Thursday, May 23

जो गरियाए हैं मोदी को, चीखे हैं, अकड़े हैं, आज दौड़-दौड़कर भाजपा की गाड़ी पकड़े हैं, हमें प्रवेश कराने में मुश्किल: विष्णु देव साय (वरिष्ठ पत्रकार जवाहर नागदेव की खरी… खरी…)

 

एक महत्वपूर्ण ट्रेन जिसे बहुत दूर तक बहुत प्यारे सफर में जाना है। जिसमें सफर करना हर किसी को सौभाग्य लगता है।
आज के माहौल में इसमे चढ़ने के लिये सारे आतुर हैं।
जिन्हे दूसरी गाड़ियों में कन्फर्म टिकट नहीं मिल रही वे दे दनादन इस पहली वाली गाड़ी में चढ़ते जा रहे हैंे। लेकिन इसमें भी किसी-किसी को ही कन्फर्म टिकट मिल पा रही है।

कन्फर्म टिकट न मिलने के बावजूद भी इसमें चढ़ने को लोग लालायित हैं। आरामदायक लंबी और सुरक्षित यात्रा जो करनी है।

पहली टेªन ठसाठस भरी जा रही है। लोग ठंस-ठंस के खड़े, हैं एक-दूसरे पर गिरे पड़ रहे हैं। मगर तनावरहित हैं, खुश हैं, उत्साह से हंस रहे हैं। प्रसन्न हैं। कहकहे लगा रहे हैं।

और दूसरे टेªन में जो पहले से बैठे हैं वे निराश दिख रहे हैं। जिनकी टिकट इस दूसरी टेªन मे कन्फर्म है वे भी आशान्वित नहीं हैं। आत्मविश्वास डिग रहा है। टिकट छिन जाने से भयभीत हैं।

उन्हें लगता है कि 4 जून के बाद उन्हें इस टेªन से उतार दिया जाएगा। उन्हे ंयकीन नहीं कि ये टेªन उन्हें मंजिल तक पहुंचा पाएगी।

कांग्रेस की खाली
और भाजपा की भरी जा रही

कुछ समझ में आया क्या ? पहली टेªन है भारतीय जनता पार्टी और दूसरी टेªन हैं अन्य विपक्षी दल, विशेष रूप से कांग्रेस।

और मंजिल है सत्तासुख।
जिन्हें भी कांग्रेस में टिकट नहीं मिल पा रही है वे नाराज़ होकर लपक-लपक कर भाजपा ज्वाईन कर रहे हैं।

कुछ ऐसे भी हैं जिन्हें कांग्रेस टिकट देने को भी तैयार है पर वे डूबत खाते में नहीं जाना चाहते।
लिहाजा कांग्रेस से अपना पल्लू छुड़ाकर भाजपा में प्रवेश ले रहे हैं।
ये समझ चुके हैं कि इस समय कांग्रेस का दामन थामे रहने से उनके राजनैतिक सफर का ‘दि एण्ड’ तय है।

क्योंकि पार्टी को सत्ता मिलना दिन में देखे गये सपने से अधिक कुछ नहीं। जब सत्ता दूर-दूर तक नज़र नहीं आ रही है तो सत्तासुख कैसे मिलेगा।
भाजपा मे रहने से कम से कम सत्ता के आसपास मण्डराते रहेंगे।

छत्तीसगढ़ में भाजपा के डब्बों में खड़े होने की भी जगह बमुश्किल मिल रही है।

फिर भी महत्वूर्ण दल कांग्रेस के अलावा आम आदमी पार्टी, जोगी कांग्रेस और अन्य छोटे-मोटे दलों के कुछ नेता सैकड़ों कार्यकर्ताओं के साथ हर दिन भाजपा में प्रवेश ले रहे हैं।

जो इंसान राजनीति करता है उसे पैसे और पावर की चाह होती है। अब ये सबको अहसास हो गया है कि इनमें से कोई भी चीज भाजपा के बिना नहीं मिल सकती।

किसी भी अन्य दल में अब वो दमखम नहीं दिखता जिससे रूआब कायम रखा जंा सके।

कांग्रेस डूबता जहाज: मुख्यमंत्री साय

छत्तीसगढ़ के मुख्यमंत्री विष्णुदेव साय ने कहा है कि कांग्रेस डूबता जहाज है, सब कांग्रेस छोड़-छोड़कर भाग रहे हैंे और हमें भाजपा में प्रवेश कराने में मुश्किल हो रही है। जहां भी जाओ कांग्रेस के नेता सैकड़ों की संख्या मे हमारी पार्टी में शामिल होना चाहते हैं।

एक खबर के अनुसार फरवरी और मार्च केवल इन दो महीनों में ही लगभग तीन हजार कांग्रेस के छोटे-बड़े नेता भाजपा में दाखिल हो चुके हैं।

सारे देश का आलम एक सा
कंग्रेस को जीतता देखकर
भाजपा छोड़ने वाले बेहद दुखी

ये हालत केवल छत्तीसगढ़ की नहीं है बल्कि सारे देश में यही हालत है।

हर प्रदेश में नेता और कार्यकर्ता कांगे्रस से अपना पिण्ड छुड़ाना चाहते हैं और लगातार ये सिलसिला जारी है।

छत्तीसगढ़ में सबसे ज्यादा दुखी तो वे कांग्रेसी नेता हैं जिन्होंने विधानसभा चुनाव 2023 के पहले कांग्रेस की जीत जानकर भाजपा छोड़कर कांग्रेस का हाथ थाम लिया था।

पर बाद में उन्हें कांग्रेस ने भी टिकट नहीं दी।

ऐसे में उन्हें अपने भाजपा छोड़ने का गम तो हुआ पर ये जानकर सुखी हुए कि कांग्रेस की पराजय हुई। इनमें से कईयों ने तो फिर से कांग्रेस का साथ छोड़ दिया है।

अब वे फिर से किसी अच्छे स्टेशन का इंतजार कर रहे हैं जब वे फिर से भाजपा की  ट्रेन पकड़ सकें।
—————————-
जवाहर नागदेव, वरिष्ठ पत्रकार, लेखक, चिन्तक, विश्लेषक
मोबा. 9522170700
‘बिना छेड़छाड़ के लेख का प्रकाशन किया जा सकता है’
—————————-

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *