में बेहतर जागरूकता पैदा की जा सके। प्रधानमंत्री ने वर्तमान के साथ-साथ भावी पीढ़ियों के लाभ के लिए अपनी अच्छी तरह से लेखापरीक्षित और शोधित स्मृति दर्ज करने के लिए सामान्य रूप से देश में संस्थानों की आवश्यकता पर बल दिया।

प्रधानमंत्री संग्रहालय के डिजाइन और सामग्री पर संतोष व्यक्त करते हुए, प्रधानमंत्री ने इस महत्वपूर्ण तथ्य के बारे में बताया कि यह संग्रहालय वास्तव में उद्देश्यपूर्ण और राष्ट्र-केंद्रित है, व्यक्ति-केंद्रित नहीं है, और यह न तो अनुचित प्रभाव से और न ही किसी आवश्यक तथ्यों के अनुचित अभाव से ग्रस्त है। भारत के सभी प्रधानमंत्रियों की उपलब्धियों और योगदानों को उजागर करने वाले संग्रहालय के संदेश को लोगों तक पहुंचाने के लिए, श्री मोदी ने देश भर के कॉलेजों और विश्वविद्यालयों में इसकी सामग्री के बारे में प्रतियोगिताओं का आयोजन करके युवाओं के बीच संग्रहालय को लोकप्रिय बनाने की आवश्यकता पर बल दिया।

उन्होंने आशा व्यक्त करते हुए कहा कि निकट भविष्य में संग्रहालय भारत और दुनिया से दिल्ली आने वाले पर्यटकों के लिए एक मुख्य आकर्षण के रूप में उभरेगा। यह बताते हुए कि 1875 में आर्य समाज के संस्थापक और आधुनिक भारत के सबसे प्रभावशाली सामाजिक और सांस्कृतिक शख्सियतों में से एक स्वामी दयानंद सरस्वती की 200वीं जयंती 2024 में आ रही है, श्री नरेन्द्र मोदी ने देश के इस महान दूरदर्शी और समाज सुधारक के योगदान के साथ-साथ 2025 में अपने अस्तित्व के 150 साल पूरे करने जा रहे आर्य समाज के बारे में अच्छी तरह से शोध करके ज्ञान का सृजन करने के लिए देश भर के शैक्षणिक और सांस्कृतिक संस्थानों का आह्वान किया।

कार्यकारी परिषद के अध्यक्ष श्री नृपेंद्र मिश्रा ने सोसायटी के वर्तमान कामकाज के साथ-साथ भविष्य के लिए दृष्टिकोण की रूपरेखा पर बात की। विशेष रूप से, उन्होंने लाइब्रेरी के लिए योजनाओं पर प्रकाश डाला, जो आधुनिक और समकालीन भारतीय इतिहास के क्षेत्र में अग्रणी संस्थान के साथ-साथ पिछले साल अप्रैल में खोले गए प्रधानमंत्री संग्रहालय के लिए भी है।

एनएमएमएल सोसायटी और कार्यकारी परिषद के सदस्यों ने बैठक में भाग लिया, जिसमें संस्थान की वार्षिक रिपोर्ट और लेखापरीक्षित खातों को अंगीकृत किया गया।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *