Sunday, April 21

Tag: वरिष्ठ पत्रकार जवाहर नागदेव की बेबाक कलम

टीएस सिंहदेव: छोड़ आए हम वो गलियां, वरिष्ठ पत्रकार जवाहर नागदेव की ताक धिना… धिन…
खास खबर, छत्तीसगढ़ प्रदेश, रायपुर, लेख-आलेख

टीएस सिंहदेव: छोड़ आए हम वो गलियां, वरिष्ठ पत्रकार जवाहर नागदेव की ताक धिना… धिन…

टीएस सिंहदेव: छोड़ आए हम वो गलियां, वरिष्ठ पत्रकार जवाहर नागदेव की ताक धिना... धिन... भाजपा प्रवेश हेतु ‘कांग्रेसी कतार में हैं’ कृप्या प्रतीक्षा कीजिये-भाजपा                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                 छत्तीसगढ़ के सबसे बढ़िया नेता टीएस सिंहदेव पहले तो अपने साथ हुई धोखेबाजी से क्षुब्ध थे फिर चुनाव में उन्हे हराए जाने से उन्हें भारी ठेस लगी है। अब जबकि वे कांग्रेस को अच्छी तरह समझ चुके हैं और पार्टी मे अपनी स्थिति को जान चुके हैं, अंदर से बेहद खफ़ा होंगे इसम...
वरिष्ठ पत्रकार जवाहर नागदेव की खरी… खरी… चालू हुआ आरोपों का खेल, नया इतिहास बनाएंगे सोरेन, बघेल नीतिश ने किया है कैकेयी जैसा त्याग
खास खबर, छत्तीसगढ़ प्रदेश, रायपुर, लेख-आलेख

वरिष्ठ पत्रकार जवाहर नागदेव की खरी… खरी… चालू हुआ आरोपों का खेल, नया इतिहास बनाएंगे सोरेन, बघेल नीतिश ने किया है कैकेयी जैसा त्याग

नीतिशकुमार ने अच्छा किया, बहुत अच्छा किया। अनजाने में कैकेयी की तरह का त्याग कर दिया। हर कोई अपने लिये करता है। विरले होते हैं जो समाज के लिये खुद गाली खाने को तैयार होते हैं। नीतिश उन्हीं में से एक हैं। कह सकते हैं कि कुछ हद तक भाजपा उसूलों पर चलती है। कुछ हद तक.....। बाकियों का कोई भरोसा नहीं। नीतिश भी उन्हीं बाकियों मंे से हैं। भाजपा ने देशहित के लिये नीतिश से समझौता किया तो क्या बुरा किया। नीतिश ने अपना उल्लू ‘इण्डी’ एलायन्स में सीधा करने का काफी प्रयास और प्रतीक्षा भी की....। लेकिन उल्लू सीधा नहीं हुआ तो फिर से भाजपा में आकर सीधा कर लिया। काहे की नैतिकता ? काहे के उसूल ? पर हां, नीतिश का ये कदम अंततोगत्वा देश के लिये फायदे का सौदा ही होगा। एक बेहद दिलचस्प टिप्पणी पढ़ने को मिली कि ‘पलटूराम ने बहुत अच्छा कार्य किया। सारे ठगों को एक नाव में इकट्ठा किया और उसमें छेद करके खुद नि...
वरिष्ठ पत्रकार जवाहर नागदेव की खरी… खरी… विष्णु देव साय जी, बताईये क्या करें हम,    आपने की घोषणा, नाक में ‘हमारी’ दम
खास खबर, छत्तीसगढ़ प्रदेश, रायपुर

वरिष्ठ पत्रकार जवाहर नागदेव की खरी… खरी… विष्णु देव साय जी, बताईये क्या करें हम,    आपने की घोषणा, नाक में ‘हमारी’ दम

विधानसभा चुनावों में मिली बेहतरीन जीत को और फिर शानदार ढंग से सरकार बनाए जाने से भाजपा फूली नहीं समा रही। ये भी सत्य है कि ये संभव हुआ मोदजी की गैरेंटी से भाजपा के घोषणा पत्र से अधिक प्रभाव पड़ा मोदीजी की गैरेंटी का। इससे महिलाओं ने भी बढ़-चढ़कर भाजपा को वोट किया। इन घोषणाओं में एक महत्वपूर्ण घोषणा हर विवाहित महिला को हर माह एक हजार रूप्ये दिया जाना भी है। जैसे-जैसे वक्त बीतता जा रहा है भाजपा सरकार की जान सांसत में है कि हर महिला को एक हजार देेने से जो राशि लगेगी वो कहां से आएगी।  हालांकि शुरू इस कश्मकश मे मुख्यमंत्री विष्णुदेव साय जी भी इसका हल ढूंढने का प्रयास करते रहे और कदाचित् अब इस घोषणा में कुछ ‘किन्तु-परन्तु’ लगाने का रास्ता निकाला जा रहा था। लेकिन फिर शायद मोदीजी की गैरेंटी ने सरकार के मंसूबों पर घंटा बजा दिया कि मोदीजी के वायदे तो एनी आउ पूरे करने ही हैं। तब विष्णुदेव साय का...
वरिष्ठ पत्रकार जवाहर नागदेव की खरी… खरी… भाजपा नेताओं के यहां भी पड़ेंगे छापे कोई मोदी की ईमानदारी को न नापे
खास खबर, छत्तीसगढ़ प्रदेश, रायपुर

वरिष्ठ पत्रकार जवाहर नागदेव की खरी… खरी… भाजपा नेताओं के यहां भी पड़ेंगे छापे कोई मोदी की ईमानदारी को न नापे

एनसीपी प्रमुख शरद पवार के पोेते विधायक रोहित पवार को महाराष्ट्र राज्य सहकारी बैंक में घोटाले के संबंध में और शिवसेना उद्धव गुट के सांसद बड़बोले संजय राउत के छोटे भाई संदीप राउत को कोविड के दौरान हुए खिचड़ी घोटाले में पूछताछ के लिये ईडी ने बुलावा भेजा है। ईधर बंगाल में तृणमूल कांग्रेस के नेता शाहजहां शेख के घर से पिछले दिनों पिटकर और अपमानित होकर लौट ईडी के अधिकारियों ने दोबारा छापा मारा है। इस बार सुरक्षा की दृष्टि से ईडी की टीम अपने साथ अर्धसैनिक बल के 120 जवान साथ लेकर गयी थी। इस बीच बहुत से काले कागजात शेख ने गायब कर दिये। लेकिन फिर भी ईडी के पास पर्याप्त आधार होगा तभी हाथ डाला है। खैर...  कब तक खैर मनाएगी बकरे की अम्मा। कितनी भी उछलकूद कर ले पर एक दिन लंबा जाएगा शेख। उछलकूद में केजरीवाल का भी कोई सानी नहीं। ईडी के साथ आंखमिचैली करके वे कहां तक भाग पाएंगे। कहां तक बच पाएंगे। एक न ...
वरिष्ठ पत्रकार जवाहर नागदेव की कलम… टेक इट ईज़ी अखिलेश के यहां सें हुई टोंटी चोरी शिव डहरिया के बंगले से टीवी-एसी
खास खबर, छत्तीसगढ़ प्रदेश, रायपुर, लेख-आलेख

वरिष्ठ पत्रकार जवाहर नागदेव की कलम… टेक इट ईज़ी अखिलेश के यहां सें हुई टोंटी चोरी शिव डहरिया के बंगले से टीवी-एसी

जब भी कोई किराएदार मकान खाली करता है तो वो मकान से लगाव नहीं दिखाता, चाहे वो कितना भी लंबा समय वहां रहा हो या कितनी भी उसकी यादें उस घर से जुड़ी हों, बल्कि जितना तिया-पांचा कर सकता है, करता है, जितना माल भसका सकता है, भसका लेता है। कुछ बरस पूर्व जब यूपी के सपा नेता अखिलेश यादव ने बड़ी बेदिली से दिल्ली का बंगला खाली किया था तो इस बात से खुन्नस खाकर कि केंद्र सरकार ने उनके साथ कोई मुरव्वत नहीं की, अखिलेश यादव ने बड़े ही बेमुरव्वत ढंग से बंगले के नल की टांेटियां निकाल दीं जिसे टोंटी चोरी के नाम से प्रचारित किया जाता रहा है। हम नहीं कह रहे हैं भाई.... । नहीं तो इस जिसकी लाठी उसकी भैंस की परंपरा कायम है तो हम ही को घेर लो.... इस बार छत्तीसगढ़ में नवनियुक्त स्वास्थ्यमंत्री श्याम बिहारी जायसवाल ने जब आबंटित बंगले में प्रवेश किया तो दंग रह गये। उन्हें जगह-जगह  एसी और टीवियां गायब मिलीं। उन्हो...
वरिष्ठ पत्रकार जवाहर नागदेव की खरी… खरी…शैलजा गयीं, अब पायलट, सिंहदेव, भूपेश’  सम्हालेंगे मिलकर छत्तीसगढ़ कांग्रेस’ 11 को सचिन पायलट आएंगे’ लोकसभा जीतने की राह बताएंगे’
खास खबर, लेख-आलेख

वरिष्ठ पत्रकार जवाहर नागदेव की खरी… खरी…शैलजा गयीं, अब पायलट, सिंहदेव, भूपेश’  सम्हालेंगे मिलकर छत्तीसगढ़ कांग्रेस’ 11 को सचिन पायलट आएंगे’ लोकसभा जीतने की राह बताएंगे’

निश्चित ही कोई भी घर नहीं बैठा है।  दोनों प्रमुख दल कमर कसे हुए हंै। भाजपा और कांग्रेस दोनों ने ही लोकसभा चुनावों को चुनौती की तरह लिया है। हालांकि इसमें कोई दो मत नहीं कि अंदर और बाहर दोनों ही स्थानों पर सभी इस बात से वाकिफ हैं कि कांग्रेस की राह कठिन है। इतिहास में देखें तो विधानसभा चुनावों में चाहे नतीजे कैसे भी हों लोकसभा मोदीजी लूट लेते हैं। और इस बार तो प्रदेश में कांग्रेस की स्थिति भाजपा से कमजोर ही है। हाल में कांग्रेस ने अपनी सत्ता गंवाई हैं। पांच साल पहले विधानसभा में जो बेहतरीन प्रदर्शन किया था कांग्रेस ने और लगातार बाद के वर्षों में, उपचुनावों में, स्थानीय निकायों में प्रदर्शन करती आई थी वो अपने आप में तारीफ के काबिल है। लेकिन चुनाव आते तक अति आत्मविश्वास से लबरेज कांग्रेस के काफी कदम गलत पड़ते चले गये। जिससे जनता अंदर से नाराज हो गयी और इसे बड़े-बड़े राजनेता भी भांप नहीं पा...
वरिष्ठ पत्रकार जवाहर नागदेव की खरी… खरी… ‘आप’ कतार में हैं….. ईडी की, भसकाया है बेहिसाब माल, अब साजन चले ससुराल, अब तुम्हारे हवाले वतन साथियों….
खास खबर, छत्तीसगढ़ प्रदेश, रायपुर, लेख-आलेख

वरिष्ठ पत्रकार जवाहर नागदेव की खरी… खरी… ‘आप’ कतार में हैं….. ईडी की, भसकाया है बेहिसाब माल, अब साजन चले ससुराल, अब तुम्हारे हवाले वतन साथियों….

बंगाल में टीएमसी नेता के घर ईडी के छापे से सनसनी फैल गयी है। सनसनी छापे से नहीं, छापा तो अब आम हो गया है। छापा तो वन बाई वन सारे ईडी की नजर में बेईमान समझे जाने वाले नेताओं के यहां पड़ रहा है। आम आदमी पार्टी दिल्ली के यहां पड़ने वाला हैै। पड़ने वाला इसलिये कि इस पार्टी के दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल अपनी बेईमान करतूतों की वजह से ईडी के घेरे में हैं। बहरहाल...  सनसनी इसलिये कि छापे के बाद वहां नेता के समर्थकों ने ईडी की टीम पर हमला कर दिया। अच्छा खासा हमला। वहां से टीम को जान बचाकर भागना पड़ा। हालांकि ये राहत नेताजी को तात्कालिक है। कहीं-कहीं के लोग बड़े तेज और बदमाश होते हैं तो स्थानीय पुलिस वहां जाती नहीं। वहां के अपराधियों को पकड़ने की हिम्मत नहीं जुटा पाती। लेकिन अगर ऐसी स्थिति आ जाए कि उसे पकड़ना ही है तो फिर चाहे माॅब कितनी भी बदमाश हो, कितना भी पथराव और मारपीट का प्रयास करे शा...
वरिष्ठ पत्रकार जवाहर नागदेव की खरी… खरी…राहुल गांधी प्रधानमंत्री बनेंगे, तो नौलखा हार बनवा दूंगा, सोने से आराम सोने से सुकून, सोना सबसे बेहतर, यही है मजमून
खास खबर, छत्तीसगढ़ प्रदेश, रायपुर

वरिष्ठ पत्रकार जवाहर नागदेव की खरी… खरी…राहुल गांधी प्रधानमंत्री बनेंगे, तो नौलखा हार बनवा दूंगा, सोने से आराम सोने से सुकून, सोना सबसे बेहतर, यही है मजमून

एक बार एक गांव का व्यक्ति बैंक गया वहां बाहर एक पोस्टर लगा था ‘सोने पे लोन, कम ब्याज पर’। वह अंदर गया और बोला ‘बताओ कहां सोना है, कितना सोना है, मुझे लोन चाहिये’। एक सोना तो ये हो गया जो मन और शरीर को आराम और सुकून देता है। सोकर आदमी तरोताजा हो उठता है। दूसरा सोना वो होता है जिसे कनक और अंग्रेजी मे गोल्ड कहा जाता है। ये सोना भी मन और शरीर को आराम और सुकून देता है। प्रायः आड़े वक्त पर ये सबसे अच्छा सहयोगी साबित होता है। कभी-कभी इससे जान को खतरा भी हो जाता है। कनक से कनक अधिक नशीला ‘कनक, कनक ते सौ गुनी मादकता अधिकाय, इहि पाए बौराए नर, उही पाए बौराए’ यहां एक कनक वो फूल है जो धतूरा भी कहलाता है और ये मादक यानि नशीला होता है। ये वाला कनक भगवान शंकर को बहुत पसंद है इसलिये इसे भगवान के चरणों में अर्पित करने की प्रथा है। इसके सूंघने से इंसान पर नशा छा जाता है। ठीक वैसा ही नशा इंसान को दूसर...
वरिष्ठ पत्रकार जवाहर नागदेव की खरी… खरी…कितना धन अधिकारियों के पास, सदा सकेलने मे लिप्त अधिकारी, जानेगा अब देश सारा, सरकार ने किया नोटिस जारी
खास खबर, छत्तीसगढ़ प्रदेश, रायपुर, लेख-आलेख

वरिष्ठ पत्रकार जवाहर नागदेव की खरी… खरी…कितना धन अधिकारियों के पास, सदा सकेलने मे लिप्त अधिकारी, जानेगा अब देश सारा, सरकार ने किया नोटिस जारी

छत्तीसगढ़ मे यदि गहन जांच की जाए तो पता चलेगा कि सरकार के बजट से अधिक काला धन अपने अधिकारियों के पास है। हर काम में अधिकारियों का हिस्सा रहता है ये एक ओपन सीक्रेट है। बिना कमीशन किसी भी काम का कोई भी बिल पास नहीं होता। सरकार के पास जितना धन होता है उसका एक बड़ा हिस्सा अधिकारियों, ठेकेदारो और सप्लायर्स के पास जाना तय है। पूरा सिस्टम ही ऐसा है। सरकारी नौकरी की चाहत ही इसलिये होती है क्योंकि प्राईवेट नौकरी में तो केवल तनख्वाह मिलती है लेकिन सरकारी नौकरी में तनख्वाह के साथ कमीशन भी। और ये कमीशन तनख्वाह से कई गुना ज्यादा होती है। लेकिन खुशी की बात ये है कि पिछले दस सालों में काले धन वालों का चैन खतम हो गया है। केन्द्र सरकार ने ऐसा टाईट किया है कि रातों की नींद खराब हो गयी है। जो अभी खा-पी रहे हैं वे भी और जो पहले खाकर डकार चुके हैं वे भी भयभीत से हैं। तलवार लगातार लटक रही है। संपत्ति की ज...
वरिष्ठ पत्रकार जवाहर नागदेव की खरी… खरी…राजेश खन्ना 81 वीं जयन्ती, अमिताभ पर्दे पर, कांग्रेस ढल रही मगर,
खास खबर, छत्तीसगढ़ प्रदेश, रायपुर, लेख-आलेख

वरिष्ठ पत्रकार जवाहर नागदेव की खरी… खरी…राजेश खन्ना 81 वीं जयन्ती, अमिताभ पर्दे पर, कांग्रेस ढल रही मगर,

राजेश खन्ना,अमिताभ बच्चन। अमिताभ बच्चन का नाम आपने सुना है क्या ? ना... ना... नाराज न हों। मै जानता हूं कि ऐसा देश में कौन होगा जो अमिताभ बच्चन का नाम न जानता हो, यानि सब जानते हैं। आज तक टीवी पर कौन बनेगा करोड़पति के नाम पर छाए हुए हैं। खैर अमिताभ बच्चन के अलावा क्या आपने राजेश खन्ना का नाम सुना है ? कई ऐसे हांेगे जिन्होनें नहीं भी सुना होगा। क्यंोंकि स्व राजेश खन्ना एक समय तो सुपर स्टार रहे। अमिताभ से आगे, पर बाद में वे पिक्चर से गायब से हो गये। स्क्रीन से गायब को लोग भला कहां याद रखते हैं ? लंबा समय उन्होंने अपने अतीत को याद कर और शायद दुखी होकर बिताया। फिर हम सबको छोड़कर परमात्मा में विलीन हो गये। अमिताभ आज तक पर्दे पर हमसे रूबरू होते रहते हैं। इन दोनों महान कलाकारों की एक बेहतरीन फिल्म आई थी ‘नमक हराम’। इस फिल्म में ईमानदार मजदूर नेता एके हंगल मजदूरों के हित में काम करते हु...