Friday, July 19

अकबर ने सड़क दुर्घटना में घायल पीड़ित परिवार के 24 बच्चो को गोद लेने पर किया खड़ा सवाल, गोद लिए गए बच्चे का गोद लेने वाले की संपत्तियों मे अधिकार होगा

गोद लिए गए बच्चे का गोद लेने वाले की संपत्तियों मे अधिकार होगा
*पूर्व मंत्री अकबर ने दत्तक ग्रहण अधिनियम के प्रावधानो की दी जानकारी*
*विधायक पंडरिया ने कुकदुर हादसे के मृतको के 24 बच्चो को गोद लेने की घोषणा की है*
कवर्धा। विधायक पंडरिया के द्वारा कुकदुर हादसे के सभी मृतकों के सभी 24 बच्चों को गोद लेने की घोषणा की गई है। पूर्व मंत्री मोहम्मद अकबर ने कानूनी प्रावधानो की जानकारीे देते हुए बताया है कि देश में दूसरों की संतानों को गोद लेने के लिए ‘हिन्दु दत्तक ग्रहण और भरण- पोषण अधिनियम 1959’ लागू है। इस अधिनियम के प्रावधानो के अनुसार गोद लेने हेतु अनेक शर्तो की पूर्ति होना आवश्यक है, इनमें से प्रमुख है बच्चे और गोद लेने की आयु में कम से कम 21 वर्ष का अन्तर होना चहिए। यदि बच्चा पुत्री है तो गोद लेने वाले की स्वयं की कोई पुत्री नहीं होनी चाहिए। यदि गोद लेने वाले का स्वयं का पुत्र है तो पुत्र को गोद नहीं लिया जा सकता। ऐसे बच्चे को गोद नहीं लिया जा सकता जिसकी आयु 15 वर्ष से अधिक हो। यह भी प्रावधान है कि जिस बच्चे को गोद लिया गया हो उसका संबंध समस्त परिजनो के लिए जन्म के कुटुम्बियों के साथ समस्त बंधन टूट जायेंगे और दत्तक कुटुंब में उसे समस्त अधिकार प्राप्त हो जायेगे। गोद ले लिए जाने के पश्चात दत्तक पुत्र या पुत्री का गोद लेने वाले की संपत्तियौन में उसी प्रकार से अधिकार उदभुत होगा जैसे कि वह उसी कुटुंब का जन्मा हो।
श्री अकबर ने कहा कि, इस मामले में क्या होने जा रहा है यह मेरी जानकारी में नहीं है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *